This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

रेलवे ने आज 29 ट्रेनों का बदल दिया शिड्यूल, जानिए इस लिस्‍ट में आपकी गाड़ी तो नहीं

Indian Railways ने बुधवार 11 अगस्‍त को 29 ट्रेनों का टाइमटेबल बदला है। इनमें 13 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है जबकि 16 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। इनमें 01915 TDL-ETAH UNRESERVED SPL 04699 PTK-JDNX EXPSPL 05669 GHY-DBRT EXPRESS SPECIAL 06849 TPJ-RMM SPL 08428 PURI-ANGL EXP शामिल है।

Ashish DeepWed, 11 Aug 2021 08:52 AM (IST)
रेलवे ने आज 29 ट्रेनों का बदल दिया शिड्यूल, जानिए इस लिस्‍ट में आपकी गाड़ी तो नहीं

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। Indian Railways ने बुधवार 11 अगस्‍त को 29 ट्रेनों का टाइमटेबल बदला है। इनमें 13 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है जबकि 16 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। इनमें 01915 TDL-ETAH UNRESERVED SPL, 04699 PTK-JDNX EXPSPL, 05669 GHY-DBRT EXPRESS SPECIAL, 06849 TPJ-RMM SPL, 08428 PURI-ANGL EXP SPECIAL शामिल है। जबकि 00108 MFP-MMR KISAN PEXP, 02444 JU DEE SF EXP, 05075 TRIVENI EXPRESS SPECIAL, 06552 JTJ-SBC MEMU, 06852 RMM MS SPL शामिल हैं।

Indian railways समय-समय पर मरम्‍मती कामों के कारण कई बार ट्रैफिक ब्लॉक करता है, जिससे ट्रेनों की आवाजाही बेहतर होती है। इसके लिए कुछ ट्रेनों को कैंसिल या उनका रूट बदलना पड़ता है। कभी कभार मरम्‍मती काम के कारण Train Time भी बदला जाता है।

11 अगस्‍त 2021 को Indian Railways ने जिन ट्रेनों को Partially कैंसिल किया है, उनकी लिस्‍ट रेलवे की वेबसाइट पर जारी की गई है।

एक अच्‍छी खबर यह भी है कि आंध्र प्रदेश के रेनीगुंटा से राष्ट्रीय राजधानी तक दूध दुरंतो (Doodh Duranto) विशेष ट्रेनों के जरिए दूध की ढुलाई 10 करोड़ लीटर का आंकड़ा पार कर गई है। रेल मंत्रालय ने कहा कि 26 मार्च, 2020 को शुरू होने की तारीख से, इन विशेष ट्रेनों को दक्षिण मध्य रेलवे द्वारा निर्बाध रूप से संचालित किया गया था और अब तक 2,502 दूध टैंकरों को 443 यात्राओं के माध्यम से ले जाया गया है।

रेनीगुंटा से नई दिल्ली तक रेल द्वारा दूध का परिवहन राष्ट्र की आवश्यक जरूरतों को पूरा करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण रहा है। Covid 19 से पहले, दूध के टैंकरों को लोगों की दूध की जरूरतों को पूरा करने के लिए साप्ताहिक सुपरफास्ट ट्रेनों से जोड़ा जा रहा था। नई दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में। जब देश में लॉकडाउन लागू किया गया था, तो इस कारण को पूरा करने के लिए, दक्षिण मध्य रेलवे (एससीआर) जोन ने इस अनूठी अवधारणा को शुरू किया।

दमरे ने विशेष रूप से दूध के टैंकरों को जोड़कर दूध दुरंतो विशेष ट्रेनों का संचालन किया। दक्षिण मध्य रेलवे इन ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस ट्रेनों के समान संचालित कर रहा है और 30 घंटे के उचित समय के भीतर नई दिल्ली में रेनिगुंटा से हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तक 2,300 किलोमीटर की दूरी तय कर रहा है।

विशेष रूप से छह दूध टैंकरों के साथ विशेष रूप से चलाए जाते हैं, जिनमें से प्रत्येक में 40,000 लीटर की क्षमता होती है, कुल मिलाकर प्रति ट्रेन 2.40 लाख लीटर दूध होता है।

इन विशेष ट्रेनों के 443 फेरे में अब तक 2,502 दूध के टैंकरों का संचालन किया जा चुका है, जिससे 10 करोड़ लीटर से अधिक दूध का परिवहन होता है।

गुंतकल मंडल के अधिकारी लगातार उन मालवाहक ग्राहकों के संपर्क में हैं जो दूध की लदान की पेशकश कर रहे हैं और उनकी आवश्यकताओं को पूरा करते रहे हैं, ताकि ट्रेनों के संचालन में कोई बाधा न हो। इस पहल की शुरुआत के बाद से, इन ट्रेनों को चरम कोविड समय के दौरान लगातार संचालित किया गया है।

Edited By: Ashish Deep

 
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner