कोरोना काल में 1.3 लाख से अधिक कंपनियां पंजीकृत, इस दौरान दिवालिया प्रक्रिया से भी गुजरीं 283 कंपनियां

लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में ताजा आंकड़े उपलब्ध कराते हुए केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि अप्रैल 2020 से लेकर फरवरी 2021 तक अलग-अलग कारणों से कुल 10113 कंपनियों का पंजीकरण रद भी किया गया।

Ankit KumarPublish: Wed, 24 Mar 2021 12:04 PM (IST)Updated: Wed, 24 Mar 2021 12:04 PM (IST)
कोरोना काल में 1.3 लाख से अधिक कंपनियां पंजीकृत, इस दौरान दिवालिया प्रक्रिया से भी गुजरीं 283 कंपनियां

नई दिल्ली, आइएएनएस। चालू वित्त वर्ष में फरवरी के अंत तक कुल 1,38,051 कंपनियों का पंजीकरण हुआ है। कोरोना से उपजे कठिन हालात के बीच नई कंपनियों का इस संख्या में गठन उत्साहजनक है। लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में ताजा आंकड़े उपलब्ध कराते हुए केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि अप्रैल, 2020 से लेकर फरवरी, 2021 तक अलग-अलग कारणों से कुल 10,113 कंपनियों का पंजीकरण रद भी किया गया। 

(यह भी पढ़ेंः Barbeque Nation IPO: आज से सब्सक्रिप्शन के लिए खुला बार्बीक्यू नेशन आईपीओ, जानिए इससे जुड़ी हर अपडेट) 

पिछले वर्ष कोरोना महामारी व उसकी रोकथाम के लिए देशभर में लॉकडाउन के चलते आर्थिक मोर्चे पर कारोबार जगत को गंभीर संकट से गुजरना पड़ा था।इससे संबंधित एक महत्वपूर्ण जानकारी में ठाकुर ने संसद को बताया कि महामारी के दौरान गत वर्ष कुल 283 कंपनियां दिवालिया प्रक्रिया में भी गई।  

देश में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) की विभिन्न पीठों के समक्ष 76 दिवालिया मामलों का निपटारा किया गया। ऐसे 128 मामले आपसी समझौते व अन्य तरीकों से सुलझा लिए गए। वहीं कर्जदाताओं को उनका बकाया चुकाने के लिए 189 कंपनियों की संपत्ति की बिक्री करनी पड़ी। कोरोना से उत्पन्न हालात को देखते हुए पिछले वर्ष अस्थायी तौर पर दिवालिया प्रकिया निलंबित भी की गई थी।

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के काल में कंपनियों ने अपना अस्तित्व बचाए रखने और बिजनेस जारी रखने के लिए टेक्नोलॉजी का सहारा लिया। इस दौरान कई तरह के नवोन्मेष सामने आए। कंपनियों ने भी अपने कामकाज को जारी रखने के लिए कई तरह के प्रयोग किए और कई ऐसे बदलाव तो अब स्थायी तौर पर बने रहेंगे, इस तरह की संभावना जतायी जा रही है।  

(यह भी पढ़ेंः शुरू से समझें क्या है ब्याज पर ब्याज छूट का पूरा मामला, सरकार पर पड़ेगा 7,500 करोड़ का अतिरिक्त बोझ)

Edited By Ankit Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept