क्या आप 50 साल के हो रहे हैं? सुरक्षित आर्थिक भविष्य के लिए उठाएं ये 5 कदम

सुरक्षित जीवन सुनिश्चित करने के लिए कोई काम करते हैं। इस तरह की निष्क्रियता उनकी आजीवन बचत और निवेश के लिए घातक साबित हो सकती है। 50 साल के होने या इसके करीब आने पर आपको क्या करना चाहिए जानिए

NiteshPublish: Mon, 17 Jan 2022 11:38 AM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 03:24 PM (IST)
क्या आप 50 साल के हो रहे हैं? सुरक्षित आर्थिक भविष्य के लिए उठाएं ये 5 कदम

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। जब इंसान 50 साल का हो जाता है तो वह अपने रिटायरमेंट से महज 10 साल दूर रहता है। हालांकि, अपनी रिटायरमेंट की आयु के करीब आने वाले कई व्यक्ति रिटायरमेंट जीवन के बारे में आत्मसंतुष्ट हो जाते हैं। नतीजतन, वे न तो अपने निवेश की समीक्षा करते हैं और न ही रिटायर होने के बाद आर्थिक रूप से सुरक्षित जीवन सुनिश्चित करने के लिए कोई काम करते हैं। इस तरह की निष्क्रियता उनकी आजीवन बचत और निवेश के लिए घातक साबित हो सकती है। 50 साल के होने या इसके करीब आने पर आपको क्या करना चाहिए, जानिए

अपनी जोखिम लेने की क्षमता की समीक्षा करें

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण अपनी सभी वित्तीय संपत्तियों पर ध्यान दें। यह FD, रेकरिंग डिपाजिट, म्यूचुअल फंड, शेयरों और बांडों में निवेश, भविष्य निधि, स्वास्थ्य बीमा, टर्म इंश्योरेंस, बैंक खाते में आपकी बचत और संपत्तियों में निवेश के रूप में हो सकता है।

इसी तरह, अपनी सभी वर्तमान और आगामी वित्तीय देनदारियों पर ध्यान दें। यह होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन या रिश्तेदारों या दोस्तों से कुछ उधार की आपकी समान मासिक किस्तें (ईएमआई) हो सकती हैं।

अपने इक्विटी निवेश को सुव्यवस्थित करें

इक्विटी म्युचुअल फंडों और शेयरों में फैले निवेशों को क्रम में रखने की जरूरत है, ताकि जोखिम कम हो। उदाहरण के लिए यदि आपके पास बहुत अधिक समान प्रकार के फंड हैं, तो इस तरह के विविधीकरण को कम करने और एक दशक से कम के भरोसेमंद ट्रैक रिकॉर्ड के साथ सीमित योजनाओं के तहत ऐसे निवेश लाने की सलाह दी जाती है।

अपना इक्विटी एक्सपोजर कम करें

अपने कुल पोर्टफोलियो के आवंटन को इक्विटी में 40-50% तक लाने पर विचार करें। 50 के उम्र के करीब पहुंचते ही डेट इंस्ट्रूमेंट्स में एक्सपोजर बढ़ाएं। आप अपने सभी इक्विटी से संबंधित निवेशों के लिए बैलेंस्ड एडवांटेज फंड जैसे डायनेमिक एसेट एलोकेशन फंड पर विचार कर सकते हैं।

अपने लोन निवेश को सुव्यवस्थित करें

बैंकों की FD या RD में नया निवेश उपयुक्त नहीं हो सकता है। इसके बजाय, आपको एफडी और आरडी में अपनी संपत्ति को डेट-ओरिएंटेड हाइब्रिड फंड में ट्रांसफर करना चाहिए। इस तरह के फंड इक्विटी में संपत्ति का 10-35% आवंटित करते हैं, लेकिन जब आपको पैसे की आवश्यकता होती है तो नकदी का लाभ उठाना भी आसान होता है।

अपना इमरजेंसी फंड बनाए रखें

आपको मजबूत इमरजेंसी फंड बनाने और बनाए रखने की दिशा में काम करना जारी रखना चाहिए। जब आप रिटायर होने के बाद अचानक वित्तीय संकट का सामना करेंगे तो यह फंड आपकी सहायता के लिए होगा। आप अपने इमरजेंसी फंड को बढ़ाने के लिए अपनी बचत की कुछ राशि लिक्विड फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। लिक्विड फंड आपके निवेश पर अपेक्षाकृत बेहतर रिटर्न देते हैं।

Edited By Nitesh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept