Menu
blogid : 15877 postid : 603511

yuhin

drdeeptisingh287
canvas
  • 9 Posts
  • 7 Comments

युहीं

तू मेरे संग है मेरे साथ है
क्यूँ फिर मुझको तेरी तलाश है

तू दूर है या की पास है
दिल को काटता ये सवाल है

कह रही हूँ तेरे दिल से में
देके उन मोहब्बतों का वास्ता
ज़रा आंख बंद कर
मुझे सच बता ,
मेरे प्यार का जो सरूर था,
मेरे साथ का जो गुरूर था,
क्या वो खुमार बरकरार है,
क्या कल के जैसे ही आज भी तू पुकारता मेरा नाम है ...

तेरे ख्वाब अब भी हैं क्या मेरे
मेरी हकीकतें सबब तेरा.
क्या अब भी इशक़ तेरा मेरा
सब लबों पे इक मिसाल है .....

फिर सोचती हूँ क्यूँ मैं शक करून
मैं भी वो ही हूँ तू भी वो ही है
यह जो फासले हैं दरमियाँ
सब वक़्त की ही चाल है

तू करीब है यह भी कम है क्या
किन दूरियों पर करून गिला,
है प्यार का यही सिला.
नहीं मानती यह शिकयेतें
नहीं पूरी होती ख्वाईशें
वर्ना तुझपे क्या इलज़ाम है

Dr Deepti