This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कोरोना वायरस प्रकोप और बाजार में अस्थिरता के बीच मई में Mutual Funds Folio की संख्या 6 लाख से अधिक बढ़ी

Mutual Fund Industry मई महीने के अंत तक इक्विटी और इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स में फोलियोज की संख्या 3.22 लाख बढ़कर 6.53 करोड़ पहुंच गई थी।

Pawan JayaswalWed, 17 Jun 2020 08:07 AM (IST)
कोरोना वायरस प्रकोप और बाजार में अस्थिरता के बीच मई में Mutual Funds Folio की संख्या 6 लाख से अधिक बढ़ी

नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप और अस्थिर बाजार के बीच म्युचुअल फंड इंडस्ट्री ने मई महीने में 6.12 लाख निवेशक खातों को जोड़ा है। इस तरह इंडस्ट्री में अब कुल 9.1 करोड़ निवेशक खाते हो गए हैं। इससे पहले अप्रेल महीने में इंडस्ट्री ने 6.82 लाख नए खातों को जोड़ा था। एक निवेशक के पास कई सारे फोलियोज हो सकते हैं।

एसोसिएशन ऑफ म्युचुअल फंड्स इन इंडिया के आंकड़ों के अनुसार, मई के अंत में 44 फंड हाउसेज के फोलियोज बढ़कर 9,10,41,392 हो गए हैं। अप्रैल के अंत में यह संख्या 9,04,28,589 थी। इस तरह मई में 6.12 लाख फोलियोज की बढ़त दर्ज हुई है। फोलियोज की कुल संख्या मार्च महीने में 8.97 करोड़, फरवरी में 8.88 करोड़ और जनवरी में 8.85 करोड़ थी। 

बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि फोलियोज का जुड़ना यह बताता है कि निवेशक बाजार के उतार-चढ़ाव से प्रभावित नहीं हुए हैं। इसके अलावा यह बाजार के जोखिमों के बारे में उनकी समझ को दर्शाता है। 

मई महीने के अंत तक इक्विटी और इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स में फोलियोज की संख्या 3.22 लाख बढ़कर 6.53 करोड़ पहुंच गई थी। यह अप्रैल महीने में 6.49 करोड़ थी। वहीं, डेट ओरिएंटेड स्कीम फोलियो की संख्या 30,600 बढ़कर 71 लाख पर पहुंच गई है। डेट श्रेणी में लिक्विड फंड्स फोलियोज की संख्या के मामले में शीर्ष पर हैं, यह संख्या 19 लाख से अधिक पहुंच गई है। इसके बाद लो ड्यूरेशन फंड 9.3 लाख पर हैं।

यह भी पढ़ें:  यहां मात्र डेढ़ रुपये में मिल रहा है एक लीटर पेट्रोल, जानिए दुनिया भर में क्या हैं पेट्रोल की कीमतें

कुल मिलाकर, म्युचुअल फंड योजनाओं में पिछले महीने 70,800 करोड़ रुपये का इनफ्लो हुआ है। यह अप्रैल महीने के 46,000 करोड़ रुपये से काफी ज्यादा है। इनफ्लो बढ़ने से म्युचुअल फंड इंडस्ट्री के एसेट बेस में बढ़त हुई है। मई के अंत में 44 फंड हाउसेज के पास 24.55 लाख करोड़ हो गया, जो अप्रैल के आखिर में 23.93 लाख करोड़ था।