This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कोरोनावायरस के संक्रमण से ठीक हुए बच्चों में दिख रहे एमआइएस-सी के मामले, जानिए क्या है ये लक्षण

कोरोना से ठीक हुए बच्चों में एमआइएस-सी के मामले सामने आ रहे हैं। पहली लहर में भी बच्चों में इस तरह के मामले देखे गए थे। एम्स के डाक्टर कहते हैं कि कोरोना का संक्रमण ठीक होने के दो सप्ताह से दो माह बाद तक यह समस्या हो सकती है।

Vinay Kumar TiwariMon, 31 May 2021 06:45 PM (IST)
कोरोनावायरस के संक्रमण से ठीक हुए बच्चों में दिख रहे एमआइएस-सी के मामले, जानिए क्या है ये लक्षण

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। कोरोना से ठीक हुए बच्चों में मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम (एमआइएस-सी) के मामले सामने आ रहे हैं। कोरोना की पहली लहर में भी बच्चों में इस तरह के मामले देखे गए थे। एम्स के डाक्टर कहते हैं कि कोरोना का संक्रमण ठीक होने के दो सप्ताह से दो माह बाद तक यह समस्या हो सकती है। इससे घबराने की जरूरत नहीं, इसका इलाज संभव है। इसके साथ ही डाक्टर कोरोना से ठीक होने के बाद भी बच्चों की बेहतर देखभाल की जरूरत पर जोर देते हैं।

एम्स के पीडियाट्रिक विभाग के प्रोफेसर डा. एसके काबरा का कहना है कि जरूरी नहीं है कि कोरोना से बीमार हुए बच्चे ही एमआइएस-सी से पीडि़त हों, ऐसे बच्चे भी इस बीमारी से पीडि़त पाए गए हैं, जिन्हें कोरोना संक्रमण तो हुआ लेकिन लक्षण नहीं दिखे। ऐसे बच्चों में अक्सर संक्रमण से उबरने के बाद बुखार, सांस लेने में परेशानी, त्वचा पर चकत्ते, मुंह में छाले, दस्त, उल्टी व पेट में दर्द की समस्या देखने को मिली है।

बच्चे का ब्लड प्रेशर कम हो तो तुरंत इलाज कराना जरूरी

एम्स के पीडियाट्रिक विभाग के पल्मोनरी व क्रिटिकल केयर की विशेषज्ञ डा. झुमा शंकर ने कहा कि कोरोना के संक्रमण के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता अनियंत्रित हो जाती है। इस वजह से मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम बीमारी होती है और शरीर के कई हिस्से प्रभावित हो जाते हैं। इलाज के दौरान एंटीबायोटिक के अलावा स्टेराइड, इम्युनोग्लोबुलिन दवा दी जाती है। सांस लेने में परेशानी के कारण कई मरीजों को वेंटिलेटर सपोर्ट देना पड़ता है। इस बीमारी में किडनी, लिवर या शरीर का कोई भी हिस्सा प्रभावित हो सकती है।

इस बीमारी में बच्चों की आंखें लाल हो जाती है, आंख व चेहरे पर सूजन हो जाती है। पिछले साल एम्स में आठ से 10 बच्चे देखे गए थे। वे सभी ठीक हो गए थे। दिक्कत तब होती है जब दो-तीन अंग ठीक से काम करना बंद कर देते हैं। यदि बच्चा खाना पीना छोड़ दे, सुस्त हो तो ब्लड प्रेशर जांच करानी चाहिए। ब्लड प्रेशर कम हो तो मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम हो सकता है। इसका तुरंत इलाज जरूरी है। सफदरजंग अस्पताल में किए गए अध्ययन में एमआइएस-सी के लक्षणों का आकलन किया गया तो बुखार ही एक सामान्य लक्षण है जो सभी में पाया जाता है। अन्य लक्षण किसी में होते हैं किसी में नहीं।

एमआइएस-सी के मामलों में लक्षणों की मौजूदगी लक्षण प्रसार

बुखार- 100 फीसद

मिर्गी या न्यूरो संबंधी परेशानी- 55 फीसद

फेफड़े में संक्रमण- 50 फीसद

त्वचा पर चकते- 35 फीसद

पेट दर्द, उल्टी, दस्त- 25 फीसद

सिर दर्द- 25 फीसद

सांस की नली में संक्रमण- 5 फीसद

ये भी पढ़ेंः Weather Alert: दिल्ली-NCR में मंगलवार को तेज हवा के साथ होगी बारिश, जानें अगले तीन दिन कैसा रहेगा मौसम

ये भी पढ़ेंः पहलवान सागर हत्या मामले में सुशील कुमार का जेल से बाहर आना होगा मुश्किल, दिल्ली पुलिस लगा सकती मकोका

ये भी पढ़ेंः WATCH Chhatrasal Stadium Murder Case Video Footage: उस रात पिस्टल और डंडे से लैस सुशील कुमार और उसके साथी गैंगस्टरों की कारस्तानी

ये भी पढ़ेंः अब कोरोना के खिलाफ जंग में बायोसेफ्टी आटोप्सी लैब की दरकार, जानिए क्या है बायोसेफ्टी आटोप्सी लैब, कैसे करेगा काम

ये भी पढ़ेंः मास्क ठीक से नहीं लगाया तो एसीपी ने हेड कांस्टेबल का काट दिया चालान, पढ़ें कहां पेश किया गया उदाहरण

नई दिल्ली में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!