Budget Expectation: ज्यादा आवंटन, शुल्क में कटौती, सस्ता कर्ज, ये हैं हेल्थकेयर सेक्टर की मांग

CIPACA के प्रबंध निदेशक डॉ राजा अमरनाथ ने कहा एक सबसे कमजोर कड़ी जो समर्थन के लिए रो रही है वह है ग्रामीण क्षेत्रों में आपातकालीन और आईसीयू (गहन देखभाल इकाई) देखभाल। हम सभी जानते हैं कि देश के राज्यों के ग्रामीण इलाकों में गुणवत्तापूर्ण आईसीयू सेवाएं मुश्किल से उपलब्ध

NiteshPublish: Fri, 28 Jan 2022 02:51 PM (IST)Updated: Sun, 30 Jan 2022 03:58 PM (IST)
Budget Expectation: ज्यादा आवंटन, शुल्क में कटौती, सस्ता कर्ज, ये हैं हेल्थकेयर सेक्टर की मांग

नई दिल्ली, आइएएनएस। स्वास्थ्य क्षेत्र को आगामी बजट से स्वास्थ्य देखभाल, अनुसंधान और ग्रामीण क्षेत्रों में महत्वपूर्ण देखभाल के बुनियादी ढांचे के लिए भी परिव्यय बढ़ाने की जरूरत है। डॉ. आलोक रॉय, अध्यक्ष, फिक्की स्वास्थ्य सेवा समिति और अध्यक्ष, मेडिका ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स ने कहा, स्वास्थ्य क्षेत्र, चल रही महामारी से तबाह है और स्वास्थ्य देखभाल व्यय में वृद्धि, अनुसंधान नवाचार में निवेश, सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली की निगरानी को मजबूत करने के लिए एक उपयुक्त संसाधनों के विकास के लिए पैसे की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के लिए केंद्र के बजटीय आवंटन को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के कम से कम 2.5 प्रतिशत तक बढ़ाया जाना चाहिए ताकि सिस्टम में मौजूद कई अंतरालों को कम किया जा सके। विशेष रूप से टियर II और III शहरों में सब्सिडी वाले कर्जों के माध्यम से हेल्थकेयर फंडिंग देने की आवश्यकता है, क्योंकि इससे स्वास्थ्य सेवा अवसंरचना क्षेत्र को फिर से सक्रिय करने में मदद मिलेगी जो अन्य सहायक उद्योगों को और बढ़ावा देगा।

CIPACA के प्रबंध निदेशक, डॉ राजा अमरनाथ ने कहा, एक सबसे कमजोर कड़ी जो समर्थन के लिए रो रही है, वह है ग्रामीण क्षेत्रों में आपातकालीन और आईसीयू (गहन देखभाल इकाई) देखभाल। हम सभी जानते हैं कि देश के राज्यों के ग्रामीण इलाकों में गुणवत्तापूर्ण आईसीयू सेवाएं मुश्किल से उपलब्ध हैं। CIPACA एक छह साल पुराना स्वास्थ्य सेवा संगठन है जो ग्रामीण अस्पतालों में ICU की स्थापना और प्रबंधन में सबसे आगे है। किसी गांव या दूरस्थ क्षेत्र से किसी भी रोगी को आपातकालीन देखभाल के लिए जिला मुख्यालय तक पहुंचने में लगभग औसतन 1-1.5 घंटे (120 मिनट) लगते हैं।

अमरनाथ ने कहा कि कई राज्यों के जिला मुख्यालयों में भी गुणवत्तापूर्ण आईसीयू देखभाल सहायता नहीं है। भारत की लगभग 70 प्रतिशत आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है। लेकिन इन इलाकों में सिर्फ 30 प्रतिशत आईसीयू इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध है, जबकि बाकी 70 प्रतिशत मेट्रो और शहरों में है।

Edited By Nitesh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept