Menu
blogid : 316 postid : 351

कौमार्य भी बिकता है

एक समय था जब लडकियां अपना कौमार्य बचाने के लिए सब कुछ करती थीं, अपने कौमार्य को एक अमूल्य धन की तरह रखती थीं. लेकिन अब समय बदल गया है, आज न सिर्फ कौमार्य बिकता है बल्कि कई लड़कियां खुद इसकी बोली भी लगाती हैं. कलयुग के इस दौर में वासना इस कदर फूट-फूट कर भरी हुई है कि वेश्यावृत्ति के दलालों को अब लड़कियों का कौमार्य भी  पैसा कमाने का एक तरीका नजर आता है. पश्चिम में फैलता यह काला कारोबार किस कदर हमारे ऊपर हावी हो सकता है आइए डालते हैं एक नजर.

chest_400705143हाल ही में ब्रिटेन में एक समाचार के अनुसार एक ऐसे गैंग का भंडाफोड़ हुआ है जो नाबालिग और कुंवारी लड़कियों को वेश्याओं की तरह इस्तेमाल करते थे. यह लोग इंटरनेट के सहारे एक वेबसाइट पर इन लडकियों को इस दलदल में डालते थे. इस सारे प्रकरण में तीन महिलाओं समेत एक युवक को एक होटल से पकड़ा गया. देखने वाली बात यह थी कि जिन लड़कियों को वेश्याओं के तौर पर बेचा जा रहा था उसका बकायदा प्रचार भी किया गया कि इनका कौमार्य लूटिए और मजे उड़ाइए यानी कौमार्य को निशाना बना अधिक पैसा कमाने की चाहत थी इन लोगों की और सहारा लिया गया इंटरनेट का.

अब समाज और संस्कृति के लिहाज से इस पूरे प्रकरण में दो चीजें दांव पर लगी हैं पहली इंटरनेट और इसकी उपयोगिता और साथ ही क्या वासना और पैसों के लिए अब शरीर इतना सस्ता हो चुका है.

Virginity1इंटरनेट का ऐसा रुप

आजकल इंटरनेट से अधिक सुगम और व्यापक आपसी आदान प्रदान का कोई माध्यम नहीं रह गया है. हर जगह इसकी आसान पहुंच और ने इसे हवा से भी ज्यादा तेज तरीके से हमारे समाज में जमा दिया है. आज इंटरनेट पर ऐसी कई पोर्न और अश्लील वेबसाइट हैं जिनके द्वारा न सिर्फ पोर्न और नग्नता को परोसा जाता है बल्कि देह व्यापारियों के लिए ऐसी वेबसाइट विज्ञापन करने का एक जरिया होता है.

लड़कियों की तस्वीर और उनकी जानकारी डाल उन्हें नीलाम किया जाता है और कई साइटें तो बाकायदा नीलामी भी लगवाती हैं. ऐसी वेबसाइटों को बंद करना या इनके मालिकों का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि अगर आप एक वेबसाइट बंद कर देते हैं तो दो और वेबसाइट शुरु हो जाती है. कई वेबसाइटों को विदेशों की लड़कियां खुद ही चलाती है उस पर अपने कौमार्य की बोली लगवाती हैं.

इंटरनेट ने हमें बहुत कुछ दिया है. सुगमता, समय की बचत और ढ़ेरों जानकारी एक साथ एक ही समय इंटरनेट पर ही मिलती है. लेकिन भोग और वासना के इन भूखों के लिए इंटरनेट किसी खजाने से कम नहीं है जहां बेपनाह पोर्न और अश्लीलता भरी हुई है. आज भारत में भी ऐसी हजारों साइटे खुलती जा रही हैं क्योंकि पैसों की चाहत और देह व्यापार को चलाने का एक बेहतर उपाय जो ठहरा इंटरनेट. इंटरनेट की ग्लोबल पहुंच से अब छोटे-छोटे देह व्यापारी और वेश्याएं भी हाई प्रोफाइल बनती जा रही हैं.

rape_girlक्या कौमार्य की भी कीमत लगाई जा सकती है

अधिकतर पश्चिमी सभ्यता और समाज के बारें में कहा जाता है कि वहां खुलेपन को स्वीकारा जाता है और कौमार्य आदि को इतनी महत्ता नहीं दी जाती. वहां शादी से पहले सेक्स को भी गलत नहीं मानते, यानी कि पूरे खुले विचार से जीवन अपने नियमों पर जीने की आजादी है लेकिन क्या सभ्यता और नैतिकता को खुलेपन से अलग किया जा सकता है. चाहे पश्चिम हो या पूर्व हर जगह समाज है. समाज में कुछ अच्छे तो कुछ बुरे लोग रहते हैं.

वेश्यावृत्ति का यह फंडा

जो लोग कौमार्य की बोली लगाते हैं या जो लड़किया ऐसा करवाती हैं वह कहीं न कहीं समाज के सामने एक गलत उदाहरण पेश करती हैं. ऐसे मामले भी देखने में बहुत आते हैं जब लड़कियां अपने परिवार के लिए या किसी मजबूरी में पैसा कमाने के लिए अपना विज्ञापन वेबसाइटों पर डालती हैं और ऐसा करने वाली कोई अनजान लड़की नहीं बल्कि पूरी जानकार होती हैं. पैसा और पेट पहले भी मजबूरी और शोषण का रास्ता थे लेकिन इंटरनेट ने इस रास्ते में एक फ्लाईओवर की तरह काम किया है.

ज्यादा मुनाफा और लोकप्रियता को हासिल करने के लिए कौमार्यको निशाना बनाया जा चुका है, अब बस इंतजार है तो इस शोषण के पूर्वी देशों में पहुंचने का. छोटी-छोटी लड़कियों को जबरन देह-व्यापार में घसीट कर उनसे यह पाप करवाना हैवानियत की हद दर्शाता है.

यहां भी धोखा है

कहते हैं धोखे के खेल में धोखा ही मिलता है. इंटरनेट पर जिन लड़कियों के कौमार्य को विज्ञापन बना दिखाया जाता है वास्तव में अक्सर ऐसा कौमार्य नकली होता है. जी हां, कौमार्यता भी आप एक सर्जरी से दुबारा प्राप्त कर सकते हैं. असल में कौमार्यता की निशानी एक झिल्ली को सजर्री से द्वारा पुन: प्राप्त किया जा सकता है. टीन-एज सेक्स, रेप या खेल-कूद से चोट लगने पर कई बार भूलवश जब यह झिल्ली(हाइमन) फट जाती है तो इसे पुन: प्राप्त किया जा सके इसके लिए इस सर्जरी का निर्माण हुआ लेकिन अब यह देह-व्यापारियों की चांदी कर रहा है. यह सर्जरी अधिकतर चीन और जापान में होती है और वह भी बेहद सस्ती.

सर्जरी से बार-बार कौमार्यता को हासिल कर यह देह-व्यापारी अधिक पैसा कमाते जा रहे हैं.

बचें कहीं यह पाप हम पर भारी न पड़े

भारत जहां लड़कियां शादी से पहले अपने कौमार्य को बेहद संभाल कर रखती थीं, अब पश्चिमी कल्चर की वजह से उन्हें भी यौवनावस्था (टीनएज) में सेक्स की आदत लगती जा रही है. अब हमारे अपने भारत में कई लड़कियां शादी से पहले सेक्स को बुरा नहीं मानतीं बल्कि इसे खुल कर स्वीकारने लगी हैं. लेकिन फिर भी हम अभी अपनी संस्कृति के साथ चल रहे हैं. आज भी भारत में लड़कियां मयार्दा को लांघने से पहले कई बार सोचती हैं.

लेकिन देह-व्यापारियों की गंदी निगाहें हमारे भारत पर पड़ चुकी हैं और अब वह हमारे यहां से नाबालिग लड़कियों को जबरन अगवा कर उन्हें विदेशों में ले जा रहे हैं. मानव-तस्करी में लापता अधिकतर लड़कियों को देह-व्यापार में ही लगाया जाता है. यह गंदा फैल बेशक बाहर रहा हो लेकिन डर का माहैल अंदर तक आ चुका है.

वेश्यावृत्ति और मानव- तस्करी के खिलाफ सरकार समेत अंतराष्ट्रीय संगठनों को भी गंभीरता से सोचना चाहिए ताकि मानव जीवन जानवर बनने से रुक सके. एक बेहतर कल के लिए आज ही छोटे से छोटा कदम प्रभावशाली हो सकता है.