भारत सहित दुनिया भर की अर्थव्यवस्था पर भारी ओमिक्रॉन, IMF ने आर्थिक वृद्धि दर अनुमान घटाया

Economic Growth Forecast IMF की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि मामूली गिरावट मुख्य रूप से ओमिक्रॉन संस्करण के प्रसार के प्रभाव की वजह से है। उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में आर्थिक वृद्धि -0.5 प्रतिशत अंक की मामूली गिरावट के साथ आगे बढ़ेगी।

Lakshya KumarPublish: Wed, 26 Jan 2022 11:42 AM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 07:19 AM (IST)
भारत सहित दुनिया भर की अर्थव्यवस्था पर भारी ओमिक्रॉन, IMF ने आर्थिक वृद्धि दर अनुमान घटाया

वॉशिंगटन, पीटीआइ/एपी। कोरोना वायरस संक्रमण का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन भारत सहित दुनिया भर की आर्थिक वृद्धि को धीमा कर सकता है। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने आर्थिक वृद्धि दर को लेकर पूर्व में जो अनुमान लगाया था, उसमें बदलाव करते हुए भारत और दुनिया की अनुमानित आर्थिक वृद्धि दर में कटौती की है। IMF ने मंगलवार को चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के आर्थिक विकास के अनुमान को 0.5 प्रतिशत अंक घटाकर 9 प्रतिशत कर दिया। IMF की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि मामूली गिरावट मुख्य रूप से ओमिक्रॉन संस्करण के प्रसार के प्रभाव की वजह से है।

गीता गोपीनाथ ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान संवाददाताओं से कहा, "यदि आप 2021-22 वित्तीय वर्ष को देखते हैं, तो -0.5 प्रतिशत अंक की मामूली गिरावट है और अगले वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 0.5 प्रतिशत अंक की मामूली बढ़त है।" वाशिंगटन स्थित अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थान ने पिछले साल अक्टूबर में चालू वित्त वर्ष (2021-22) भारत के लिए 9.5 प्रतिशत सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि का अनुमान लगाया था। अब IMF ने इसे घटा दिया है। हालांकि, दुनिया की विकास दर के अनुमान को भी घटाया गया है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने COVID-19 के ओमिक्रॉन नैरिएंट के प्रसार, उच्च ऊर्जा की कीमतों, मुद्रास्फीति में वृद्धि और चीन में वित्तीय तनाव का हवाला देते हुए इस वर्ष विश्व अर्थव्यवस्था के अपने पूर्वानुमान को कम कर दिया। एजेंसी ने अब अनुमान लगाया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था 2022 में 4.4% का विस्तार करेगी। यह पिछले साल के अनुमानित 5.9% से नीचे है। इतना ही नहीं, यह IMF द्वारा अक्टूबर से 2022 के लिए लगाए जा रहे 4.9% के विस्तार के पूर्वानुमान से भी कम है।

IMF ने दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका के लिए विकास पूर्वानुमान को घटाकर 4% कर दिया, जो अक्टूबर में अनुमानित 5.2% था। एजेंसी को अब राष्ट्रपति जो बिडेन के 'बिल्ड बैक बेटर सोशल पॉलिसी बिल' से किसी भी आर्थिक प्रोत्साहन की उम्मीद नहीं है। वहीं, चीनी अर्थव्यवस्था के इस साल 4.8% बढ़ने का अनुमान है, जो पिछले साल के 8.1% से नीचे है और अक्टूबर में आईएमएफ द्वारा लगाई गई उम्मीद की तुलना में 0.8 प्रतिशत कम है।

Edited By Lakshya Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept