Menu
blogid : 316 postid : 1395863

फाइजर के बाद ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को मिली मंजूरी, अलग अलग कैटेगरी में एप्रूव हो चुकी हैं 9 वैक्सीन

पिछले कई दिनों से वायरस के नए स्ट्रेन से परेशान चल रहे ब्रिटेन ने नई वैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। ऑक्सफोर्ड और आस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को इमरर्जेंसी इस्तेमाल के लिए एप्रूवल मिला है। ब्रिटेन दूसरा ऐसा देश है जिसने अब तक दो वैक्सीन को मंजूरी दी है। दुनियाभर में अब तक कुल 3 वैक्सीन को अलग अलग देशों से फुल एप्रूवल हासिल हुआ है, जबकि 6 वैक्सीन को इमर्जेंसी समेत अलग अलग कैटेगरी में इस्तेमाल की अनुमति मिली है।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan30 Dec, 2020

Image courtesy : Reuters

ब्रिटेन में इमर्जेंसी एप्रूवल मिला
कोरोना महामारी को खत्म करने के लिए कई देश और फार्मा कंपनियां वैक्सीन विकसित करने में जुटी हुई हैं। इसी क्रम में ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी आस्ट्राजेनेका मिलकर कोवीशील्ड वैक्सीन बना रहे हैं। यह वैक्सीन कई देशों में अंतिम ट्रायल्स में है और इसके नतीजे सकारात्मक मिले हैं। रॉयटर्स के अनुसार ब्रिटेन ने ऑक्सफोर्ड की कोवीशील्ड वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है।

दो वैक्सीन एप्रूव करने वाला दूसरा देश
ब्रिटेन दुनिया का पहला देश है जिसने सबसे पहले फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी दी थी। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने फाइजर की वैक्सीन को फुल अप्रूवल दिया है। इस तरह ब्रिटेन में अब दो वैक्सीन अप्रूव हो चुकी हैं। हालांकि, इससे पहले कनाडा फाइजर और मॉडर्ना वैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी दे चुका है। सबसे पहले दो वैक्सीन को मंजूरी देने वाला देश कनाडा है।

भारत में कभी भी मिल सकती है मंजूरी
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और आस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को भारत में भी विकसित किया जा रहा है। फार्मा कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट कोवीशील्ड वैक्सीन को विकसित कर रही है। वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाल की मंजूरी के लिए डीजीसीआई के पास आवेदन किया गया है। इमर्जेंसी इस्तेमाल की मंजूरी के लिए डीजीसीआई के पास कोवैक्सीन और फाइजर के आवेदन भी हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि बुधवार को होने वाली बैठक में वैक्सीन की मंजूरी को लेकर फैसला हो सकता है।

Image courtesy : IANS

3 वैक्सीन हासिल कर चुकी हैं फुल एप्रूवल
अब तक कुल 3 वैक्सीन को अलग अलग देशों ने फुल एप्रूवल दिया है। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक फाइजर वैक्सीन को ब्रिटेन, कनाडा समेत कई देशों ने फुल एप्रूवल दिया है। इसके अलावा मॉडर्ना वैक्सीन को कनाडा ने फुल एप्रूवल दिया है। वहीं, चीन की सीनोफार्म वैक्सीन को बहरीन और यूएई ने फुल एप्रूवल दिया है। तीनों वैक्सीन को कई देशों ने केवल इमर्जेंसी और सीमित इस्तेमाल की मंजूरी दी हुई है।

6 वैक्सीन को अलग अलग कैटेगरी में मंजूरी
ऑक्सफोर्ड और आस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को मिलाकर अब तक 6 वैक्सीन को कई देशों ने शुरुआती, इमर्जेंसी और सीमित कैटेगरी में इस्तेमाल करने की अनुमति दी है। इनमें गैमेलिया वैक्सीन को रूस, अर्जेंटीना और बेलारूस ने अप्रूवल दिया है। जबकि, कैनसीन, सीनोवेक और सीनोफार्म बीजिंग वैक्सीन को चीन, वैक्टर को रूस और सीनोफार्म वुहान वैक्सीन को चीन यूएई से अलग अलग कैटेगरी में एप्रूवल मिल चुका है।...NEXT

 

Read More: अमेरिका में रिकॉर्ड 2.50 लाख कोरोना मरीज मिलने से सनसनी

इन 7 देशों में मुफ्त लगेगी कोरोना वैक्सीन

1 करोड़ के नजदीक पहुंचे कुल संक्रमित मामले

जॉर्डन समेत 9 देशों में कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिली

भारत में 3 वैक्सीन को मंजूरी का इंतजार