This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Jagran Dialogues: लोन के दलदल से आप भी निकल सकते हैं बाहर, अपनाएं एक्‍सपर्ट्स के ये टिप्‍स

Jagran Dialogues के लेटेस्ट एपिसोड में इसी विषय पर विस्तार से चर्चा हुई कि कर्ज के बोझ को किस प्रकार कम किया जा सकता है और मुक्ति कैसे पायी जा सकती है। Jagran New Media के Manish Mishra और Varun Sharma ने इस विषय पर एक्सपर्ट्स से बात की।

Ankit KumarThu, 17 Jun 2021 10:07 AM (IST)
Jagran Dialogues: लोन के दलदल से आप भी निकल सकते हैं बाहर, अपनाएं एक्‍सपर्ट्स के ये टिप्‍स

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कई मौकों पर परिस्थितियों ऐसी बन जाती है या किसी तरह की मेडिकल इमरजेंसी के समय हम अपने दोस्तों-रिश्तेदारों या बैंक या क्रेडिट कार्ड से लोन लेना पड़ता। बाद में इनकम के सोर्स पर अगर किसी तरह का असर पड़ता है तो यह कर्ज बोझ लगने लगता है। Jagran Dialogues के लेटेस्ट एपिसोड में इसी विषय पर विस्तार से चर्चा हुई कि कर्ज के बोझ को किस प्रकार कम किया जा सकता है और मुक्ति कैसे पायी जा सकती है। Jagran New Media के Manish Mishra और Varun Sharma ने इस विषय पर सेबी रजिस्टर्ड इंवेस्टमेंट एडवाइजर Hemant Beniwal और सेबी रजिस्टर्ड इंवेस्टमेंट एडवाइजर Steven Fernandes से विस्तृत बातचीत की।

पेश है इस बातचीत के संपादित अंश

सवाल: Good Loan और Bad Loan में क्या अंतर होता है?

हेमंत बेनीवालः अगर कोई व्यक्ति होम लोन लेता है या कोई एजुकेशन लोन लेता है तो इन्हें गुड लोन की कैटेगरी में रखा जाता है। वहीं, ऐसी चीज में पैसे डालने के लिए लोन लेना Bad Loan कहलाता है, जिसके मूल्य में वृद्धि नहीं होता है बल्कि ह्रास होता है। उन्होंने कहा जब हम कार खरीदते हैं तो उसके मूल्य में ह्रास होता है, इस तरह यह Bad Loan में आता है। ट्रेवल लोन भी Bad Loan कैटेगरी में आता है।

आप पूरा इंटरव्यू इस लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैंः

सवाल: ऐसे लोग जो क्रेडिट कार्ड के लोन के दलदल में फंस चुके हैं, वे इससे कैसे बाहर निकल सकते हैं?

स्टीवनः जो लोग क्रेडिट कार्ड लोन के भंवर में फंस जाते हैं, उन्हें सबसे पहले यह समझना होगा कि ये गलत है। लोन के जाल से निकलने के लिए आपके पास मौजूद सेविंग या अन्य स्रोत से क्रेडिट कार्ड या किसी भी तरह के लोन का भुगतान करना सबसे अहम है। यह जरूरी है क्योंकि क्रेडिट कार्ड पर सबसे ज्यादा ब्याज लगता है।

सवाल: अचानक जरूरत पड़ने पर पर्सनल लोन लेने का रास्ता कितना सही होता है?

हेमंत बेनीवालः मेरे ख्याल से पर्सनल लोन आखिरी विकल्प ही है। हालांकि, इन सब चीजों से पहले यह समझना जरूरी है कि लोन समस्या नहीं है। वस्तुतः लोन एक सिम्टम है। असल बीमारी ये है कि आपने सेविंग नहीं की या फिर आप एक्स्ट्रा खर्च करते हैं। लेकिन अगर आप किसी तरह की ऐसी समस्या में फंस गए हैं तो यह अंतिम विकल्प होना चाहिए। इससे यथासंभव बचना चाहिए। लोग अपने एफडी से पैसे निकालकर अचानक आए खर्च को मैनेज कर सकते हैं क्योंकि पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड पर लोन एक बहुत बड़ा जाल है।