Menu
blogid : 316 postid : 1397009

कोरोना लक्षण दिखने पर कौन सी दवा खाएं इस नंबर पर पूछें, रेमडेसिविर या ऑक्‍सीजन की मुनाफाखोरी पर यहां करें शिकायत

कोरोना महामारी के दौरान सरकार और प्रशासन लोगों की हर तरह से मदद करने में जुटा है। बीते दिनों में ऑक्‍सीजन और रेमडेसिविर समेत अन्‍य दवाओं की मांग बढ़ने पर मुनाफाखोरी के कुछ मामले सामने आए थे। इन स्थितियों से निपटने के लिए हरियाणा सरकार ने खास योजना बनाई है। इसके लिए हेल्‍पलाइन नंबर जारी किया गया है। वहीं, कोरोना के लक्षण दिखने पर कौन सी दवा खाएं ये पूछने के लिए भी फोन नंबर जारी किया गया है। ताकि, लोग अफवाहों से बचें और सही दवा का इस्‍तेमाल कर पाएं।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan6 May, 2021

हरियाणा सरकार का कड़ा कदम 
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने एएनआई को बताया कि अगर कोई भी मुनाफाखोरी करने की कोशिश करेगा और दवा के ज्यादा पैसे लेगा तो इसके लिए हमने एक हेल्पलाइन बनाई है। इसकी निगरानी खुद DGP कर रहे हैं। इसका नंबर 18001801314 है। इस पर कोई भी फोन करके बता सकता है। उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी। उन्‍होंने कहा कि इस मामले में हमने 40-45 लोगों को गिरफ्तार किया है।

डॉक्‍टर बताएंगे कौन सी दवा खाएं
गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोरोना में आयुर्वेदिक दवाओं का बहुत बड़ा रोल है। लोगों को मालूम नहीं है कि कब कौन सी दवा लेनी है। इसलिए मैंने आज से टेलीमेडिसिन सेवा शुरू की है। 1075 नंबर पर जब कोई फोन करेगा तो विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम बताएगी की कौन से लक्षण में कौन सी दवा लेनी है। वहीं, कोरोना से जुड़ी अन्‍य जानकारी के लिए 011-23978046 नंबर पर फोन किया जा सकता है।

haryana home minister anil vij.

निजी अस्‍पतालों को लगाना होगा ऑक्‍सीजन प्‍लांट
गृह मंत्री ने कहा कि हरियाणा के सारे अस्पतालों को हम ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बनाने जा रहे हैं। 6 प्लांट शुरू हो गए हैं। 60 प्लांट केंद्र सरकार ने हमें और मंजूर किए हैं। सभी अस्पतालों में इसे लगाने का काम शुरू हो गया है। हमने निजी अस्पतालों को भी हिदायत दे दी है कि हर निजी अस्पताल को भी अपनी आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाना पड़ेगा। अगर वे नहीं लगाएंगे तो सख्त कार्रवाई करेंगे।...Next

 

 

ये भी पढ़ें:  हैदराबाद में 8 एशियाई शेर कोरोना संक्रमित मिले 

जू में 9 गोरिल्‍ला को लगाई गई कोरोना वैक्‍सीन

कोरोना वैक्सीन चोरी के बाद ऑक्सीजन से भरा टैंकर गायब

35 हजार में बेच रहा रेमडेसिविर इंजेक्‍शन, गिरफ्तार