दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण खराब श्रेणी में, अगले दो दिन नहीं होगा सुधार

Delhi Pollution Update वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान प्रणाली (सफर) पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) के मुताबिक दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 262 है जबकि इससे पहले बुधवार को यह 236 था। इस लिहाज से दिल्ली में वायु प्रदूषण बुधवार को तुलना में बृहस्पतिवार को अधिक खराब है।

Jp YadavPublish: Thu, 27 Jan 2022 10:56 AM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 10:56 AM (IST)
दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण खराब श्रेणी में, अगले दो दिन नहीं होगा सुधार

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण का स्तर एक बार फिर खराब श्रेणी में पहुंच गया है। सफर इंडिया का कहना है कि दिल्ली-एनसीआर में आगामी दो दिन तक यानी बृहस्पतिवार और शुक्रवार को एयर इंडेक्स खराब श्रेणी में ही रहेगा। इसके बाद हवा की रफ्तार बढ़ने और वेंटीलेशन में सुधार होने से वायु गुणवत्ता भी और बेहतर हो सकती है। वहीं, वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान प्रणाली (सफर) पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (एमओईएस) के मुताबिक, दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 262 है, जबकि इससे पहले बुधवार को यह 236 था। इस लिहाज से दिल्ली में वायु प्रदूषण बुधवार को तुलना में बृहस्पतिवार को अधिक खराब है। फिलहाल दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब श्रेणी में है। 'सफर इंडिया' के मुताबिक दिल्ली एनसीआर में हर साल सर्दियों के दौरान दिल्ली एनसीआर में रहने वाले लोग प्रदूषण की चपेट में आ जाते हैं। इस दौरान पूरे दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण और जहरीली हवा उनकी सांसों पर भारी पड़ने लगती है। 

बुधवार को भी खराब श्रेणी में रही दिल्ली-एनसीआर की हवा

बुधवार को भी दिल्ली- एनसीआर की वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी बुलेटिन के अनुसार बुधवार को दिल्ली का एयर इडेक्स 260 रहा। एनसीआर में फरीदाबाद का एयर इंडेक्स 248, गाजियाबाद का 247, ग्रेटर नोएडा का 206, गुरुग्राम का 236 और नोएडा का 218 रिकार्ड किया गया। दिल्ली में पीएम 2.5 का स्तर 106 और पीएम 10 का स्तर 198 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा। सफर इंडिया का कहना है कि दो दिन एयर इंडेक्स खराब श्रेणी में ही रहेगा। इसके बाद हवा की रफ्तार बढ़ने और वेंटीलेशन में सुधार होने से वायु गुणवत्ता भी और बेहतर हो सकती है। 

Edited By Jp Yadav

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept