This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Aadhaar Authentication: जानिए आधार सत्यापन के मायने, किस तरह काम करता है इससे जुड़ा सिस्टम

आधार सत्यापन का अर्थ उस प्रक्रिया से है जिसमें 12 अंकों की विशिष्‍ट आधार संख्या बायोमेट्रिक्स सहित अन्य विशेषताओं के साथ सूचना या डेटा या इसके साथ उपलब्ध दस्तावेजों के आधार पर सत्यापन के लिए केंद्रीय पहचान डेटा रिपॉजिटरी (CIDR) को प्रस्तुत की जाती है।

Ankit KumarFri, 28 May 2021 07:21 AM (IST)
Aadhaar Authentication: जानिए आधार सत्यापन के मायने, किस तरह काम करता है इससे जुड़ा सिस्टम

नई दिल्ली, सुनिल अल्वारेस। आप सभी इस बात से अवगत होंगे कि Aadhaar Card आज के समय में कितना अहम है। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) 12 अंकों की पहचान संख्या जारी करता है। UIDAI भारत सरकार के इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन स्थापित एक सांविधिक प्राधिकरण है। इसे सभी भारतीयों को एक विशिष्ट पहचान संख्या (आधार) प्रदान करने के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि पहचान छिपाकर धोखाधड़ी को अंजाम देने वाली घटनाएं कम हो सकें। यह बेहद उपयोगी है क्योंकि यह देश भर में सार्वजनिक और निजी एजेंसियों के लिए नागरिकों की पहचान स्थापित करता है। आधार कार्डधारक के पहचान दावे को सत्यापित करने के लिए यूआईडीएआई एक ऑनलाइन सत्‍यापन सुविधा प्रदान करता है।

आधार सत्यापन क्‍या है?

आधार "सत्यापन" का अर्थ उस प्रक्रिया से है जिसमें 12 अंकों की विशिष्‍ट आधार संख्या, बायोमेट्रिक्स सहित अन्य विशेषताओं के साथ, सूचना या डेटा या इसके साथ उपलब्ध दस्तावेजों के आधार पर सत्यापन के लिए केंद्रीय पहचान डेटा रिपॉजिटरी (CIDR) को प्रस्तुत की जाती है। इस तरह, यह नकली और झूठी पहचान की समस्‍या को दूर करने में मदद करता है। आधार संख्या की तीन विशेषताएं हैं; स्थायित्व; यानी किसी व्यक्ति के पूरे जीवनकाल में आधार संख्या एक समान रहती है, विशिष्टता; चूंकि प्रत्येक आधार संख्या की एक विशिष्ट आईडी और वैश्विक होती है; इसका मतलब है कि एक ही नंबर का उपयोग डोमेन और विभिन्न अनुप्रयोगों में किया जा सकता है। आधार का प्रमाणीकरण आमतौर पर इनमें से किसी एक-जनसांख्यिकी डेटा, बायोमेट्रिक (एफपी/आइरिस/फेस) डेटा, या ओटीपी के माध्यम से होता है। यह सभी आधार कार्डधारकों के लिए कुशलतापूर्वक सेवाएं प्रदान करने के लिए बनाया गया एक तंत्र है।

भारत में सेल फोन ग्राहकों की बढ़ती संख्या ने भी सरकार को मोबाइल एप्लिकेशन "एम आधार" के रूप में सुविधा शुरू करने के लिए प्रेरित किया है, जिससे कि इसे कहीं से भी एक्‍सेस किया जा सके और यह एंड्रॉयड एवं आईओएस दोनों पर ही उपलब्‍ध है। फोन नंबर आधार से लिंक हो जाने पर एप्लिकेशन टीओटीपी (TOTP) - समय-आधारित वन-टाइम पासवर्ड प्रदान करता है जो हमेशा 30 सेकंड के लिए ऐप पर उपलब्ध होता है और रीफ्रेश करने पर फिर से एक नया नंबर आ जाता है। और इस तरह ओटीपी के लिए फोन देखते रहने की झंझट नहीं रहती। 

आधार सत्‍यापन के फायदे

आधार नंबर सार्वजनिक और निजी एजेंसियों को पहचान साबित करने में मदद करता है और इसलिए बैंक खाता खोलने, पासपोर्ट के लिए आवेदन करने, एलपीजी कनेक्शन के लिए आवेदन करने आदि जैसी सेवाओं में टर्नअराउंड समय कम लगता है। हाल के लोकप्रिय मौद्रिक लेनदेन एप्लिकेशंस जैसे कि यूपीआई और भीम आधार सत्‍यापन का समर्थन करते हैं जिससे व्यापारियों और उपभोक्ताओं के बीच खरीदारी आसान और सुरक्षित हो गयी है। आधार डेटा को अत्याधुनिक सुरक्षित डिजिटल प्लेटफॉर्म में संग्रहीत किया जाता है और इसलिए डेटा और दस्तावेजों का कोई नुकसान नहीं होता है। आधार, केवाईसी के लिए पीएमएलए द्वारा निर्धारित आधिकारिक रूप से मान्य दस्तावेजों (ओवीडी) में से एक है और इसलिए यह कागजी कार्रवाई की प्रक्रिया को आसान बनाता है। 

यूआईडीएआई द्वारा शुरू किया गया आधार सत्‍यापन को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है ताकि आधार से जुड़े आंकड़ों के वैधांकन की ऑनलाइन प्रक्रिया आसान बन सके या आधार रिकॉर्ड सरलता से डाउनलोड किया जा सके, और इसे आधार-आधारित ईकेवाईसी के रूप में भी जाना जाता है। लगभग सभी प्रमुख बैंकों, वित्तीय संस्थानों आदि ने आधार आधारित ईकेवाईसी के लिए पंजीकरण किया है। इसके अलावा, सेबी ने सभी बाजार अवसंरचना संस्थानों को आधार आधारित ईकेवाईसी करने की अनुमति दी है। 

सीडीएसएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक सीडीएसएल वेंचर्स लिमिटेड को हाल ही में आधार आधारित ईकेवाईसी सेवाओं की पेशकश करने के लिए यूआईडीएआई से मंजूरी मिली है। सीवीएल ने आधार आधारित ईसाइन सेवा की आधार आधारित ईकेवाईसी सेवाओं की पेशकश करने के लिए प्रमाणन प्राधिकरण (सीसीए) के नियंत्रक के साथ एक प्रमाणन प्राधिकरण (सीए) के रूप में भी पंजीकरण कराया है। अपनी आधार आधारित ईकेवाईसी और ई-साइन सेवाओं का उपयोग करते हुए, सीवीएल अब एक व्यापक ऑनलाइन खाता खोलने का समाधान पेश कर रहा है जो बिचौलियों को ऑनलाइन आधार आधारित ईकेवाईसी और ई-साइन का उपयोग करके निर्बाध ऑनलाइन खाता खोलने की सुविधा प्रदान करेगा। अपनी सरलता के साथ आधार सत्‍यापन ने निवेशकों और उपभोक्ताओं को पूरी तरह से ऑनलाइन और डिजीटल अनुभव के लिए सशक्त बनाया है।

(लेखक सीडीएसएल वेंचर्स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी हैं। प्रकाशित विचार लेखक के निजी हैं। )