Mother's Day: Maternity Policies नवविवाहित महिलाओं के लिए हैं जरूरी, जानें क्‍या हैं इसके फायदे

Mothers Day Maternity Policies के फीचर्स के तहत इसमें नॉर्मल और सीजेरियन दोनों ही डिलीवरी कवर होती हैं हालांकि इसका लाभ विभिन्न पॉलिसी और ग्राहक द्वारा चुने गए कवर के प्रकार पर निर्भर करता है। सभी नवविवाहित महिलाओं के पास यह कवर होना चाहिए

Manish MishraPublish: Sun, 08 May 2022 09:02 AM (IST)Updated: Sun, 08 May 2022 09:41 AM (IST)
Mother's Day: Maternity Policies नवविवाहित महिलाओं के लिए हैं जरूरी, जानें क्‍या हैं इसके फायदे

नई दिल्‍ली, अक्षय ढांड। यह चौंकाने वाली बात हो सकती है, क्योंकि यूनाइटेड नेशंस पॉपयुलेशन फंड (यूएनएफपीए) के 2017 के आंकड़ों के अनुसार, लगभग 295,000 महिलाएं गर्भावस्था या प्रसव की वजह से मौत का शिकार हुईं जबकि गर्भावस्था और प्रसव से जुड़े ये ऐसे मामले थे, जिनमें बचाव संभव था। इनमें से ज्यादातर मौतों और दुर्घटनाओं को समय पर रोका जा सकता था। मां बनना जीवन के सबसे सुखद अनुभवों में से एक होता है। कोई भी यही चाहेगा कि प्रसव से पहले और उसके बाद के समय का भरपूर आनंद लिया जाए, वह भी बिना किसी फिक्र के। भले ही मातृत्व और उससे संबंधित खर्च जीवन का हिस्सा हैं, लेकिन किसी भी तरह का अप्रत्याशित खर्च या उससे जुड़े किसी भी मेडिकल खर्च से बचना ही समझदारी है, जो कि इलाज के पहले सामने ना आएं। मैटरनिटी इंश्योरेंस (Maternity Insurance) या मातृत्व बीमा पूर्व-परिभाषित सीमा तक आपके प्रसव के लगभग सारे खर्च की भरपाई करने में सहयोग देता है। पॉलिसी फीचर्स के तहत इसमें नॉर्मल और सीजेरियन दोनों ही डिलीवरी कवर होती हैं, हालांकि इसका लाभ विभिन्न पॉलिसी और ग्राहक द्वारा चुने गए कवर के प्रकार पर निर्भर करता है। सभी नवविवाहित महिलाओं के पास यह कवर होना चाहिए।

इन मैटरनिटी पॉलिसीज से मिलने वाले कुछ लाभ नीचे दिए गए हैं:

  • समस्याओं की वजह से गर्भ को हटाने का खर्च
  • एक तय सीमा तक बच्चे के जन्म के पहले और उसके बाद के खर्च का कवरेज
  • अस्पताल में भर्ती होने से पहले का खर्च, इसमें भर्ती होने की तारीख के 30 दिन पहले तक का खर्च शामिल है

मैटरनिटी इंश्योरेंस का दावा करने की प्रक्रिया

बीमा प्रदाता और सुविधा के आधार पर कोई भी ऑनलाइन और ऑफलाइन विकल्प चुन सकता है। अस्पताल के आधार पर, दावे को कैशलेस या प्रतिपूर्ति के माध्यम से किया जा सकता है। यदि व्यक्ति मातृत्व दावों के लिये ऑनलाइन प्रक्रिया का विकल्प चुनने का निर्णय लेता है तो सबसे पहले उसे यह करना होगा:

प्रसव के लिये अस्पताल में भर्ती होने के बाद बीमाकर्ता को सूचित करें और उन्हें आवश्यक विवरण प्रदान करें। इसे पोस्ट करें, बीमाकर्ता से दावा फॉर्म डाउनलोड करना होगा और आवश्यक दस्तावेज ऑनलाइन जमा करना होगा और बीमाकर्ता द्वारा भेजे गए प्रतिनिधि द्वारा विवरण सत्यापित कराना होगा।

यदि कोई मातृत्व दावों के लिए ऑफलाइन प्रक्रिया का विकल्प चुनने का निर्णय लेता है तो उसे यह करना होगा: दस्तावेज पहले बताए गए दस्तावेजों के समान होंगे।

एक बार जब आपके पास सभी आवश्यक दस्तावेज उपलब्‍ध हों, तो अपनी नजदीकी बीमा कंपनी की शाखा में जाएं और दी गई प्रक्रिया के माध्यम से दावा पेश करें।

दावा प्रक्रिया को आसान बनाने के लिये, ग्राहक को आवश्यक दस्तावेज तैयार रखने चाहिये। बीमा का दावा करते समय पॉलिसी दस्तावेज और दावा प्रपत्र जरूर होना चाहिए। अन्य दस्तावेज जिन्हें तैयार रखने की आवश्यकता है, वे हैं परामर्श बिल, प्रवेश सलाह, डिस्चार्ज रसीद, फिटनेस प्रमाण पत्र, अस्पताल का मूल बिल और फार्मेसी बिल।हो सकता है कि कुछ बीमा कंपनियां इन सभी उल्लेखित दस्तावेजों के बारे में ना पूछे, यह बीमा कंपनी और पॉलिसी के प्रकार पर निर्भर करता है, जिसमें आवश्यक दस्तावेजों को प्रस्तुत करने की जरूरत हो सकती है।

मैटरनिटी इंश्योरेंस लेने के दौरान क्या चीजें शामिल नहीं हैं, उसके बारे में जानिए

  • नियमित चेकअप के लिये डॉक्टर से सलाह की फीस
  • गर्भावस्था के दौरान जांच परीक्षण और डॉक्टर से सलाह
  • ज्यादातर डॉक्टर्स गर्भावस्था के दौरान विटामिन की गोलियां और टॉनिक लेने की सलाह देते हैं। ये विटामिन और टॉनिक्स, मैटरनिटी इंश्योरेंस से बाहर होती हैं।
  • बांझपन के इलाज का खर्च इससे बाहर होता है (बाजार में कुछ ऐसी बीमा पॉलिसी हैं, जोकि आईवीएफ उपचार को कवर करती हैं, इस मामले में जरूरतमंद ग्राहक को पॉलिसी की शुरुआत में ही इस विकल्‍प को चुनना होगा)

वैसे मेडिक्लेम में आमतौर पर मैटरनिटी कवरेज होता है, लेकिन जानलेवा बीमारी के कवरेज के लाभ के बारे में भी विचार किया जाना चाहिये। यदि आपके पास गंभीर बीमारी का स्वास्थ्य बीमा है तो आपको लगभग सारा भुगतान मिल जाएगा, यदि आपको कैंसर, दिल की बीमारी या किडनी फेलियर की समस्या है। ऐसी कई सारी अन्य बीमारियां हैं जोकि इन प्रोडक्ट्स में कवर होती हैं, ये दिमाग को शांति प्रदान करती हैं।

मेरे विचार से, आपको अपने और अपने परिवार के लिये मेडिक्लेम के साथ फिक्स्ड बेनिफिट क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस लेना जरूरी है। मेडिक्लेम उपचार महंगे होते हैं, खासकर निजी अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में। अस्पताल की फीस आपकी आर्थिक स्थिति को पटरी से नीचे उतार सकती है और अप्रत्याशित मेडिकल आपातकाल की स्थिति में सारी जमापूंजी खत्म कर सकती है।

भारत में, मातृत्व संबंधी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं एक बड़ी आबादी और आर्थिक बचत को प्रभावित करती हैं। नतीजतन, मातृत्व बीमा किसी भी अप्रत्याशित जटिलताओं में सहायता कर सकता है। यह कवरेज नवजात शिशु को इलाज के खर्च से बचाने में भी सहायता करता है।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है, मातृत्व बीमा की लागत बढ़ती जाती है। इसके अलावा, गर्भावस्था के खर्च हर दिन बढ़ रहे हैं। इन सबको देखते हुए, यह सलाह दी जाती है कि आप जितनी जल्दी हो सके एक प्लान लें और सुनिश्चित करें कि आपने नियम और शर्तों को ध्यान से पढ़ा और पूरी तरह समझा है ताकि आप उन उत्‍पादों के लाभों से पूरी तरह अवगत हों जिन्हें आप खरीद रहे हैं।

(लेखक केनरा एचएसबीसी ओबीसी लाइफ इंश्‍योरेंस में अपॉइंटेड एक्‍चुएरी हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Edited By Manish Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept