Menu
blogid : 19157 postid : 1306418

महाभारत : श्रीकृष्ण ने दान में मांगा था इस योद्धा का सर, आज है इनका मंदिर

महाभारत के युद्ध को धर्मयुद्ध भी कहा जाता है. ये युद्ध सिर्फ शासन, राजपाट या द्रौपदी के अपमान का बदला लेने के लिए नहीं बल्कि विचारधाराओंं का भी था. आज महाभारत के युद्ध को हजारों साल बीत चुके हैंं, लेकिन कलियुग में भी इससे काफी कुछ सीखा जा सकता है. महाभारत में श्रीकृष्ण की भूमिका को बेहद अहम माना जाता है.

cover

श्रीकृष्ण अर्जुन के सारथी थे, लेकिन जरूरत पड़ने पर उन्होंने भीष्म पितामह के लिए शस्त्र उठा लिया. इसके अलावा उन्होंने पांडवो की जीत में आने वाली सभी कठिनाईयों को भी मार्ग से हटा दिया.

krishna

ऐसी ही एक कहानी है, घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक की. जिसका सिर कृष्ण ने दान में मांग लिया था और उनके इस बलिदान के बदले उन्हें खुद में समाहित कर लिया. आइए जानते हैं महाभारत की एक और दिलचस्प कहानी.

kirhsnnn

बर्बरीक भीम का पोता और घटोत्कच का पुत्र था. बर्बरीक को कोई नहीं हरा सकता था, क्योंकि उसके पास कामाख्या देवी से प्राप्त हुए तीन तीर थे, जिनसे वह कोई भी युद्ध जीत सकता था. पर उसने शपथ ली थी की वह सिर्फ कमजोर पक्ष के लिये ही लड़ेगा.

kirhsnna

अब चुकी बर्बरीक जब वहां पहुंचा तब कौरव कमजोर थे, इसलिए उसका उनकी तरफ से लड़ना तय था. जब यह बात श्रीकृष्ण को पता चली तो उन्होंने उसका शीश ही दान में मांग लिया तथा उसे वरदान दिया कि आप कलियुग में मेरे नाम से जाना जाएगा. इसी बर्बरीक का मंदिर राजस्थान के सीकर जिले के खाटूश्यामजी में है, उनकी बाबा श्याम के नाम से पूजा होती है...Next

Read More:

महाभारत की इस घटना में किया गया था अश्वत्थामा से छल, द्रोणाचार्य को भी सहना पड़ा था अन्याय

महाभारत के युद्ध में बचे थे केवल 18 योद्धा, जानिए इस अंक से जुड़े आश्चर्यजनक रहस्य

मृत्यु के बाद महाभारत के इन 4 योद्धाओं की थी सबसे कठिन अंतिम इच्छा

हाभारत की इस घटना में किया गया था अश्वत्थामा से छल, द्रोणाचार्य को भी सहना पड़ा था अन्याय

महाभारत के युद्ध में बचे थे केवल 18 योद्धा, जानिए इस अंक से जुड़े आश्चर्यजनक रहस्य

मृत्यु के बाद महाभारत के इन 4 योद्धाओं की थी सबसे कठिन अंतिम इच्छा