Menu
blogid : 316 postid : 1397017

कोरोना से उजड़ गए 4 परिवार, एक के बाद एक मौतों से दहशत, उदासी और सन्‍नाटा

कोरोना महामारी ने क‍ई परिवारों के चहेतों, रिश्‍तेदारों और मित्रों को छीन लिया है। उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश और महाराष्‍ट्र के 4 परिवारों में कोरोना ने ऐसा कहर ढाया है कि युवा से लेकर बुजुर्ग तक को मौत की नींद सुला दिया है। हालात ऐसे बन गए हैं कि परिवार के आखिरी सदस्‍य की हालत भी गंभीर बनी हुई है। महामारी से हुई इन मौतों ने आसपास के लोगों और रिश्‍तेदारों में दहशत के साथ गम और उदासी पैदा कर दी है।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan6 May, 2021

Symbolic image courtesy-Reuters

बालकिशन गर्ग के घर मौत का तांडव
मध्‍य प्रदेश के देवास के मैनाश्री इलाके में रहने वाले बालकिशन गर्ग के घर कोरोना के बहाने आई मौत ने इस कदर तांडव मचाया कि घर के 5 लोगों को लील लिया। बालकिशन गर्ग अग्रवाल समाज के अध्‍यक्ष हैं। सबसे पहले उनकी पत्‍नी चंद्रकला कोरोना की चपेट में आईं तो उनकी मौत हो गई। इसके बाद बड़े बेटे संजय का 19 अप्रैल को निधन हो गया। 20 अप्रैल को छोटे बेटे स्‍वप्‍नेश को भी कोरोना ने लील लिया। पति स्‍वप्‍नेश के जाने का गम बर्दाश्‍त न कर सकी रेखा ने 21 अप्रैल को फांसी लगाकर जान दे दी। इसके बाद बड़े बेटे संजय की पत्‍नी रितु भी कोरोना संक्रमित हो गई। 2 मई को रितु का भी कोरोना से निधन हो गया। बालकिशन के परिवार में अब सिर्फ वे और 4 छोटे बच्‍चे ही बचे हैं।

उज्‍जैन में एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत
मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन में सेठीनगर के पास दमदमा इलाके में एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत होने से हड़कंप मचा हुआ है। यहां रहने वाले 62 साल के हाजी लतीफ खान की कोरोना की वजह से सांस लेने में दिक्‍कत के बाद अस्‍पताल ले जाया गया। जहां 16 अप्रैल को उनका निधन हो गया। इसके उनकी पत्‍नी मेहरूनिसा और उनके 45 वर्षीय बेटे रफीक को भी कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर अस्‍पताल ले जाया गया। अस्‍पताल में 21 अप्रैल को रफीक की मौत हो गई और उसके बाद 22 अप्रैल को मेहरूनिसा ने भी अंतिम सांसे लीं। कोरोना से एक के बाद एक 3 मौतों से इलाके में हड़कंप मच गया।

महाराष्‍ट्र में परिवार का आखिरी सदस्‍य भी गंभीर
महाराष्‍ट्र के पुणे में हड़पसर इलाके में रहने वाले लक्ष्‍मण के घर में कुल पांच थे, जिनमें से 4 सदस्‍यों की कोरोना से मौत हो चुकी है। पहले बड़े भाई को कोरोना हुआ, जिससे माता-पिता, पत्‍नी और भाई भी कोरोना संक्रमित हो गए। सभी लोगों को अप्रैल में अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन, एक-एक करके लक्ष्‍मण, सुमन, श्‍याम सुंदर और विजय कोचेकर की मौत हो गए। जबकि, सुमन कोचेकर भी कोरोना संक्रमित हैं और अस्‍पताल में उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। एक ही परिवार पर कोरोना के वज्रपात से रिश्‍तेदार और आसपास के लोग सदमे में हैं।

यूपी में एक के बाद एक 5 मौतों से शोक
उत्‍तर प्रदेश के गोंडा में एक परिवार के 5 लोगों की मौत से इलाके में सनसनी फैली हुई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गोंडा जिले के चकरौत गांव में अंजनी श्रीवास्‍तव के परिवार से करीब 15 दिन के भीतर 5 लोगों की मौत हो चुकी है। अंजनी ने बताया कि उनके बड़े भाई 56 साल के हनुमान प्रसाद का 2 अप्रैल को निधन हो गया। इसके बाद 14 अप्रैल को उनकी 75 वर्षीय मां माधुरी देवी का भी निधन हो गया। 15 अप्रैल को 21 साल के सौरभ की अस्‍पताल में मौत हो गई। बेटे की मौत से पिता अश्‍विनी और मां ऊषा की तबियत बिगड़ी और दोनों ने 22 और 24 अप्रैल को अस्‍पताल में दम तोड़ दिया। लोगों का मानना है कि ये मौतें कोरोना की वजह से हुई हैं, लेकिन परिजन बीमारी से मौत की बात कहते हैं।...Next

 

नोट- कोरोना संबंधित लक्षण सामने आने पर तत्‍काल चिकित्‍सक से संपर्क करें। लापरवाही कतई न करें।

 

 

ये भी पढ़ें:  हैदराबाद में 8 एशियाई शेर कोरोना संक्रमित मिले 

जू में 9 गोरिल्‍ला को लगाई गई कोरोना वैक्‍सीन

कोरोना वैक्सीन चोरी के बाद ऑक्सीजन से भरा टैंकर गायब

35 हजार में बेच रहा रेमडेसिविर इंजेक्‍शन, गिरफ्तार