इस भारतीय खिलाड़ी ने फिर ली हैट्रिक, पेश की टीम इंडिया में आने के लिए दावेदारी

Thu, 07 Dec 2017 06:16 PM (IST)

नई दिल्ली, [जागरण स्पेशल]। इन दिनों टीम इंडिया के बाहर चल रहे तेज़ गेंदबाज़ आर विनय कुमार शानदार फॉर्म में है। विनय कुमार ने नागपुर में खेले जा रहे क्वार्टर फाइनल मैच में दमदार प्रदर्शन किया और मुंबई की टीम को लगातार तीन झटके देकर रणजी ट्रॉफी में अपनी दूसरी हैट्रिक दर्ज कर ली। 

विनय ने इस तरह ली हैट्रिक

कर्नाटक के कप्तान विनय कुमार ने इस मैच में टॉस जीतकर पहले गेंदबाज़ी करने का फैसला किया। मैच के पहले और तीसरे ओवर में हैट्रिक लेकर विनय ने मुंबई की टीम की कमर ही तोड़ दी। पहले ओवर की आखिरी गेंद पर विनय ने पृथ्वी शॉ (02) को करुण नायर के हाथों कैच आउट करवाकर अपना पहला विकेट लिया। इसके बाद तीसरे ओवर की पहली ही गेंद पर विनय ने जय बिष्टा (01) को भी ठीक उसी तरह करुण नायर के हाथों कैच आउट करवाकर दूसरा विकेट चटकाया। अगली गेंद पर आकाश पारकर (00) को एलबीडब्ल्यू आउट कर विनय कुमार ने रणजी ट्रॉफी में अपनी दूसरी हैट्रिक दर्ज कर ली।

पहले भी विनय कुमार कर चुके हैं ये कमाल

विनय कुमार ने इससे पहले 2007-08 के सीजन में महाराष्ट्र के खिलाफ रणजी ट्रॉफी में हैट्रिक ली थी। इसी के साथ वो रणजी ट्रॉफी के इतिहास में चौथे गेंदबाज़़ बन गए हैं जिन्होंने एक से ज़्यादा बार रणजी ट्रॉफी में ली है। इसी के साथ कर्नाटक के लिए इस टूर्नामेंट में हैट्रिक लेने वाले वो अनिल कुंबले के बाद दूसरे खिलाड़ी भी बन गए।

रणजी ट्रॉफी में एक से ज़्यादा हैट्रिक लेने वाले खिलाड़ी

जोगिंदर राव- 03 हैट्रिक- सर्विसेज से खेलते हुए

प्रीतम गंधे- 02 हैट्रिक- विदर्भ के लिए खेलते हुए

अनिल कुंबले- 02 हैट्रिक- कर्नाटक के लिए

विनय कुमार- 02 हैट्रिक- कर्नाटक के लिए

ऐसा करने वाले पहले कप्तान बने विनय कुमार

विनय कुमार रणजी ट्रॉफी के इतिहास में नॉक आउट में हैट्रिक लेने वाले छठे गेंदबाज़ बन गए हैं। इसके साथ ही साथ वो ऐसा करने वाले इकलौते कप्तान भी बन गए। इससे पहले रणजी ट्रॉफी के नॉक आउट मुकाबलों में जो हैट्रिक ली गई थी वो 1993-94 के प्री- क्वार्टर फाइनल में दिल्ली के खिलाफ खेलते हुए बंगाल के सागरमोय सेनशर्मा ने ली थी।

विनय ने प्रसन्ना को छोड़ा पीछे

इस हैट्रिक को लेते ही विनय कुमार कर्नाटक के लिए सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले तीसरे गेंदबाज़ भी बन गए।विनय ने भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज स्पिन गेंदबाज़ रहे ईरपल्ली प्रसन्ना को पीछे छोड़ दिया। प्रसन्ना के नाम रणजी ट्रॉफी में 370 विकेट लेने का रिकॉर्ड था। कर्नाटक के लिए खेलते हुए अब विनय कुमार से आगे सिर्फ सुनील जोशी (479) और बी. चंद्रशेखर (437)  ही आगे हैं। वैसे देखा जाए तो तेज़ गेंदबाज़ों में कर्टनाक के लिए सबसे ज़्यादा विकेट अब विनय कुमार के नाम ही हैं।  

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Tags: # Jagran Special ,  # Vinay Kumar ,  # Prithvi Shaw ,  # Hat trick ,  # Ranji Trophy 2017 ,  # Quarter Final ,  # विनय कुमार ,  # हैट्रिक ,  # पृथ्वी शॉ ,  # रणजी ट्रॉफी ,  # क्वार्टर फाइनल ,  # क्रिकेट , 

PreviousNext
 

संबंधित

इस भारतीय टीम ने रचा इतिहास, कर दिया ऐसा काम, जो पहले नहीं हुआ था कभी

इस भारतीय टीम ने रचा इतिहास, कर दिया ऐसा काम, जो पहले नहीं हुआ था कभी

भारत के क्रिकेट इतिहास में इस टीम ने पहली बार ये काम किया।