This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

फर्जीवाड़ा मामले में बीईओ को जांच का आदेश

हसनपुर बाजार के न्यू इंडिया सुगर मिल्स उच्च विद्यालय हसनपुर रोड के प्रधानाध्यापक भुवनेश्वर राय भूवन द्वारा दर्जनों छात्र-छात्राओं का फर्जी नामांकन कर साइकिल, पोशाक एवं छात्रवृति की राशि उगाही करना महंगा साबित हो रहा है।

Fri, 12 Aug 2016 01:19 AM (IST)
फर्जीवाड़ा मामले में बीईओ को जांच का आदेश

समस्तीपुर। हसनपुर बाजार के न्यू इंडिया सुगर मिल्स उच्च विद्यालय हसनपुर रोड के प्रधानाध्यापक भुवनेश्वर राय भूवन द्वारा दर्जनों छात्र-छात्राओं का फर्जी नामांकन कर साइकिल, पोशाक एवं छात्रवृति की राशि उगाही करना महंगा साबित हो रहा है। इस गंभीर मामले को लेकर बाजार के ही सुरेश मंडल ने लोक शिकायत निवारण केन्द्र रोसड़ा में शिकायत दर्ज कर जांच कराने की मांग की थी। उक्त शिकायत आवेदन के आलोक में लोक शिकायत निवारण केन्द्र के दंडाधिकारी ने गुरुवार को दोनों पक्षों की दलीले सुनने के बाद इस गंभीर मामले की जांच प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी ललन पाण्डेय को देते हुए आगामी 23 अगस्त 2016 को जांच प्रतिवेदन समर्पित करते हुए सदेह उपस्थित होने को कहा है। इससे प्रधानाध्यापक को दूसरी बार निलंबित होकर इस बार जेल जाना तय माना जा रहा है। श्री मंडल द्वारा लोक शिकायत निवारण केन्द्र रोसड़ा में दिए शिकायत आवेदन में बताया है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 में प्रधानध्यापक श्री भूवन ने वर्ग नवम में दर्जनों छात्र-छात्राओ का फर्जी नामांकन कर पोशाक, साइकिल एवं छात्रवृति मद के लोखों रुपये का गबन कर लिया है। एचएम द्वारा फर्जी नामांकन करने वालों में मल्हीपुर की तारा कुमारी पिता रामचन्द्र पासवान, रीता कुमारी पिता-रामजपो पासवान, खुशबु कुमारी पिता-गंगा प्रसाद महतो, सुलेखा कुमारी पिता-उत्तम यादव, शंकर पौदार पिता-शिवदयाल पोद्दार, बौएलाल सदा पिता-शंकर सदा, रामाकांत सदा पिता-झोटकी सदा, सरयुग राम पिता-चलित्तर राम, देवड़ा गांव की उर्मिला कुमारी पिता-रामजपो पासवान, मंचुन कुमारी पिता-जगदम्वा पासवान, विभा कुमारी पिता-नित्यानंद पासवान, कामयनी कुमारी पिता-संजय पासवान, पार्वती कुमारी पिता कामेश्वर पासवान, रूकमीणी कुमारी पिता-कमलेश्वर पासवान, मो. सुलेमान पिता-मो. कादिल, मो. ईलियास पिता-मो. कलिमुदीन आदि का नाम शामिल कर दिया। इतना ही नहीं इस सभी फर्जी नामांकित बच्चो को नौवीं कक्षा उर्तीण कर दसवीं कक्षा में भी फर्जी नामांकन दर्शाकर सरकारी स्तर पर मिलने वाली सभी लाभों की राशि का फर्जी हस्ताक्षर कर राशि उठाव कर गबन कर लिया। इस संबंध में मल्हीपुर एवं देवड़ा गांव के ग्रामीण का बताना है कि एचएम द्वारा जिस छात्र-छात्राओं का नामांकन

दर्शाया है उस नाम का कोई भी व्यक्ति गांव का नहीं है। इसके बावजूद भी एचएम ने फजी नामांकन दर्शाकर लाखों रुपये का गोल माल कर लिया। सरकारी राशि का गबन करने में जिला स्तर पर अब्बल रहने वाला एचएम भुवनेश्वर राय भुवन ने शिक्षा विभाग द्वारा आरएमएसए के तहत प्रतिवर्ष बिजली, पुस्तक, पानी, खेलकुद सामग्री, एवं विद्यालय के लघु मरम्मत के मद में मिलने वाली 75 हजार रुपये भी गटक जाना इनकी नियति बनी हुई है। इन सभी कार्यो की फर्जी भाउचर बनाकर सरकार के आख में धुल झोंका जा रहा है। लोक शिकायत निवारण केन्द्र रोसड़ा के दंडाधिकारी द्वारा प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी श्री पाण्डेय को पूरे मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंपे जाने से लोगों में हर्ष व्याप्त हो गया है। अब लोगों की नजर बीईओ के जांच प्रतिवेदन पर टिकी हुई है।

में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!