Menu
blogid : 19157 postid : 1389357

राममंदिर भूमिपूजन के बाद जानकीधाम भेजे जाएंगे रघुपति लड्डू, अतिथियों को भेंट किए जाएंगे चांदी के सिक्के

 

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan5 Aug, 2020

 

 

 

 

 

रामनगरी अयोध्या में भगवान राम के मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन कार्यक्रम शुरू हो चुका है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए। भूमिपूजन कार्यक्रम में 175 अतिथियों को आमंत्रित किया गया है। भूमि पूजन के बाद अतिथियों को खास तरीके से बने रघुपति लड्डू और चांदी के सिक्के भेंट किए जाएंगे।

 

 

 

 

 

रघुपति लड्डू बनाने के लिए पटना से मंगाई गई सामग्री
एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक अतिथियों को प्रसाद में भेंट किए जाने वाले रघुपति लड्डू तैयार हो चुके हैं। पटना महावीर मंदिर ट्रस्ट प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल के मुताबिक पटना महावीर मंदिर में हम 20-25 सालों से तिरुपति के 55 कारीगरों की मदद से नैवेद्यम बना रहे हैं। अब अयोध्या भूमिपूजन में शामिल होने वाले अतिथियों को भेंट करने के लिए रघुपति लड्डू बनाया है।

 

 

 

 

1.25 लड्डू अयोध्या और जानकीधाम सीतामढ़ी में वितरित होंगे
आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि वितरण के लिए 1.25 लाख रघुपति लड्डू बना गए हैं। लड्डू में इस्तेमाल हुई सारी सामाग्री हम पटना से मंगवाई गई है। उन्होंने बताया कि 51000 लड्डू रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में वितरित होंगे। इसके अलावा 74000 लड्डू कुछ प्रमुख लोगों को भेंट किए जाएंगे। जो भी लड्डू वितरण के बाद बचेंगे उन्हें जानकी धाम सीतामढ़ी में भेजा जाएगा। हनुमान मंदिर के भक्तों और जहां-जहां राम जी के चरण पड़े थे वहां ये लड्डू बांटे जाएंगे।

 

 

 

 

चांदी के सिक्के में रामदरबार की तस्वीर
अयोध्या में भूमिपूजन कार्यक्रम में आमंत्रित हर अतिथि को प्रसाद के रूप में रघुपति लड्डू के अलावा चांदी का एक सिक्का भी भेंट किया जाएगा। इस चांदी के सिक्के पर रामदरबार की तस्वीर छपी है। इसमें भगवान राम, सीता लक्ष्मण और हनुमान छपे हैं। जबकि सिक्के के दूसरी तरफ राममंदिर निर्माण ट्रस्ट का प्रतीक चिन्ह छपा हुआ है।...Next

 

 

 

Read More:

खंभा फाड़कर निकले नरसिंह भगवान से कैसे पाएं दुश्मन से बचने का आशीर्वाद

महाभारत युद्ध में इस राजा ने किया था खाने का प्रबंध, सैनिकों के साथ बिना शस्‍त्र लड़ा युद्ध

श्रीकृष्‍ण की मौत के बाद उनकी 16000 रानियों का क्‍या हुआ, जानिए किसने किया कृष्‍ण का अंतिम संस्‍कार

अल्‍प मृत्‍यु से बचने के लिए बहन से लगवाएं तिलक, यमराज से जुड़ी है ये खास परंपरा और 4 नियम