This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Gold Price on 27 Sept: सोना हुआ महंगा, चांदी की कीमत भी चढ़ी, जानिए क्या हो गए हैं रेट

Gold Price Today एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में सोने के दाम में 35 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। इससे हाजिर बाजार में सोने का रेट 45110 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गया।

Ankit KumarMon, 27 Sep 2021 05:15 PM (IST)
Gold Price on 27 Sept: सोना हुआ महंगा, चांदी की कीमत भी चढ़ी, जानिए क्या हो गए हैं रेट

नई दिल्ली, पीटीआइ। सोने एवं चांदी की कीमत में सोमवार को बढ़त देखने को मिली। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में सोने के दाम में 35 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। इससे हाजिर बाजार में सोने का रेट 45,110 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गया। इससे पिछले सत्र में दिल्ली में 10 ग्राम सोने का रेट 45,075 रुपये पर रहा था। वैश्विक स्तर पर सोने एवं चांदी की कीमतों में बढ़ोत्तरी की बदौलत घरेलू बाजारों में यह तेजी देखने को मिली।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक चांदी की कीमत में भी 383 रुपये प्रति किलोग्राम की तेजी दर्ज की गई। इससे शहर में चांदी की कीमत 59,138 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। हाजिर बाजार में इससे पिछले सत्र में चांदी की कीमत 58,755 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही थी।

वैश्विक बाजार में सोने का भाव

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने का भाव तेजी के साथ 1,755 डॉलर प्रति औंस पर रहा। इसी तरह चांदी की कीमत 22.60 डॉलर प्रति औंस पर सपाट रही।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज में सीनियर एनालिस्ट (कमोडिटीज) तपन पटेल ने कहा, ''चीन के एवरग्रांड संकट को लेकर सोमवार को सोने के दाम में तेजी देखने को मिली।''

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज में वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटीज रिसर्च) नवनीत दमानी ने कहा, ''पिछले सप्ताह में 1,750 डॉलर प्रति औंस के नीचे आने के बाद इस सप्ताह के पहले कारोबारी सत्र में सोने के दाम में तेजी दर्ज की गई। इसकी वजह यह है कि चीन के एवरग्रांड संकट से जुड़ी चिंताओं की चलते निवेशकों ने जोखिम लेना उचित नहीं समझा लेकिन ब्याज दर में बढ़ोत्तरी और जुलाई के बाद यील्ड में सबसे ज्यादा वृद्धि से बुलियन की तेजी एक स्तर तक सीमित रही।''

Edited By: Ankit Kumar