Menu
blogid : 316 postid : 1397824

कोरोना की एक और दवा को मिली मंजूरी, दुनियाभर में इस्तेमाल हो रहीं 21 वैक्सीन

कोरोना को खत्म करने के लिए दुनियाभर में वैक्सीन और दवा विकसित करने के प्रयास जारी हैं। अबतक कुल 21 वैक्सीन कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की जा रही हैं। जबकि, कई तरह की दवा/टैबलेट भी इस्तेमाल की जा रही हैं। भारतीय दवा नियामक संस्था ने हेटेरो बायोलॉजिक्स की दवा को कोरोना के इलाज में आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दे दी है।

Shakti Singh
Shakti Singh 6 Sep, 2021

 

 

वयस्क मरीजों पर इस्तेमाल होगी दवा- 
हेटरो बायोलॉजिक्स के अनुसार भारतीय दवा नियामक संस्था डीजीसीआई ने उसकी दवा टॉसिरा (टॉसिलीजुमैब) के जेनेरिक वर्जन को कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की मंजूरी दी है। इस दवा को अस्पताल में भर्ती वयस्क कोरोना मरीजों पर आपातकालीन स्थिति में उपयोग की अनुमति दी गई है।

टैबलेट और वॉयल फॉर्म में उपलब्ध- 
रिपोर्ट के अनुसार यह दवा 400 एमजी टैबलेट के रूप में और 20 एमएल वॉयल के तौर पर सितंबर के अंत तक उपलब्ध हो जाएगी। दवा को हेटरो बायोलॉजिक्स ग्रुप की कंपनी हेट्रो बायोफॉर्मा मैनुफैक्चर करेगी। जबकि, दवा को देशभर में पहुंचाने का काम ग्रुप की एक और कंपनी हेटेरो हेल्थकेयर करेगी।

हेटरो की दवाएं पहले भी मंजूर हो चुकीं- 
इससे पहले भी डीजीसीआई हेटरो की दो दवाओं को इस्तेमाल की मंजूरी दे चुका है। इस तरह मंजूरी पाने वाली यह हेटरो की तीसरी दवा है। बता दें कि डीजीसीआई ने पिछले साल जुलाई 2020 में हेटरो एंटीवायरल दवा फेवीपिराविर को भी मंजूरी दे चुका है। यह बाजार में फेवीविर के नाम से उपलब्ध है। वहीं, हेटरो की दूसरी रेमेडसिविर दवा कोवीफोर को मंजूरी मिल चुकी है।

दुनियाभर में 21 वैक्सीन इस्तेमाल हो रहीं- 
कोरोना को खत्म करने के लिए दुनिया में कुल 21 वैक्सीन को अलग अलग कैटेगरी में इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। इनमें से 8 वैक्सीन को कोरोना के इलाज में इस्तेमाल का फुल एप्रूवल मिल चुका है। जबकि, 13 वैक्सीन को अलग-अलग कैटेगरी में इस्तेमाल के लिए ऑथराइज किया गया है।

भारत में 7 वैक्सीन को मिल चुकी मंजूरी- 
भारत में अबतक कुल 7 वैक्सीन को कोरोना के इलाज में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। सबसे पहले सीरम इंस्टीट्यूट की कोवीशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी मिली थी। इसके बाद स्पुतनिक वी, जॉनसन एंड जॉनसन, मॉडर्ना, जैडस कैडिला और ऑक्सफोर्ड आस्ट्राजेनेका की वैक्सीन शामिल हैं।