Menu
blogid : 321 postid : 1389796

राजनीति के अखाड़े में इस साल उतरेंगे रजनीकांत! नई पार्टी की कर सकते हैं घोषणा

इन दिनों रजनीकांत अपनी आने वाली फिल्म ‘2.0’ के लिए चर्चा में है। फिल्म के टीजर के बाद ‘रोबोट’ की तरह इस फिल्म से भी धमाका करने की उम्मीद की जा रही है। बहरहाल, फिल्म के अलावा रजनीकांत के फैंस के लिए एक और खुशखबरी है। स साल के अंत तक अपनी नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा कर सकते हैं। रजनीकांत से नजदीकी रखने वाले कुछ सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है।

Pratima Jaiswal
Pratima Jaiswal25 Sep, 2018

 

 

एक करीबी ने किया खुलासा
नई पार्टी की घोषणा के बाद भी संभावना इस बात की ही ज़्यादा है कि रजनीकांत प्रदेश की राजनीति पर ही ध्यान दें। उनके एक नज़दीकी सूत्र ने कहा भी, ‘मेरी समझ के हिसाब से वे राज्य की राजनीति के दंगल में ही उतरना ज़्यादा पसंद करेंगे। वे यह भी ध्यान रख रहे हैं कि राजनीतिक पार्टी की घोषणा से पहले उनके पक्ष में एक माहौल बन जाए। इसीलिए वे अब तक किसी भी तरह की घोषणा से बच रहे हैं।’ ग़ौरतलब है कि रजनीकांत ने पिछले साल के अंत में राजनीति में आने की घोषणा की थी। लेकिन वे तब से अब तक ज़मीनी तैयारी और माहौल बनाने की कोशिशों में ही लगे दिखते हैं। उनके साथ काम करने को लेकर कुछ अन्य दलों ने दिलचस्पी दिखाई है। इनमें न्यू जस्टिस पार्टी के एसी शणमुगम प्रमुख हैं। उन्होंने एक अखबार से बातचीत में कहा है, ‘तमिलनाडु की राजनीति में रजनीकांत जैसी किसी शख़्सियत के लिए जगह खाली है। हम उम्मीद करते हैं कि वे नवंबर-दिसंबर तक अपनी पार्टी की घोषणा कर देंगे। उनके दल के साथ हमारी पार्टी काम करने के लिए तैयार है।’ भारतीय जनता पार्टी के नेता तमिलरुवि मणियन ने भी ऐसे ही संकेत देते हुए कहा, ‘रजनीकांत अपनी नई पार्टी बनाएंगे यह तो यह है। हालांकि, इसकी घोषणा वे कब करेंगे इस बारे में वे ही कुछ बता सकते हैं।’

 

 

फिल्म के बाद पूरी तरह से राजनीति में उतर सकते हैं
अक्षय कुमार के साथ आने वाली फिल्म ‘2.0’ का प्रोमोशन शुरू हो गया है, ऐसे में रजनीकांत की पीआर टीम पूरी तरह से फिल्म में बिजी है। हालांकि, फिल्म के बाद उम्मीद की जा रही है कि रजनीकांत अपनी राजनीति की पारी शुरू करने की घोषणा कर सकते हैं...Next

 

Read More :

कश्मीर पर एक बार फिर छिड़ा विवाद! क्या है आर्टिकल 35A, जानें पूरा मामला

मायावती ने उपचुनावों में सपा से दूरी बनाकर चला बड़ा सियासी दांव!

कर्नाटक में बज गया चुनावी बिगुल, ऐसा है यहां का सियासी गणित