Menu
blogid : 19157 postid : 1299699

श्रीकृष्ण ने किया था एकलव्य का वध, महाभारत के इस रहस्य को नहीं जानता कोई

महाभारत एक ऐसा महाकाव्य है, जिसमें कई कहानियां जीवन की सच्चाईयों से हमें अवगत करवाती है. इसमें हर योद्धा का जन्म अपने पूर्वजन्म से भी जुड़ा हुआ है. कर्म होने के साथ सबकी अपनी नियति है. महाभारत में ऐसी ही कहानी है एकलव्य की. हम बचपन से एकलव्य के बारे में पढ़ते आ रहे हैं. जिसमें वो गुरू द्रौण की प्रतिमा बनाकर स्वयं ही धनुविद्या में पारंगत होता है, लेकिन राजकतर्व्यों से वशीभूत होकर गुरू द्रौण एकलव्य से उसका अगूंठा मांग लेते हैं. महाभारत में इस एकलव्य के इस प्रसंग के बाद कोई कहानी नहीं मिलती जिसमें एकलव्य का उल्लेख किया गया हो. लेकिन कई पौराणिक कहानियों में माना जाता है कि एकलव्य का वध भगवान श्रीकृष्ण ने किया था.

eklavya

श्रृंगबेर राज्य का राजा बना था एकलव्य

पिता की मृत्यु के बाद एकलव्य श्रृंगबेर राज्य का शासक बना. अमात्य परिषद की मंत्रणा से वह न केवल अपने राज्य का संचालन किया बल्कि निषाद भीलों की एक सशक्त सेना और नौसेना गठित की. साथ ही वो अपने राज्य की सीमाओँ का विस्तार करता है.

cover

विष्णु पुराण और हरिवंश पुराण  के अनुसार

विष्णु पुराण और हरिवंश पुराण में उल्लिखित है कि निषाद वंश का राजा बनने के बाद एकलव्य ने जरासंध की सेना की तरफ से मथुरा पर आक्रमण कर यादव सेना का वध कर दिया था. यादव वंश में हाहाकर मचने के बाद जब कृष्ण ने दाहिने हाथ में महज चार अंगुलियों के सहारे धनुष बाण चलाते हुए एकलव्य को देखा, तो उन्हें इस दृश्य पर विश्वास ही नहीं हुआ. एकलव्य अकेले ही सैकड़ों यादव वंशी योद्धाओं को रोकने में सक्षम था. इसी युद्ध में कृष्ण ने छल से एकलव्य का वध किया था. उसका पुत्र केतुमान महाभारत युद्ध में भीम के हाथ से मारा गया था...Next

Read more:

अर्जुन को बचाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने सहे थे इस योद्धा के 12 तीर

महाभारत: केवल अर्जुन के पास थे ये 7 गुण, कृष्ण ने दिया इसलिए साथ

महाभारत में 23 साल की उम्र में बने थे श्रीकृष्ण, अब इस बड़ी फिल्म से कर रहे हैं वापसी

अर्जुन को बचाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने सहे थे इस योद्धा के 12 तीर
महाभारत: केवल अर्जुन के पास थे ये 7 गुण, कृष्ण ने दिया इसलिए साथ
महाभारत में 23 साल की उम्र में बने थे श्रीकृष्ण, अब इस बड़ी फिल्म से कर रहे हैं वापसी