Menu
blogid : 319 postid : 719464

आखिर मारधाड़ पर क्यों उतारू हुईं बॉलिवुड की हॉट बालाएं

किशोर कुमार से लेकर आमिर खान तक बॉलिवुड के ज्यादातर अभिनेताओं ने लड़कियों के कपड़े पहनकर पर्दे पर अपनी कमर मटकाने से बिल्कुल परहेज नहीं किया. बॉलिवुड में लड़की बनकर पुरुषों को रिझाने का ट्रेंड बड़ा पुराना है. अंदर की बात तो यह भी है कि लड़की की ड्रेस में जब लड़के पर्दे पर अवतरित होते हैं तो उनकी एक्टिंग पर किसी का ध्यान ही नहीं जाता. अगर उन पर वो गेट अप सूट कर रहा होता है तो लोग फटी आंखों से उनके हाव-भाव को ही निहार रहे होते हैं और अगर कहीं कुछ गड़बड़ लगे तो या तो दर्शक बोर हो जाते हैं या फिर हंस-हंसकर उनके पेट में दर्द हो जाता है.

वैसे एक बात और हम आपको बता दें कि जिस तरह भारतीय समाज में लड़कियों को हमेशा कमजोर ही समझा जाता है और इस धारणा को फॉलो भी हमारा बॉलिवुड बड़ी ही सहजता से करता है. यही वजह है कि पर्दे पर हिरोइनों को किसी नाजुक कली से इतर कोई रोल दिया ही नहीं जाता. विलन उन्हें किडनैप करता है, उनका शोषण करता है और हीरो उन्हें बचाने आ जाता है. एकाध फिल्मों को छोड़ दें तो लगभग बॉलिवुड की हर फिल्म में या तो अभिनेत्रियों को नाचने-गाने का काम पकड़ा दिया जाता है या फिर वे पूरी फिल्म में बस रोती ही रहती हैं. इसलिए जब लड़कों को लड़कियों के गेट-अप में पर्दे पर लाया जाता है तो उन्हें भी छुई-मुई टाइप के रोल ही पकड़ाए जाते हैं.

ritesh deshmuk

हमेशा से ही बॉलिवुड की फिल्मों में अभिनेत्रियों को ज्यादा महत्वपूर्ण रोल नहीं दिए जाते. मसलन किसी विशिष्ट हीरो को दिमाग में रखकर फिल्म की स्क्रिप्ट तैयार की जाती है लेकिन हिरोइन की जगह कुछ ऐसी फिट होती है कि उसमें कोई भी चलेगी. पर पिछले कुछ समय से यह ट्रेंड भी बदल गया है क्योंकि अब हिरोइनें भी दर्शकों को पर्दे तक खींचकर लाने का काम करने लगी हैं और अब तो हॉलिवुड की तर्ज पर बॉलिवुड भी अपनी अभिनेत्रियों को धमाकेदार रोल पकड़ाने लगा है. रोल की तो बात ही छोड़िए जनाब! अब तो फिल्मी हिरोइनों को वो रोल भी दिए जाने लगे हैं जो कभी सिर्फ पुरुष ही किया करते थे.

विद्या बालन ने आखिर क्यों छिपाया अपनी खतरनाक बीमारी का राज?

priyanka chopra

अब देखिए मारधाड़ का काम अभी तक सिर्फ पुरुषों के ही जिम्मे होता था लेकिन अब तो हॉट एंड फिट लेडीज भी ये सब काम करने लगी हैं. डॉन की प्रियंका चोपड़ा को देख लीजिए या फिर गुलाब गैंग की माधुरी दीक्षित, आजकल सभी हिरोइनें अपनी पारंपरिक छवि को तोड़कर बाहर आने की कोशिश में हैं, विद्या बालन भी अपनी आने वाली फिल्म में एक डिटेक्टिव की भूमिका में नजर आएंगी. पहले ऐसा सिर्फ हॉलिवुड की फिल्मों में होता था और अब अच्छी बात यह है कि हिन्दी फिल्मों की हिरोइनों की इस कोशिश को बॉलिवुड ना सिर्फ तवज्जो देता है बल्कि दर्शक भी उन्हें पसंद कर रहे हैं.

gulab gand

इस साल की तो शुरुआत ही ऐसी फिल्मों से हुई है जो पूरी तरह महिलाओं पर ही केन्द्रित थी. डेढ़ इश्किया, हाइवे, गुलाब गैंग, क्वीन आदि जैसी फिल्में महिलाओं पर आधारित थीं और हिट भी रहीं. फिल्म विश्लेषकों का कहना है कि आजकल के दर्शकों की सोच बदल गई है. अब उन्हें हीरो या हिरोइन सेंट्रिक फिल्मों से नहीं बल्कि अच्छी फिल्म, अच्छे कॉंसेप्ट और अच्छी एक्टिंग से मतलब होता है.

13 किलो का भारी-भरकम ट्यूमर लेकर कैसे जी रहा था यह इंसान

एक औरत का खून बचाएगा एड्स रोगियों की जान

महान हैं वो लड़कियां जो……