Menu
blogid : 3738 postid : 720073

अलका याज्ञनिक और अनुराधा पौडवाल के बीच जंग की क्या थी वजह

महत्वपूर्ण दिवस
Special Days
  • 1020 Posts
  • 2122 Comments

बरगद के पेड़ के सामने हर पेड़ कमतर ही लगता है. संगीत और गायन की दुनिया में लता मंगेशकर को कौन नहीं जानता, जो स्वयं में एक बरगद के पेड़ की तरह हैं जिनके आगे सभी संगीत के फनकार बौने से दिखाई देते हैं. इनकी शहद सी मीठी आवाज ने लगातार आधे दशक तक सबको मंत्रमुग्ध किया है. इस दौरान जितनी भी महिला पार्श्वगायिकाओं ने हिंदी सिनेमा में अपनी आवाज दी, वह सभी की सभी लता मंगेशकर के सामने दोयम दर्जे की साबित हुईं.

लेकिन 80 और 90 के दशक में एक दौर आया जब हिंदी सिनेमा में पार्श्वगायन के क्षेत्र में अपनी मधुर सी आवाज लेकर अलका याज्ञनिक आईं. लोगों ने उनके अंदर लता मंगेशकर की छवि देखी. अलका ने लता और आशा मंगेशकर के इस दौर में ना केवल अपनी पहचान बनाई बल्कि लगातार अपनी आवाज से सुपरहिट गाने भी दिए.

alka and anuradhaभारत की इस सुप्रसिद्ध गायिका ने बॉलीवुड में न केवल अपना पैर जमाया बल्कि 30 सालों तक गायकी के क्षेत्र में लोहा मनवाया. अपने नियमों पर चलकर फिल्मी दुनिया में अपने को स्थापित कर पाना किसी भी महिला के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. अलका याज्ञनिक ने इन चुनौतियों का डटकर सामना किया और देश की एक लोकप्रिय गायिका बनीं.

Read:विद्या बालन ने आखिर क्यों छिपाया अपनी खतरनाक बीमारी का राज?

इस बीच एक दौर ऐसा भी आया जब अलका याज्ञनिक को अपमानित महसूस होना पड़ा. बात 1997 की है, उस समय अजय देवगन की फिल्म ‘इतिहास’ को बड़े पर्दे पर रिलीज किया गया. फिल्म में हिरोइन ट्विंकल खन्ना थीं जिनकी आवाज को गाने के लिए अलका याज्ञनिक को चुना गया. उन्होंने फिल्म में सभी गाने गाए, लेकिन ऐसा क्या हुआ कि उनके गाए हुए गाने को उस समय की एक और प्रसिद्ध पार्श्वगायिका अनुराधा पौडवाल को डब करना पड़ा. फिल्म ‘इतिहास’ में अलका याज्ञनिक के तीन गानों को (‘दिल की कलम’, ‘ये इश्क बड़ा बेदर्दी है’ और ‘ओ रामजी’ ) अनुराधा पौडवाल ने अपनी आवाज में डब किया था.

Read: गर्लफ्रेंड का अंधा प्यार जिसकी कहानी सुनने से पहले दिल थाम लेना

फिल्म उद्योग में इस तरह से गाने को डब करने का मतलब है कि पहले जिस गायक/गायिका ने अपनी आवाज दी है, उसकी आवाज या तो हीरो/हिरोइन से मेल नहीं खाती या फिर संगीतकार, निर्देशक और या निर्माता से कोई विवाद चल रहा होगा. आपको बताते चलें कि यह पहली बार नहीं था, जब अलका याज्ञनिक को संगीतकार और निर्माता के इस रवैये से निराश होना पड़ा. 1990 में आई फिल्म ‘दिल’ में भी अलका के गाने को अनुराधा पौडवाल की आवाज में डब किया गया.

अनुराधा पौडवाल और अलका याज्ञनिक के बीच विवाद इतना बढ़ गया था कि फिल्म ‘इतिहास’ के समय अलका ने एक साक्षात्कार के दौरान कहा था कि अनुराधा मेरे गानों को डब करके क्या दिखाना चाहती हैं कि उनकी आवाज ट्विंकल खन्ना और माधुरी दीक्षित की आवाज से ज्यादा मेल खाती है. उन्होंने साक्षात्कार में कहा था कि अगर कोई संगीतकार या निर्माता मुझे इस तरह की पेशकश करता है तो मैं साफ इंकार कर दूंगी.

Read more:

जहां लता और आशा हों वहां बनाया अपना मुकाम

इनकी गायिकी में भक्ति और सादगी का मेल

Kumar Sanu Profile in Hindi