पूर्व कोच रवि शास्त्री को आर अश्विन का जवाब, टेस्ट और टी20 खेलने को लेकर दिया था बयान

Viplove KumarPublish: Fri, 05 Aug 2022 06:00 PM (IST)Updated: Fri, 05 Aug 2022 06:00 PM (IST)
पूर्व कोच रवि शास्त्री को आर अश्विन का जवाब, टेस्ट और टी20 खेलने को लेकर दिया था बयान

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी स्पिनर आर अश्विन को हाल ही में टी20 टीम में एक बार फिर से जगह मिली है। उनको इस फार्मेट में वापस बुलाने को लेकर कई दिग्गजों ने सवाल उठाए हैं। इसमें पूर्व कोच रवि शास्त्री ने भी अपनी राय दी थी साथ ही उनका कहना था कि टेस्ट मैच को सिर्फ तीन चार देशों के बीच ही सीमित कर के आइसीसी को घरेलू टी20 लीग को बढ़ावा देना चाहिए। अश्विन ने पूर्व कोच की बातों का जवाब दिया है।

अश्विन बोले, "हाल में रवि भाई ने टेस्ट क्रिकेट को लेकर बात की थी कि इसे तीन या चार देश तक सीमित रखना चाहिए लेकिन जो इसे तीन या चार देशों के बीच ही सीमित कर दिया गया तो फिर आयरलैंड जैसी टीमों को कभी टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका ही नहीं मिलेगा।"

आगे उन्होंने कहा, "आप मुझसे यह पूछ सकते हैं कि टेस्ट क्रिकेट और टी20 क्रिकेट के बीच क्या रिश्ता है। जब आप टेस्ट क्रिकेट में खेलते हैं तभी आपके फर्स्ट क्लास का ढांचा बेहतर हो पाता है और जब आपके फर्स्टक्लास का ढाचा बेहतर होता है तभी खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा खेलने के मौके मिल पाते हैं। जो भी खिलाड़ी फर्स्टक्लास क्रिकेट में बेहतर कर पाते हैं वही अपने खेल को टी20 क्रिकेट के हिसाब से बदल पाते हैं।"

"आप देख सकते हैं कि टॉप तीन टेस्ट खेलने वाले देश, आप चाहें तो टॉप के चार या पांच टेस्ट खेलने वाले देश को रख सकते हैं... भारत, इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया। इन सभी देशों का फर्स्टक्लास का ढाचा बहुत ही मजबूत है बल्कि कुछ तो इसको हासिल करने में संघर्ष करते नजर आ रहे हैं। वहीं भारत ने तो बहुत ज्यादा बेहतर किया है यहां से नवदीप सैनी और वाशिंग्टन सुंदर जैसे खिलाड़ी काउंटी में जाकर अपना जलवा बिखेरा है। ऐसे ही मुझे लगता है कि विदेशी खिलाड़ियों को भी रणजी में आकर खेलने का मौका दिया जाना चाहिए।"

 

Edited By Viplove Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept