दिल्ली में गणतंत्र दिवस से पहले स्पेशल सेल ने पकड़ी हथियारों की बड़ी खेप, दो तस्कर गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दो और अंतरराज्यीय कुख्यात हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से मध्यप्रदेश निर्मित 25 अवैध सेमी आटोमैटिक पिस्टल बरामद की गई है। आरोपित दिल्ली-एनसीआर के बदमाशों को उक्त हथियार आपूर्ति करना चाहते थे।

Mangal YadavPublish: Tue, 25 Jan 2022 02:55 PM (IST)Updated: Tue, 25 Jan 2022 02:55 PM (IST)
दिल्ली में गणतंत्र दिवस से पहले स्पेशल सेल ने पकड़ी हथियारों की बड़ी खेप, दो तस्कर गिरफ्तार

नई दिल्ली [राकेश कुमार सिंह]। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दो और अंतरराज्यीय कुख्यात हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से मध्यप्रदेश निर्मित 25 अवैध सेमी आटोमैटिक पिस्टल बरामद की गई है। आरोपित दिल्ली-एनसीआर के बदमाशों को उक्त हथियार आपूर्ति करना चाहते थे। इससे पहले दोनों सेल के हत्थे चढ गए। गणतंत्र दिवस से पहले स्पेशल सेल ने एक सप्ताह के दौरान तीसरी बार हथियारों की खेप बरामद किया है। डीसीपी राजीव रंजन सिंह के मुताबिक गिरफ्तार किए गए तस्करों के नाम रवि खान व राहुल सिंह छाबड़ा है। रवि मूलरूप से यूपी के प्रयागराज का रहने वाला है। 2003 में पहली बार उसे प्रयागराज पुलिस ने गुंडा एक्ट में गिरफ्तार किया था। उसके बाद उसी वर्ष उसे एनडीपीएस अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था। जेल में वह अवैध हथियार आपूर्तिकर्ताओं के संपर्क में आया और उसके बाद अवैध हथियारों और गोला-बारूद बेचने का धंधा शुरू कर दिया।

वह सहआरोपित राहुल सिंह और मप्र के अन्य तस्करों सहित हथियार निर्माताओं से अवैध पिस्टल खरीद उसे दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और यूपी के अपराधियों को बेचता था। वह जिस कीमत में पिस्टल खरीदता था उसमें प्रति पिस्टल 10 से 15 हजार रुपये अधिक कीमत में बेचता था। वह खुद के बारे में बदमाशों को यूपी पुलिस का बर्खास्त पुलिसकर्मी बताता था। उसके खिलाफ उत्तर प्रदेश के विभिन्न थानों में एनडीपीएस अधिनियम, यूपी गुंडा अधिनियम, हत्या के प्रयास, हथियार अधिनियम, गैंगस्टर अधिनियम सहित 15 आपराधिक मामले दर्ज है।

राहुल सिंह मूलरूप से गांव बरिया, जिला धार, एमपी का रहने वाला है। वह अपने गांव और आसपास के इलाके में अवैध हथियार बनाने वालों से हथियार खरीद उसे कभी सीधे व कभी रवि खान के साथ मिलकर दिल्ली, यूपी, हरियाणा और राजस्थान के अपराधियों को बेच देता था। राहुल का विदेश में रहने वाले कई आपराधियों से साठगांठ है। उनसे हवाला के जरिए वित्तीय लेनदेन होता था।

पिछले साल सेल ने हथियार तस्करों के कई मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया गया था। राम शबद और आकाश डावर से पूछताछ में पता चला था कि राहुल सिंह छाबड़ा और उसके सहयोगी, खरगोन, धार, बड़वानी और बुरहानपुर (एमपी) से हथियार खरीदकर उसे यूपी और दिल्ली एनसीआर में बदमाशों को आपूर्ति कर रहे हैं। जिसके बाद इस सिंडिकेट के सदस्यों की गतिविधियों पर गुप्त निगरानी रखी गई। 15 जनवरी को सेल की टीम ने मुकुंदपुर से प्रयागराज निवासी रवि खान को पकड़ा।

वह दिल्ली में अपने अन्य साथियों को अवैध हथियारों की खेप सप्लाई करने पहुंचा था। उसके पास से 15 सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल बरामद हुई। पूछताछ में रवि खान ने बताया कि वह उसने उक्त अवैध हथियार अपने सहयोगी राहुल, निवासी धार, एमपी के साथ मिलकर खरीदे थे। उसके बाद 16 जनवरी सेल ने राहुल सिंह को भी मध्य प्रदेश से गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर 20 जनवरी 10 और पिस्टल बरामद की गई।

Edited By Mangal Yadav

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept