Menu
blogid : 7629 postid : 786236

क्यों सभी धर्मोंं में जलाया जाता है अगरबत्ती और कपूर...जानिए क्या है इसका रहस्य

प्रचीनकाल से अगरबत्ती का उपयोग दुनियाभर के लोग करते आये हैं. अगरबत्ती का विकास उन सुगंधित लकड़ियों से हुआ होगा जिन्हें सभ्यता के शुरुआती दिनों में मनुष्य जलाया करते होंगे. जैसे-जैसे मानव सभ्यता का विकास हुआ और मनुष्य धार्मिक होता गया अगरबत्ती और कपूर जैसे सुगंधित वस्तुओं का उसके दैनिक कर्मकाण्ड में भूमिका बढ़ती गई.

kapoor pt

अगरबत्ती के प्रयोग के प्रमाण विश्व के सभी धर्मग्रंथों में मिलता है जिसमें पुराने नियम, वेद और अन्य प्रचीन ग्रंथ शामिल हैं. अगरबत्ती का प्रयोग अलग-अलग पूजास्थलों पर किया जाता है जिसमें मंदिर, मस्जिद, चर्च, मठ आदि शामिल हैं. चीन, जापान, भारत और मिस्त्र जैसे देशों में लंबे समय से अगरबत्ती का प्रयोग होता आया है. प्रश्न यह उठता है कि क्या अगरबत्ती के प्रयोग के पीछे कोई वैज्ञानिक कारण भी है?

Read: क्या वजह है जो टूटे शीशे को अशुभ माना जाता है… जानिए प्रचलित अंधविश्वासों के पीछे छिपे कारणों को

अगर सांस्कृतिक मान्यताओ की बात करें तो अगरबत्ती जलाने से वायु शुद्ध होती है. इसका पवित्र धुंआ नकारात्मक उर्जा और बुरी शक्तियों को घर मे प्रवेश करने से रोकता है. इससे वातावरण में ताजगी भरती है जिससे भक्त के मन को शांति मिलती है. शांत और शुद्ध वातावरण से उपासक को ध्यान में प्रवेश करने में मदद मिलती है.

ganga-aarti

अगरबत्ती में वाष्पशील तेलों का प्रयोग होता है जिनके गंधों को हवा मैं मौजूद हानिकारक बैक्टिरिया और अन्य किटाणुओं को मारने के लिए जाना जाता है. यही नहीं अगरबत्ती के गंध में उपचारात्मक गुण भी होते हैं. आयुर्वेद में रोगी के कमरे में खास किस्म की अगबत्तियां जलाने की बात की जाती है. अगरबत्ती के सुगंध और धुंए में किटाणुनाशक गुण तो होते ही हैं, इसका धुंआ जब रोगी व्यक्ति सांस के साथ भीतर लेता है तो उसे अपने रोग से लड़ने में मदद मिलती है.

Read: क्या है इस रंग बदलते शिवलिंग का राज जो भक्तों की हर मनोकामना पूरी करता है?

प्रचीन चिकित्सा विज्ञान में अरोमाथैरपी को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है. प्राचीन ग्रंथों के अनुसार चिकित्सीय पौधों का प्रयोग अगरबत्ती में किया जाता था. इन खास तरह की अगरबत्तियों का प्रयोग अनिंद्रा, कब्ज, अवसाद आदी रोगों के उपचार में किया जाता है. केशर, चंदन जैसे प्रकृतिक घटक रक्त संचार को बढ़ाने के साथ-साथ चर्म रोगों को ठीक करते हैं, दमें के उपचार में मददगार होते हैं तथा बुखार और सूजन को भी कम करते हैं.

अगरबत्ती के समान ही कपूर का भी प्रयोग धार्मिक उत्सवों और कर्मकांडों में किया जाता है. अध्यात्मिक साधना में भी कपूर का प्रयोग किया जाता है. कपूर दुनिया का एकमात्र ऐसा पदार्थ है जो पूरी तरह वाष्पित हो जाता है बिना कोई अवशेष छोड़े.

insc

कई अध्यात्मिक गुरू हर समय अपने पास कपूर रखते हैं जिससे उन्हें सकरात्मक उर्जा मिलती है और वे अपने अध्यात्मिक लक्ष्यों को ज्यादा आसानी से प्राप्त कर पाते हैं. इन गुणों के आलावा कपूर में भी अगरबत्ती के समान कई तरह के चिकित्सीय गुण होते हैं और उसका धुंआ वातावरण को शुद्ध बनाता है.

Read more: क्या हर इंसान के पास होती है भगवान शिव की तरह तीसरी आंख?

गांधारी के शाप के बाद जानें कैसे हुई भगवान श्रीकृष्ण की मृत्यु?

स्त्रियों से दूर रहने वाले हनुमान को इस मंदिर में स्त्री रूप में पूजा जाता है, जानिए कहां है यह मंदिर और क्या है इसका रहस्य