Menu
blogid : 19157 postid : 1316124

अगर दुर्योधन ने सुना होता भगवान श्री कृष्ण का यह उपदेश, तो नहीं बदलता भारत का इतिहास!

भारत में ग्रंथों की पूजा सिदयों से होती चली आ रही है. आज भारत में लोगों के बीच भले ही परमात्मा रुपी रूह नहीं है लेकिन इन महान ग्रंथों ने मनुष्य की अंतर-आत्मा को बांधकर सही राह पर चलना सिखाया है. इन्हीं में से एक है भागवत गीता जिसमें हिन्दू धर्म में अन्य नामो से भी पुकारा जाता है जैसे, भागवात पुराण, भगवत, भागवतम इत्यादि. इस ग्रंथ में न केवल सही राह पर चलने का मार्ग प्रदर्शित किया गया है बल्कि उस युग से जुड़ी ऐसी बातों का वर्णन भी किया गया है जिससे कलयुग का मानव वंचित है.

krihsna cover

कृष्ण देने वाले थे दुर्योधन को गीता ज्ञान

लेकिन इस महान ग्रंथ के नाम और इसमें बसी कथाओं के अलावा क्या आपने इस ग्रंथ के रोचक तथ्यों को कभी जाना है? कहा जाता है भगवान श्री कृष्ण ने एक बार दुर्योधन को भी स्वयं गीता ज्ञान के उपदेश देने की बात कही थी.

krishna

दुर्योधन ने रोका श्री कृष्ण को

कहते हैं श्री कृष्ण, जिन्हें भागवत पुराण में सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है, उन्होंने एक दफा दुर्योधन को स्वयं भागवत गीता का पाठ पढ़ाने की कोशिश की थी. लेकिन अहंकारी दुर्योधन ने यह कहकर श्री कृष्ण को रोक दिया कि वे सब जानते हैं. यदि उस समय दुर्योधन श्री कृष्ण के मुख से भागवत गीता के कुछ बोल सुन लेते तो आज महाभारत के युद्ध का इतिहास ही कुछ और होता.

duryodhana

इनके सामने कृष्ण ने अर्जुन को सुनाई थी गीता

यह बात शायद ही कोई जानता है कि जब श्री कृष्ण ने पहली बार अर्जुन को भागवत गीता सुनाई थी, तब वहां अर्जुन अकेले नहीं थे बल्कि उनके साथ हनुमान जी, संजय एवं बर्बरीक भी मौजूद थे. हनुमान उस समय अर्जुन के रथ के ऊपर सवार थे. दूसरी ओर संजय को श्री वेद व्यास द्वारा वैद दृष्टि का वरदान प्राप्त था जिस कारण वे कुरुक्षेत्र में चल रही हर हलचल को महल में बैठकर भी देख सकते थे और सुन सकते थे. जबकि बर्बरीक, जो घटोत्कच के पुत्र हैं, वे उस समय श्री कृष्ण और अर्जुन के बीच चल रही उस बात को दूर पहाड़ी की चोटी से सुन रहे थे.

arjuna

ऐतिहासिक माना जाता है कृष्ण और अर्जुन संवाद

कहा जाता है कि महाभारत युद्ध के दौरान श्री कृष्ण और अर्जुन के बीच हुई वह बातचीत ऐतिहासिक नहीं है, लेकिन आज का युग उसे ऐतिहासिक दृष्टि से देखता है, क्योंकि आज मनुष्य में महाभारत के उस युग को अनुभव करने की क्षमता व दैविक शक्तियां प्राप्त नहीं है. जो ऋषि-मुनि अपने तप से वह शक्तियां प्राप्त कर लेते हैं. वे बंद आंखों से अपने सामने महाभारत युग में हुए एक-एक अध्याय को देख सकते हैं.

krishnaa

इस महान वैज्ञानिक ने की थी गीता की तारीफ

भागवत गीता की रचनाओं को ना केवल भारत के विभिन्न धर्मों की मान्यता हासिल है बल्कि एक समय में दुनिया के जाने-माने वैज्ञानिक रहे अल्बर्ट आइंस्टीन ने भी इस महान ग्रंथ की सराहना की है. इसे संक्षेप में वे बताते हैं कि भागवत गीता को उन्होंने अपनी उम्र के आखिरी पड़ाव में पढ़ा था. यदि वे इसे अपनी जिंदगी की शुरुआती पड़ाव में पढ़ लेते तो ब्रह्मांड और इससे जुड़े तथ्यों को जानना उनके लिए काफी आसान हो जाता. यह देवों द्वारा रचा गया ऐसा ग्रंथ है जिसमें ब्रह्मांड से भूतल तक की सारी जानकारी समाई है…Next

Read More:

इस कारण से दुर्योधन के इन दो भाईयों ने किया था उसके दुष्कर्मों का विरोध

महाभारत में शकुनि के अलावा थे एक और मामा, दुर्योधन को दिया था ये वरदान

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

इस कारण से दुर्योधन के इन दो भाईयों ने किया था उसके दुष्कर्मों का विरोध
महाभारत में शकुनि के अलावा थे एक और मामा, दुर्योधन को दिया था ये वरदान
आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा