Menu
blogid : 25353 postid : 1341782

सावन के कैलाश मेले में लगता है भक्तों का जमावड़ा

brhamarajput17
Brahmanand Rajput
  • 26 Posts
  • 5 Comments

km2

हमारे देश में एक समृद्ध आध्यात्मिक और धार्मिक विरासत के साथ कई धर्मों का पालन किया जाता है। नतीजतन धार्मिक त्योहारों की एक बड़ी संख्या में मनाया जाता है। ऐसा ही एक त्योहार है आगरा का सुप्रसिध्द कैलाश मेला। यह मेला हर वर्ष सावन महीने के तीसरे सोमवार को लगता है। इसका आयोजन बड़ी धूमधाम से आगरा के सिकंदरा क्षेत्र में यमुना के किनारे स्थित कैलाश मंदिर पर होता है। कैलाश मेला सावन महीने में भगवान शिव के सम्मान में लगाया जाता है।

वैसे तो साल के हर सोमवार को आगरा के कैलाश मंदिर पर भक्तों का जमावड़ा लगता है, लेकिन सावन महीने में कैलाश मंदिर का मनमोहक नजारा होता है। हर तरफ भक्ति की बयार बही होती है और भगवान शिव के भक्त दूर-दराज के क्षेत्रों से दर्शन करने के लिए आते हैं। ऐसी मान्यता है कि आगरा के कैलाश मंदिर पर मांगी गयी हर मन्‍नत भगवान शिव पूरी करते हैं। कैलाश मेले पर आगरा का माहौल बहुत हंसमुख होता है। आगरा के लोग कैलाश मेले को एक पर्व की तरह मनाते हैं। कैलाश मेले के दिन आगरा के स्थानीय प्रशासन द्वारा सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है। इस दिन आगरा के सभी स्कूल-कॉलेज, सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों में छुट्टी होती है। मेले के अवसर पर जो बड़ी भीड़ इकट्ठा होती है, उनकी भक्ति और खुशी देखने लायक होती है।

इस दिन कैलाश मंदिर के कई-कई किलोमीटर दूर तक खेल-खिलौने, खाने-पीने सहित अनेकों दुकानें लगाई जाती हैं। यमुना किनारे कैलाश मंदिर पर हजारों कांवड़िये दूर-दूर से कांवड़ लाकर बम-बम भोले और हर-हर महादेव का जयकारा लगाते हुए कांवड़ चढ़ाते हैं। वैसे तो सावन के हर सोमवार को आगरा के सभी सुप्रसिध्द शिव मंदिरों में कांवड़ चढ़ाई जाती है, लेकिन सावन के तीसरे सोमवार को कैलाश मंदिर पर कांवड़ चढाने का अपना अलग ही महत्व है। इस दिन कैलाश मंदिर के किनारे से गुजरने वाली यमुना में स्नान करना भी काफी शुभ माना जाता है, इसलिए भक्त मंदिर में शिवलिंगों के दर्शन करने से पहले यमुना में जरूर स्नान करते हैं।

माना जाता है कि आगरा के कैलाश महादेव का मंदिर पांच हजार वर्ष से भी अधिक पुराना है। मंदिर में स्थापित दो शिवलिंग मंदिर की महिमा को और भी बढ़ा देते हैं। कहा जाता है कि कैलाश मंदिर के शिवलिंग भगवान परशुराम और उनके पिता जमदग्नि द्वारा स्थापित किए गए थे। महर्षि परशुराम के पिता जमदग्नि ऋषि का आश्रम रेणुका धाम भी यहां से पांच से छह किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का अपना अलग महत्व है। त्रेता युग में भगवान विष्णु के अवतार भगवान परशुराम और उनके पिता ऋषि जमदग्नि कैलाश पर्वत पर भगवान शिव की आराधना करने गए। दोनों पिता-पुत्र की कड़ी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें वरदान मांगने को कहा। इस पर भगवान परशुराम और उनके पिता ऋषि जमदग्नि ने उनसे अपने साथ चलने और हमेशा साथ रहने का आशीर्वाद मांग लिया। इसके बाद भगवान शिव ने दोनों पिता-पुत्र को एक-एक शिवलिंग भेंट स्वरूप दिया। जब दोनों पिता-पुत्र यमुना किनारे अग्रवन में बने अपने आश्रम रेणुका के लिए चले (रेणुका धाम का अतीत श्रीमद्भगवत गीता में वर्णित है) तो आश्रम से 6 किलोमीटर पहले ही रात्रि विश्राम को रुके। सुबह होते ही दोनों पिता-पुत्र हर रोज की तरह नित्य कर्म के लिए गए। इसके बाद ज्योतिर्लिंगों की पूजा करने के लिए पहुंचे, तो दोनों ज्‍योतिर्लिंग वहीं स्थापित हो गए थे। इन शिवलिंगों को महर्षि परशुराम और उनके पिता ऋषि जमदग्नि ने उठाने का काफी प्रयास किया, लेकिन उस जगह से उठा नहीं पाए। हारकर दोनों पिता-पुत्र ने उसी जगह दोनों शिवलिंगों की पूजा-अर्चना कर पूरे विधि-विधान से स्थापित कर दिया। तब से इस धार्मिक स्थल का नाम कैलाश पड़ गया।

यह मंदिर भगवान शिव और पवित्र यमुना नदी, जो मंदिर के किनारे से होकर गुजरती है, के लिए प्रसिद्ध है। कभी-कभार जब यमुना का जलस्तर बढ़ा हुआ होता है और बाढ़ की स्थिति होती है, तो यमुना का पवित्र जल कैलाश महादेव मंदिर के शिवलिंगों तक को छू जाता है। यह अत्यंत मनमोहक दृश्य होता है। कैलाश मंदिर में आने वाला हर व्यक्ति इस खूबसूरत ऐतिहासिक जगह की सराहना किए बिना नहीं रहता।