लीड--शीतलहर और कोहरे की मार से जनजीवन प्रभावित

शीतलहर और कोहरे की दोहरी मार से जिला का आम जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित है। जिला में पिछले दो दिनों से धूप नहीं उगी है। बुधवार को मौसम का सबसे ठंडक दिन रहा। दोपहर बाद तक समूचा वातावरण घने कोहरे में लिपटा रहा। दोपहर तक सड़कों पर लाइट जलाकर वाहनों को चलना पड़ा।

JagranPublish: Wed, 05 Jan 2022 11:16 PM (IST)Updated: Wed, 05 Jan 2022 11:16 PM (IST)
लीड--शीतलहर और कोहरे की मार से जनजीवन प्रभावित

जागरण टीम, शेखपुरा:

शीतलहर और कोहरे की दोहरी मार से जिला का आम जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित है। जिला में पिछले दो दिनों से धूप नहीं उगी है। बुधवार को मौसम का सबसे ठंडक दिन रहा। दोपहर बाद तक समूचा वातावरण घने कोहरे में लिपटा रहा। दोपहर तक सड़कों पर लाइट जलाकर वाहनों को चलना पड़ा। सुबह साढ़े आठ बजे तक कोहरा से पानी की बूंदें टपकती रही। मौसम की इस मार का सबसे अधिक प्रभाव छोटे बच्चों और बुजुर्गों पर पड़ रहा है। इस कोहरे और शीतलहर का सबसे अधिक असर ग्रामीण जनजीवन पर पड़ रहा है। लोगों को जरूरी कार्यों को निबटाने में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

--

बसों के परिचालन में बिलंब

बुधवार को घने कोहरे की वजह से सुबह शेखपुरा से खुलने वाली तथा दूसरी जगहों से शेखपुरा आने वाली लंबी दूरी की बसों का परिचालन बिलंब से हुआ। जो बसे चली भी तो उसमें यात्री काफी कम दिखे। सुबह की ट्रेनों को छोड़कर बाकी ट्रेनों का परिचालन नियमित तरीके से हुआ। शीतलहर और घने कोहरे की वजह से सुबह टहलने वालों की संख्या भी काफी कम रही।

--

कुहासे ने बढ़ाई किसानों की चिता

देर रात से अहले सुबह तक पड़ रहे कोहरे से कनकनी में वृद्धि हुई है। वहीं किसानों को सरसों,आलू , फूलगोभी सब्जी की फसलों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की आशंकाएं हैं । धान की फसल मनोनुकूल नहीं होने से परेशान किसान ठंड के मौसम में पड़ रहे कुहासे से चितित हैं ।

जिले के विभिन्न प्रखंडों के ग्रामीण क्षेत्रों में किसान दलहन तिलहन फसलों के साथ आलू की खेती करते हैं वहीं शेखपुरा,बरबीधा,चेवाडा प्रखंड के शहरी इलाकों में किसान आलू के साथ सब्जी की खेती करते हैं। लगातार कुहासे से सरसों की फसल पर लाही एवं आलू को झुलसा से प्रभावित होने की आंशका किसान जता रहे हैं।

--

नप ने की अलाव की व्यवस्था

नप द्वारा सोमवार से शहर के दस स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था कराई गई। इस संदर्भ में नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी प्रभात रंजन ने बताया आपदा विभाग से अभी राशि नहीं मिली है। नप के आंतरिक संसाधन के तहत प्रति स्थान पन्द्रह किलो लकड़ी जलाने की व्यवस्था कराई गई है। इसके लिए नप की ओर से सफाई विग का कमान थाम रहे आशुतोष कुमार को जिम्मेवारी सोंपी गई है। पटेल चैक, कटरा चैक, चांदनी चैक, रैन वसेरा, रेलवे स्टेशन चैक, गिरहिण्डा, गोल्डेन चैक, कॉलेज मोड़, तीन मुहानी तथा मेहूस मोड़ अलाव की व्यवस्था की गई है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept