Menu
blogid : 29194 postid : 6

भारत में 'ओमिक्रॉन वैरिएंट' तेजी अपने पैर पसार रहा

Suresh Kumar Choudhary
Suresh Kumar Choudhary
  • 4 Posts
  • 0 Comment

दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन वैरिएंट (बी.1.1.529 ) ने पूरी दुनिया को फिर से सावधान कर दिया है। वैज्ञानिको के अनुसार दक्षिण अफ्रीका में मिले इस नए वैरिएंट में संक्रमण फैलने की रफ़्तार कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से 10 प्रतिशत ज्यादा होने की संभावना है। 24 नवम्बर 2021 को  दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला केस दुनिया के सामने आया था।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन याने WHO ने भी इसकी जांच के बाद इस वैरिएंट को "वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न " की श्रेणी में रखा है।  भारत में कोरोना के दूसरी लहर में मुख्य भूमिका वाले डेल्टा वैरिएंट में एस प्रोटीन में 18 म्यूटेशन हुए थे जबकि इस नए वैरिएंट में कुल 50 म्यूटेशन हो चुके है , जिनमे से 30 म्यूटेशन तो उसके एस प्रोटीन में हुए है। कोरोना वायरस मनुष्य के शरीर में केवल एस प्रोटीन याने कि स्पाइक प्रोटीन के माध्यम से ही प्रवेश करता है। अभी तक लगभग 35 देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के केस दुनिया के सामने आ चुके है। कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका से हवाई सेवाओं पर भी रोक लगा दी है। सभी देशों को अपने नागरिको की चिंता है और यह सभी देश पूरी कोशिश कर रहे है कि कैसे नए ओमिक्रॉन वैरिएंट को रोका जाए।

भारत के सन्दर्भ में बात करे तो ओमिक्रॉन वैरिएंट के केस मिलने की शुरुआत कर्नाटक राज्य से हो चुकी है परन्तु अब यह नया खरतरनाक वैरिएंट अब तेजी से अपने पैर पसार रहा है। यह ब्लॉग लिखने तक यह भारत के पाँच राज्यों (कर्नाटक, गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली और राजस्थान ) तक फैल चूका है।अगर यही रफ्त्तार रही तो इस ओमिक्रॉन वैरिएंट पर लगाम लगानी मुश्किल हो सकती है। इसलिए केंद्र व राज्य सरकारों को मिल कर जल्दी से इस इस मामले में कड़े कदम उठाने चाहिए। थोड़ी सी भी लापरवाही देश में तीसरी लहर का कारण बन सकती है। 

भारत को ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित देशों से आने वाली सभी अन्तर्राष्ट्रीय फ्लाइट्स को बंद कर देना चाहिए क्योंकि सबसे पहले इस संक्रमित चैन को तोड़ना जरुरी है। यदि हवाई सेवा पर रोक नहीं लगाई जाती है तो संक्रमित देशो से ज्यादा संक्रमित लोग भारत पहुँचेगे जो भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट को फैलाने में बड़ी भूमिका निभा सकते है।  अभी भारत में लोग पहले जैसी सावधानी नहीं रख रहे है, भारतीय बाज़ारों में अक्सर भीड़ देखी जा रही है लोग कोरोना नियमों के पालन में कोताही बरत रहे है जो आने वाले समय में घातक भी साबित हो सकती है। इसलिए लोगो को इस नए खतरे से सावधान के साथ-साथ कोरोना गाइडलाइन की पालना हेतु अनुरोध किय जाये। ताकि भारत को इस नए खतरे से बचाया जा सके।