आनलाइन माध्यम से ही छात्रों को करनी होगी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी, डीडीएमए के फैसले से छात्रों में उदासी

प्रधानाचार्यों के मुताबिक उन्हें उम्मीद थी कि डीडीएमए की बैठक में स्कूल खोले जाने को लेकर निर्णय लिया जाएगा। लेकिन अब स्कूल न खोले जाने से छात्रों को सीबीएसई के सैंपल पेपर से आनलाइन माध्यम से लिखित परीक्षा की तैयारी कराई जाएगी।

Prateek KumarPublish: Thu, 27 Jan 2022 08:52 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 08:52 PM (IST)
आनलाइन माध्यम से ही छात्रों को करनी होगी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी, डीडीएमए के फैसले से छात्रों में उदासी

नई दिल्ली [रीतिका मिश्रा]। राजधानी में फिलहाल स्कूल बंद रहेंगे। सत्र 2021-22 की टर्म -2 की बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी के लिए छात्र स्कूल खुलने का बेसब्री से इंतजार रहे थे। लेकिन, बृहस्पतिवार को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में स्कूल न खोलने के निर्णय के बाद छात्रों को बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी आनलाइन माध्यम से ही करनी होगी।

सैंपल पेपर की आनलाइन माध्यम से होगी लिखित परीक्षा की तैयारी

प्रधानाचार्यों के मुताबिक उन्हें उम्मीद थी कि डीडीएमए की बैठक में स्कूल खोले जाने को लेकर निर्णय लिया जाएगा। लेकिन अब स्कूल न खोले जाने से छात्रों को सीबीएसई के सैंपल पेपर से आनलाइन माध्यम से लिखित परीक्षा की तैयारी कराई जाएगी। वहीं, प्रायोगिक परीक्षा की तैयारी को लेकर भी योजना बनाई जाएगी।

मार्च-अप्रैल में टर्म-2 की होगी बोर्ड परीक्षाएं

द्वारका सेक्टर-9 स्थित आइटीएल पब्लिक स्कूल की प्रधानाचार्या सुधा आचार्या ने कहा कि मार्च-अप्रैल में टर्म-2 की बोर्ड परीक्षाएं होनी है। अभी तक छात्रों ने प्रायोगिक विषयों तक की तैयारी नहीं की है। स्कूल खुलना सबसे पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। लेकिन शिक्षा को प्राथमिकता पर न रखने का नुकसान बच्चों को झेलना पड़ रहा है। हमारी योजना थी कि स्कूल खुलते ही फरवरी में छात्रों को प्रायोगिक विषयों की तैयारी कराई जाएगी और फिर इस विषय की परीक्षा लेकर फरवरी के आखिरी सप्ताह से छात्रों का माक टेस्ट लेकर परीक्षा के लिए तैयार करना था।

सभी को था स्कूल खोलने का इंतजार

चूंकि अब स्कूल नहीं खोले जा रहे हैं तो अब छात्रों को परीक्षा के लिए आनलाइन माध्यम से तैयारी कराई जाएगी।

वहीं, पुष्प विहार स्थित बिरला विद्या निकेतन स्कूल की प्रधानाचार्या मीनाक्षी कुश्वाहा ने बताया कि छात्र, अभिभावकों के साथ-साथ शिक्षकों को भी स्कूल खुलने का इंतजार था। लेकिन अब स्कूल नहीं खोले जा रहे हैं तो छात्रों को टर्म-2 की लिखित व प्रायोगिक परीक्षाओं की आनलाइन माध्यम से तैयारी कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि शिक्षक प्रायोगिक विषयों की तैयारी के लिए रसायन विज्ञान, भौतिकी और जीव विज्ञान से संबंधित प्रयोगों का वीडियो रिकार्ड कर छात्रों को भेज रहे हैं। ताकि छात्रों की थोड़ी तैयारी हो सके।

छात्र हुए मायूस

स्कूल न खोले जाने से सबसे ज्यादा मायूसी बोर्ड के छात्रों को हुई है। छात्रों के मुताबिक माल, सिनेमा हाल और बाजार खोले गए हैं। लेकिन शिक्षा को दरकिनार किया गया है। छात्रा चार्वी के मुताबिक बोर्ड परीक्षाएं नजदीक हैं ऐसे में शिक्षा को दरकिनार करना सही निर्णय नहीं है। स्कूलों को न खोले जाने से अब परीक्षा की चिंता सताने लगी है। वहीं, छात्र आशीष के मुताबिक स्कूल न खोने जाने की वजह से परीक्षाओं की तैयारी में समस्या आएगी। स्कूल जाकर विषय को गहराई से समझने के लिए लैब में विषय से संबंधित प्रयोग करने से काफी मदद मिलती है।

Edited By Prateek Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept