Menu
blogid : 19157 postid : 864878

क्यों वर्जित है माता के इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश

छत्तीसगढ़ के धमतरी से पाँच किलोमीटर की दूरी पर पुरूर ग्राम अवस्थित आदि शक्ति माता मावली के मंदिर में एक विचित्र परंपरा चलन में है. अन्य मंदिरों की तरह यहाँ की मान्यता है कि माता के दर्शन से श्रद्धालुओं की मन्नत पूर्ण होती है और नवरात्रि में यहाँ 166 ज्योत जलायी गयी है.

mavli

धमतरी मुख्यालय से करीब पाँच किलोमीटर की दूरी पर स्थित पुरूर की बस्ती में माता मावली देवी की मूर्ति हैं. लेकिन यहां दर्शन के लिए अन्य मंदिरों की तरह महिलायें नहीं आ सकती. महिलाओं का इस मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित है.

Read: इस मंदिर में देवी मां की पूजा से पहले क्यों की जाती है उनके इस भक्त की पूजा

मावली माता का यह मंदिर वर्षों पुराना है. मान्यताओं के अनुसार एक बार इस मंदिर के पुजारी को सपने में भूगर्भ से निकली माता मावली दिखाई दी और माता ने उससे कहा कि वह अभी तक कुंवारी हैं. इसी कारण महिलाओं का यहाँ आना वर्जित रखा जाये. पुजारी के इस स्वप्न वाली बातों की चर्चा आसापस के गाँवों में फैल गयी. इस कारण माता के दर्शन के लिये केवल पुरूष ही पहुँचते हैं.

Read: क्यों इस मंदिर के शिवलिंग पर हर बारहवें साल गिरती है बिजली?

गुलाब, गेंदा, सूरजमुखी, सेवंती के फूल इस मंदिर के आकर्षण का केंद्र हैं. हालांकि मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित होने के कारण पूजा-अर्चना के लिए इसके परिसर में एक छोटे से मंदिर का निर्माण कराया गया है, जहाँ महिलायें माता के दर्शन कर सकती हैं. यहाँ चढ़ावे के रूप में नमक, मिर्ची, चावल, दाल, साड़ी, चुनरी आदि चढ़ायी जाती है. महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध के कारण आस-पास के गाँवों की कई महिलायें बाहर से ही माता को प्रणाम कर लेती है.

mavlliii

लेकिन यह परम्परा सभ्य पाठकों के लिये कई सवाल छोड़ जाती है. क्या सिर्फ एक स्वप्न के कारण माँ माँ मावली के इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश रोका जाना उचित ठहराया जा सकता है? जिस देवी के लिये महिलाओं के हृदय में इतनी आस्था है क्या उनके साथ ये गैर-बराबरी होनी चाहिये?Next...

Read more:

हर साल शिवरात्रि को इस मंदिर में पूजा करने आता है भगवान का यह अवतार

इस मंदिर में प्रवेश करते ही भक्तों की मनोकामना हो जाती है पूर्ण

इन अमेरिकी लड़कियों ने मंदिर में किया कुछ ऐसा कि होना पड़ा गिरफ्तार