Menu
blogid : 19157 postid : 1289759

भारत की इस जगह नहीं मनाते हैं दिवाली, श्रीकृष्ण की होती है पूजा

भारत ही एक ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा त्योहार मनाए जाते हैं. त्योहारों को लेकर लोगों की अपनी-अपनी पसंद है लेकिन बात करें सबसे ज्यादा लोकप्रिय त्योहार की, तो वो है दिवाली. क्या आप जानते हैं कि दिवाली केवल अपने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मनाई जाती हैं. सिंगापुर, मलेशिया, नेपाल, त्रिनिनाद, मॉरिशस जैसे देश इनमेंं प्रमुख है लेकिन भारत के कुछ हिस्से ऐसे भी हैं जहां दिवाली नहीं मनाई जाती.

diwlai cover

केरल में नहीं मनाते दिवाली

उत्तर भारत में रामायण के अनुसार जब प्रभु़ श्रीराम ने रावण को युद्ध में हराया. उसके बाद लक्ष्मण व सीता सहित लगभग 14 वर्ष बाद कार्तिक अमावस्या को अयोध्या वापस लौटे थे, इसलिए इस दिन दीपक और आतिशबाजी के साथ उनका स्वागत किया गया. तब से दिवाली मनाए जाने लगी लेकिन दूसरी तरफ केरल में दिवाली नहीं मनाई जाती. केरल में प्रचलित पौराणिक कहानियों के अनुसार यहां पर दिवाली के दिन यहां के राजा बालि की मृत्यु हुई थी. इसलिए यहां दिवाली पर कोई रौनक नहीं होती. इसके अलावा दक्षिण भारत के कुछ राज्यों में दिवाली श्रीराम की वापसी का दिन नहीं बल्कि इस दिन श्रीकृष्ण ने नारकासुर का वध किया था. इस कारण दिवाली मनाई जाती है.

_deepavali

Read: लक्ष्मी ने इंद्र को बताया था यह रहस्य, इन घरों में होती हैं विराजमान

तमिलनाडु में कहते है नरक चतुदर्श

दक्षिण भारत में यहां दिवाली के एक दिन पहले यानी नरक चतुर्दशी के नाम से बनाई जाती है.

diwaliii

श्रीलंका में तमिल मनाते हैं दिवाली

श्रीलंका में भी दिवाली मनाई जाती है लेकिन यहां सिंहली समुदाय के लोग दिवाली नहीं मनाते सिर्फ तमिल समुदाय के लोग दिवाली मनाते हैं...Next

Read More:

लाल चुन्नी या चूड़ियां नहीं, नवरात्रि में यहां चढ़ाते हैं माता को केवल हथकड़ी और बेड़ियां

देवी भगवती ऐसे कहलाईं मां दुर्गा, पौराणिक इतिहास में अद्भुत थी ये घटना

हजारों सालों से घट रहा है 'गोवर्धन पर्वत' का आकार, इसके पीछे की ये है रोचक कहानी

लाल चुन्नी या चूड़ियां नहीं, नवरात्रि में यहां चढ़ाते हैं माता को केवल हथकड़ी और बेड़ियां
देवी भगवती ऐसे कहलाईं मां दुर्गा, पौराणिक इतिहास में अद्भुत थी ये घटना
हजारों सालों से घट रहा है 'गोवर्धन पर्वत' का आकार, इसके पीछे की ये है रोचक कहानी