Menu
blogid : 316 postid : 1396398

1 मार्च से बुजुर्गों और बीमार लोगों को भी लगेगी वैक्सीन, निजी अस्पताल में चुकानी होगी फीस

कोरोना को खत्‍म करने के लिए देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान का फेज-1 चल रहा है। अब 1 मार्च से फेज-2 शुरू होगा। टीकाकरण के पहले चरण में स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्‍सीन लगाई गई है। वहीं, दूसरे चरण में बुजुर्गों और बीमार लोगों को वैक्‍सीन लगाई जाएगी। सरकारी केंद्रों पर वैक्‍सीन निशुल्‍क होगी, जबकि निजी अस्‍पतालों में फीस चुकानी होगी।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan24 Feb, 2021

Image courtesy: IANS

पहले चरण में 1.21 करोड़ से अधिक टीका लाभार्थी
कोरोना महामारी ने दुनियाभर को मुसीबत में डाल रखा है। भारत ने जनवरी में दो वैक्‍सीन को इस्‍तेमाल की मंजूरी दी थी और 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरूआत की गई थी। अब तक 1.21 करोड़ से ज्‍यादा लोगों को वैक्‍सीन लगाई जा चुकी है। इनमें 14 लाख से अधिक लोगों को वैक्‍सीन का दूसरा डोज भी लग चुका है।

दूसरे चरण में बुजुर्गों और बीमारों को लगेगी वैक्‍सीन
टीकाकरण का पहला चरण फरवरी को संपन्‍न हो जाएगा और 1 मार्च से दूसरा चरण शुरू होगा। जहां पहले चरण में डॉक्‍टर्स, मेडिकल स्‍टाफ, सुरक्षाकर्मियों और चिकित्‍सा क्षेत्र से जुड़े लोगों को वैक्‍सीन लगाई है, वहीं अब दूसरे चरण में 60 वर्ष के बुजुर्गों को वैक्‍सीन लगाई जाएगी। इसके अलावा 45 वर्ष के उन लोगों को भी वैक्‍सीन लगेगी जो किसी अन्‍य बीमारी से ग्रसित हैं।

निजी अस्‍पतालों में वैक्‍सीन के दाम चुकाने होंगे
एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 1 मार्च से 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के 10 करोड़ से ज्यादा लोगों और 45 वर्ष के बीमारी से ग्रसित लोगों को भी वैक्‍सीन लगेगी। 10 हजार सरकारी केंद्रों पर और लगभग 20 हजार से ज्यादा निजी अस्पतालों में यह टीका लगाया जाएगा। जो लोग 10 हजार सरकारी केंद्रों पर जाकर वैक्‍सीन लगवाएंगे उनको मुफ्त टीका लगेगा। जो लोग निजी अस्पताल में वैक्‍सीन लगावाएंगे उनको शुल्क देना होगा। शुल्क कितना होगा इसके बारे में स्वास्थ्य विभाग 2-3 दिन में घोषणा करेगा।

200 रुपये की दर से खरीदी गई थीं 1.65 करोड़ खुराक
जनवरी में टीकाकरण अभियान शुरू होने से पहले एक रिपोर्ट में बताया गया था कि सरकार ने सीरम इंस्‍टीट्यूट और भारत बायोटेक से कुल 1.65 करोड़ खुराक खरीदी हैं। सीरम इंस्‍टीट्यूट की वैक्‍सीन कोवीशील्‍ड के 1.10 करोड़ डोज लिए गए हैं। जबकि, भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन के 55 लाख डोज खरीदे गए हैं। सरकार ने कोवीशील्‍ड की प्रति खुराक 200 रुपये की दर से खरीदी और कोवैक्‍सीन की प्रति खुराक 295 रुपये की दर से खरीदी थीं।

 

00