CNG Price Hike: दो माह में 13 बार बढ़ी कीमत, एक साल में 32 रुपये महंगी हुई CNG; जानिए इसकी वजह

CNG price hike। सीएनजी की कीमतें आसमान छू रही हैं। इसमें लगातार बढ़ोतरी हो रही है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले 1 साल में सीएनजी की कीमतों में 60% की वृद्धि दर्ज की गई है। सीएनजी की कीमत पिछले 2 महीने में 13 बार बढ़ चुकी हैं। आइए जानें इसका कारण।

Sarveshwar PathakPublish: Sat, 21 May 2022 02:29 PM (IST)Updated: Sun, 22 May 2022 07:55 AM (IST)
CNG Price Hike: दो माह में 13 बार बढ़ी कीमत, एक साल में 32 रुपये महंगी हुई CNG; जानिए इसकी वजह

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को फिर से सीएनजी की कीमतों में दो रुपये प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी दर्ज की गई, जो दो महीने में सीएनजी की कीमतों में 13वीं बढ़ोतरी है। इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (आईजीएल) की वेबसाइट पर पोस्ट की गई जानकारी के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सीएनजी की कीमत अब 73.61 रुपये प्रति किलोग्राम से बढ़कर 75.61 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है। राष्ट्रीय राजधानी और आसपास के शहर में 7 मार्च के बाद सीएनजी की कीमतों में यह 13वीं बढ़ोतरी है। इस दौरान सीएनजी की कीमत 19.60 रुपये प्रति किलोग्राम बढ़ी है।

कीमत 1 साल में 32 रुपये से ज्यादा बढ़ी 

पीटीआई के आंकड़ों के अनुसार पिछले एक साल में कीमतों में 32.21 रुपये प्रति किलोग्राम या 60 फीसदी की वृद्धि हुई है। हालांकि, घरेलू रसोई में पाइप से गैस की दर, जिसे पाइप्ड प्राकृतिक गैस (पीएनजी) कहा जाता है, उसकी कीमत 45.86 रुपये प्रति एससीएम ही है।

क्या है मुख्य कारण?

सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूटर्स पिछले साल अक्टूबर से समय-समय पर कीमतें बढ़ा रहे हैं। इसका मुख्य कारण कोरोना महामारी है, जिसके कारण दुनिया की अर्थव्यवस्था बिगड़ गई है। इसके कारण ही घरेलू और अंतरराष्ट्रीय गैस की कीमतें बढ़ना शुरू हो गई हैं।

प्राकृतिक गैस की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि
आईजीएल के प्रबंध निदेशक संजय कुमार ने कहा कि प्राकृतिक गैस की अंतरराष्ट्रीय कीमतों के कारण निकट भविष्य में कीमतों में तेजी रहने की संभावना है। 2021 के आखिरी तीन महीनों में सीएनजी की कीमतों में 8.74 रुपये प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी हुई और जनवरी से लगभग हर हफ्ते लगभग 50 पैसे प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी हुई।

सीएनजी की डिमांड बढ़ी

1 अप्रैल से सरकार द्वारा स्थानीय रूप से उत्पादित प्राकृतिक गैस की कीमत दोगुनी से अधिक 6.1 डॉलर प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट होने के बाद दरें बढ़ गई हैं। घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस शहर की गैस की मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं है, इसके लिए आयातित ईंधन (एलएनजी) का उपयोग किया जा रहा है। हाजिर या मौजूदा बाजार में एलएनजी की कीमत 18-20 अमेरिकी डॉलर प्रति एमएमबीटीयू है।

वैट के हिसाब से भी बढ़ती हैं कीमतें

वहीं, कंप्रेस्ड होने पर प्राकृतिक गैस ऑटोमोबाइल में ईंधन के रूप में उपयोग के लिए सीएनजी बन जाती है। उसी गैस को खाना पकाने और अन्य उद्देश्यों के लिए घरेलू रसोई और उद्योगों में पाइप किया जाता है। महानगर गैस लिमिटेड (एमजीएल) ने मुंबई में कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस (सीएनजी) की कीमत 76 रुपये प्रति किलोग्राम रखी है। वैट जैसे स्थानीय करों के कारण इनकी कीमतें कई शहर में ज्यादा भी हो सकती हैं। 

Edited By Sarveshwar Pathak

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept