Menu
blogid : 319 postid : 1398467

पहली फिल्म के लिए कादर खान को मिले थे 1500 रुपये, बाद में बने सबसे महंगे कॉमेडियन

दिवंगत अभिनेता कादर खान को उनकी कॉमिक टाइमिंग के लिए आज भी दर्शक याद करते हैं। उनके जिंदादिल डायलॉग लोगों को गुदगुदाने पर मजबूर कर देते हैं। अफगानिस्तान से भारत आए कादर खान जब बॉलीवुड में कदम रखा तो उन्हें पहली फिल्म की स्क्रिप्ट के लिए 1500 रुपये मिले थे। बाद में कादर खान ने 250 से ज्यादा फिल्मों के लिए डायलॉग लिखे।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan12 Nov, 2020

काबुल से मुंबई आए कादर खान
अफगानिस्तान के काबुल में 22 अक्टूबर 1937 को जन्मे कादर खान का परिवार भारत आ गया। मुंबई के कमाटीपुरा इलाके में रहने के दौरान वह अपनी आवाज को सुधारने के लिए रियाज करने लगे थे। कादर खान बचपन से ही फिल्मों में जाना चाहते थे। कादर खान ने पहली बार 1973 में आई राजेश खन्ना की फिल्म दाग में अभिनय किया।

एक्टर बनने से पहले कादर खान बने प्रोफेसर
एक्टर बनने से पहले कादर खान ने मुंबई के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर नियुक्त हुए। काफी वक्त तक पढ़ाने के बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और पूरी तरह अभिनय और रंगमंच में जुट गए। कादर खान नाटक लिखा करते थे। 1972 में आई फिल्म जवानी दीवानी के लिए उन्हें बतौर स्क्रिप्ट राइटर मौका मिला।

स्क्रिप्ट लिखने पर मिले थे 1500 रुपये
फिल्म जवानी दिवानी में रणधीर कपूर, जया बच्चन, निरुपा रॉय और बलराज साहनी जैसे दिग्गज कलाकारों ने अभिनय किया। इस फिल्म की स्क्रिप्ट कादर खान और इंदर राज आनंद ने लिखी। इसके लिए कादर खान को 1500 रुपये बतौर फीस मिले थे। म्यूजिकल रोमांटिक फिल्म जवानी दिवानी बड़ी हिट साबित हुई।

दिलीप कुमार और राजेश खन्ना ने दिलाई एंट्री
स्क्रिप्ट राइटिंग के साथ कादर खान ने 250 से ज्यादा हिट फिल्मों के डायलॉग भी लिखे। कादर खान ने सबसे ज्यादा राजेश खन्ना के साथ काम किया। हालांकि, कादर खान को एक्टिंग में लाने का श्रेय दिलीप कुमार को दिया जाता है। दरअसल, फिल्मों में आने से पहले कादर खान अपने नाटक ताश के पत्ते में अभिनय कर रहे थे, जिसे देख दिलीप कुमार प्रभावित हो गए थे।

सबसे महंगे कॉमेडियन का तमगा
दिलीप कुमार ने कादर खान को दफ्तर बुलाकर दो फिल्मों 1974 में आई सगीना और 1976 में रिलीज हुई फिल्म बैराग के लिए साइन किया। दिलीप कुमार से ​दो फिल्में और राजेश खन्ना से एक फिल्म करियर के शुरुआत में ही मिलने के बाद कादर खान ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। हिट के बाद कादर खान को अभिनय और डायलॉग लिखने के लिए मोटी रकम बतौर फीस मिलने लगी थी। वह अपने वक्त के सबसे महंगे कॉमेडियन भी कहे जाते थे।

500 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय और लेखन
कादर खान ने अपने ​अभिनय करियर में 300 से ज्यादा फिल्में कीं, जबकि 250 से ज्यादा फिल्मों की स्क्रिप्ट और डायलॉग लिखे। कादर खान को कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के साथ फिल्म फेयर पुरस्कार भी हासिल हुए। कादर खान 2018 में लंबी बीमारी के बाद इस दुनिया को अलविदा कह गए। मरणोपरांत 2019 में उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया।....NEXT

 

Read More : मिर्जापुर 2 रिलीज, अमेजन प्राइम वीडियो पर अभी देखिए

वो फिल्म जिसके बाद सनी देओल ने शाहरुख और यश चोपड़ा से बात करनी बंद कर दी

हेमा मालिनी बनना चाहती थीं देवदास की पारो पर बीच में बंद करनी पड़ी फिल्म

अनूठा फिल्म फेस्टिवल, तंबू में दिखाई जाती हैं फिल्में

90 के दशक के सबसे चर्चित सुपरहीरो पर बनेंगी 3 फिल्में