दिल्ली से पंजाब तक किसान प्रदर्शनकारियों का यू टर्न, 'गद्दार' के लिए जागी हमदर्दी; कर रहे रिहाई की मांग

Deep Sidhu News लाल किला पर हुई हिंसा में दीप सिद्धू का नाम आने पर जो किसान प्रदर्शनकारी उसे गद्दार कह रहे थे वह अब पटल गए हैं। आलम यह है कि किसान प्रदर्शनकारी अपने मंच से ही दीप सिद्धू को रिहा करने की मांग कर रहे हैं।

Jp YadavPublish: Fri, 12 Feb 2021 02:05 PM (IST)Updated: Sat, 13 Feb 2021 07:47 AM (IST)
दिल्ली से पंजाब तक किसान प्रदर्शनकारियों का यू टर्न, 'गद्दार' के लिए जागी हमदर्दी; कर रहे रिहाई की मांग

नई दिल्ली [सोनू राणा]। Deep Sidhu News:  जो नेता पहले लाल किला उपद्रव मामले में गिरफ्तार पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू का बायकाट करते थे वो अब उसकी रिहाई की मांग करने लगे हैं। यह सब हो रहा है ¨सघु बार्डर पर चल रहे किसान मजदूर संघर्ष कमेटी (पंजाब) के मंच से। दरअसल, गुरुवार को सिद्धू व पंजाब के गैंगस्टर लक्खा सिधाना के समर्थक कमेटी के मंच पर पहुंचे और उन्होंने दीप को रिहा करने की मांग की। इसका कमेटी के अध्यक्ष सतनाम सिंह पन्नू की ओर से स्वागत किया गया। सतनाम ने ही उन्हें अपने मंच से बोलने का मौका दिया। उन्होंने इस दौरान सिद्धू व अन्य उपद्रवियों को रिहा करने की मांग की। जबकि इसी मंच से पन्नू व कमेटी के महासचिव सरवन सिंह पंधेर की ओर से राजधानी में किए गए उपद्रव के बाद सिद्धू व सिधाना का बायकाट किया गया था। बता दें, 25 जनवरी को लक्खा सिधाना भी कमेटी के मंच पर पहुंचा था, जबकि दीप संयुक्त किसान मोर्चा के मंच पर गया था। इसके बाद 26 जनवरी को सिधाना पन्नू की जीप में सवार था। आरोप लग रहा है कि इन्हीं दोनों ने प्रदर्शनकारियों को लाल किले की ओर जाने को भड़काया था।

प्रदर्शनकारियों की अगुआई नहीं कर पाए नेता

बाबा राजा सिंह प्रदर्शनकारियों में शामिल निहंग सिंह बाबा राजा सिंह ने धरने पर बैठे पंजाब के कृषि कानून विरोधियों और जत्थेबंदियों (नेताओं) को आड़े हाथ लेते हुए उन्हें खुब बुरा भला कहा। उन्होंने कहा कि नेताओं के आह्वान पर ही पंजाब से नौजवान  सिंघु बॉर्डर आए थे। जब वह लाल किले में चले गए तो इन नेताओं ने ही उनको गद्दार बोलना शुरू कर दिया। इनकी नालायकी की वजह से उन्हें गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि नौजवानों को 26 जनवरी को पंजाब से बुला तो लिया, लेकिन उनकी अच्छे तरीके से अगुआई नहीं कर पाए। अगर नेता उनकी सही अगुआई करते तो यह दिन नहीं देखना पड़ता।

पंजाब के नेताओं से अच्छा तो टिकैत है...

राजा सिंह ने भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत का नाम लेकर दूसरे नेताओं पर हमला किया और कहा, 'तुमसे अच्छा तो टिकैत है, जिसने सरकार से कह दिया कि पहले एफआइआर रद करो फिर कोई वार्ता होगी। इन नेताओं ने लाल किले पर गए नौजवानों को गद्दार कहकर अपने पैर पर खुद कुल्हाड़ी मार ली है। जिस पंजाब के सिर पर आंदोलन की जीत का सेहरा होना चाहिए था वो अब उत्तर प्रदेश के सिर बांधा जाएगा। नेताओं ने खुद हीरो बनने के चक्कर में नौजवानों को पीछे कर दिया और अब वो खुद ही जीरो बन गए हैं।'

आप भी पढ़ें- कैसे रिंकू ने किया था 'इस्लाम' पर एहसान, देश-विदेश में वायरल हो रही है जागरण की यह खबर

 वहीं, लाल किला उपद्रव मामले में गिरफ्तार पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू व अन्य उपद्रवियों को रिहा करने की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को सिंघु बार्डर पर मार्च निकाला गया। मार्च में ज्यादातर नौजवान व महिलाएं ही शामिल थीं। इन्होंने दीप सिद्धू व पंजाब के गैंगस्टर लखवीर सिंह उर्फ लक्खा सिधाना के पोस्टर हाथों में पकड़े हुए थे। इनका कहना था कि सरकार इनको जल्द से जल्द रिहा करे। हरियाणा से शुरू हुई मार्च सिंघु बॉर्डर तक पहुंची।

यह भी बताया जा रहा है कि पंजाब में अमृतसर के बाबा बकाला क्षेत्र से आए प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब के नेताओं से उन्हें रिहा करवाने की मांग की। इस पर सतनाम सिंह पन्नू ने भी सिद्धू समेत सभी गिरफ्तार उपद्रवियों को रिहा करने की बात कही। बता दें कि किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के अध्यक्ष सतनाम सिंह पन्नू व महासचिव सरवन सिंह पंधेर ने लाल किले पर हुए उपद्रव के बाद दीप को गद्दार बताया था और उससे कोई रिश्ता न होने की बात भी कही थी।

Edited By JP Yadav

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept