Haryana Politics: दीपेंद्र हुड्डा को हरियाणा का अगला सीएम बनाना चाहते हैं कांग्रेस के विधायक, अयोध्या में की गई प्रार्थना

Haryana Politics राजधानी दिल्ली से सटे फरीदाबाद एनआइटी के कांग्रेस के विधायक नीरज शर्मा ने दीपेंद्र हुड्डा की उपस्थिति में यूपी के अयोध्या शहर में रामलला से प्रार्थना की कि उनके नेता दीपेंद्र हुड्डा हरियाणा के अगले मुख्यमंत्री बने।

Jp YadavPublish: Tue, 17 May 2022 12:30 PM (IST)Updated: Tue, 17 May 2022 12:33 PM (IST)
Haryana Politics: दीपेंद्र हुड्डा को हरियाणा का अगला सीएम बनाना चाहते हैं कांग्रेस के विधायक, अयोध्या में की गई प्रार्थना

नई दिल्ली [बिजेंद्र बंसल]। उदयपुर चिंतन शिविर में कांग्रेस हाई कमान ने हरियाणा के भूपेंद्र सिंह हुड्डा और उनके पुत्र दीपेंद्र हुड्डा को खूब महत्व दिया। कांग्रेसाध्यक्ष सोनिया गांधी ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा कमेटी द्वारा कृषि और किसान कल्याण के लिए तैयार की गई सिफारिशों की प्रशंसा की। इससे उत्साहित होकर दीपेंद्र हुड्डा सोमवार बुध पूर्णिमा के दिन अयोध्या में राम लला के दर्शन करने पहुंचे। दीपेंद्र ने अयोध्या में रामलला के दर्शनों के बाद हनुमानगढ़ी में भी दर्शन किए।नीरज शर्मा के समर्थक इस दौरान दीपेंद्र हुड्डा जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। स्वयं दीपेंद्र हुड्डा भी नीरज शर्मा की प्रार्थना पर मंद-मंद मुस्कुरा रहे थे।

असल में दीपेंद्र हुड्डा अयोध्या में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमाेद कृष्णन् के साथ फरीदाबाद एनआइटी क्षेत्र से पार्टी विधायक नीरज शर्मा के संकल्पपूर्ति कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए थे। नीरज शर्मा ने हरियाणा में भ्रष्टाचार के खिलाफ विधानसभा में आवाज बुलंद करते हुए संकल्प लिया था कि जब तक फरीदाबाद नगर निगम में हुए 200 करोड़ रुपये के घोटाले के आरोपी नहीं पकड़े जाते तब तक वे तन पर सिले हुए वस्त्र और पैरों में जूते नहीं पहनेंगे। इस घोटाले में हरियाणा स्टेट विजिलेंस ने ठेकेदार सतबीर और मुख्य अभियंता डीआर भास्कर की गिरफ्तारी कर ली है। इसलिए नीरज शर्मा को उनके समर्थक रामनगरी अयोध्या में कपड़े व जूते पहनाने गए थे।

खुद भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी दीपेंद्र को सौंपना चाहते हैं राजनीतिक विरासत

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और दीपेंद्र हुड्डा के पिता भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी अपनी राजनीतिक विरासत अपने बेटे को सौंपने की तैयारी कर चुके हैं। भूपेंद्र हुड्डा हरियाणा कांग्रेस में बदलाव के समय चाहते थे कि उनके पुत्र दीपेंद्र को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान दे दी जाए। हाई कमान ने अनुसूचित जाति से संबंधित पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा को प्रदेशाध्यक्ष पद से हटाकर केवल अनुसूचित जाति का ही प्रदेशाध्यक्ष बनाने का आदेश दिया था। इसके चलते हुड्डा ने अपने खेमे के पूर्व विधायक उदयभान को प्रदेशाध्यक्ष बनवाया था। उदयभान अनुसूचित जाति से संबंध रखते हैं।

दीपेंद्र ने अपने मुख से नहीं जताई दावेदारी

विधायक नीरज शर्मा सहित हुड्डा परिवार के अतिउत्साही समर्थक विधायक और कार्यकर्ता समय-समय पर दीपेंद्र हुड्डा को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार मानते हुए नारेबाजी करते रहे हैं। कई बार तो भूपेंद्र हुड्डा के समक्ष भी कार्यकर्ता दीपेंद्र को भावी मुख्यमंत्री कह जाते। भूपेंद्र हुड्डा इस पर मुस्कुरा देते मगर कभी विरोध नहीं करते। हां, दीपेंद्र हुड्डा ने कभी स्वयं के मुख से सीएम पद पर दावेदारी नहीं की। दीपेंद्र ने अपने समर्थकों को भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समक्ष भावी मुख्यमंत्री कहने पर रोका भी नहीं।

Edited By Jp Yadav

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept