PNB यूटीआई म्युचुअल फंड में अपनी हिस्सेदारी को और कम करने पर कर रहा विचार

हमने यूटीआई एएमसी में 3 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची है जहां हमने अक्टूबर 2020 में लगभग 180 करोड़ रुपये की कमाई की है हमने यूटीआई एएमसी में 18 प्रतिशत का निवेश किया था जिसे हम 15 प्रतिशत तक लाए हैं। वहां अभी भी इसका मुद्रीकरण करने की गुंजाइश है

NiteshPublish: Fri, 28 Jan 2022 03:14 PM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 03:14 PM (IST)
PNB यूटीआई म्युचुअल फंड में अपनी हिस्सेदारी को और कम करने पर कर रहा विचार

नई दिल्ली, पीटीआइ। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) अपने पूंजी आधार को बढ़ाने के लिए अपनी गैर-प्रमुख परिसंपत्ति बिक्री योजना के तहत यूटीआई म्यूचुअल फंड में अपनी हिस्सेदारी का मुद्रीकरण करने पर विचार कर रहा है। बैंक ने गैर-प्रमुख संपत्तियों को दो शीर्षों में वर्गीकृत किया है, अचल संपत्ति और निवेश संपत्ति। बैंक की ओर से कहा गया कि हमने यूटीआई एएमसी में 3 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची है, जहां हमने अक्टूबर 2020 में लगभग 180 करोड़ रुपये की कमाई की है, हमने यूटीआई एएमसी में 18 प्रतिशत का निवेश किया था जिसे हम 15 प्रतिशत तक लाए हैं। वहां अभी भी इसका मुद्रीकरण करने की गुंजाइश है।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता https://www.jagran.com/business/top15-where-and-how-many-times-your-aadhaar-card-is-used-here-how-to-find-out-21400769.html

पीएनबी देश की सबसे पुरानी म्यूचुअल फंड कंपनी के प्रायोजकों में से एक है। पीएनबी के अलावा, भारतीय स्टेट बैंक, भारतीय जीवन बीमा निगम, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूएस स्थित टी रो प्राइस अन्य प्रायोजक हैं। उन्होंने कहा कि बैंक का इरादा केनरा एचएसबीसी ओबीसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में अपनी हिस्सेदारी बेचने का है, जो बैंक के एक सहयोगी, नियामक दिशानिर्देशों के तहत इसे मुद्रीकृत करने के लिए है।

शहर के मुख्यालय वाले बैंक ने पिछले वित्तीय वर्ष में पूर्व ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) के एकीकरण के बाद जीवन बीमाकर्ता में हिस्सेदारी हासिल कर ली थी। तत्कालीन ओबीसी के पास जीवन बीमाकर्ता में 23 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, जो समामेलन के आधार पर पीएनबी में आई है। बैंक 2022-23 के दौरान परिसंपत्ति पुनर्निर्माण कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने पर भी विचार कर रहा है।

अचल संपत्ति की के संबंध में बैंक की दिल्ली में भीकाजी कामा में एक मंजिल है और अन्य मंजिलें लाइन में हैं।

चालू तिमाही के दृष्टिकोण के बारे में बैंक को जनवरी-मार्च की अवधि में एनसीएलटी और गैर-एनसीएलटी दोनों मामलों से लगभग 5,000 करोड़ रुपये की वसूली की उम्मीद है।

Edited By Nitesh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम