This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

हड़ताल के कारण सवा दो सौ करोड़ का व्यवसाय प्रभावित

सहरसा। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) के आह्वान पर जिले के सभी बैंकों में दो दिनों की हड़

JagranThu, 31 May 2018 06:15 PM (IST)
हड़ताल के कारण सवा दो सौ करोड़ का व्यवसाय प्रभावित

सहरसा। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) के आह्वान पर जिले के सभी बैंकों में दो दिनों की हड़ताल के कारण जिले की विभिन्न शाखाओं में लगभग सवा दो सौ करोड़ का व्यवसाय प्रभावित हुआ। पहले दिन हड़ताल के कारण जिले भर में एक सौ करोड़ का व्यवसाय प्रभावित हुआ। जिसमें सिर्फ भारतीय स्टेट बैंक में 40 करोड़ का व्यवसाय बाधित हुआ है। वहीं गुरूवार को 31 मई के कारण लगभग सवा सौ करोड़ के व्यवसाय प्रभावित होने का अनुमान है। माह के अंत में हुए इस हड़ताल के कारण जनजीवन पर काफी असर हुआ है। ग्रामीण क्षेत्र से हड़ताल की जानकारी के बिना दूर-दराज से आए लोग निराश होकर लौट गए। सभी बैंककर्मियों ने अपनी- अपनी शाखा के आगे में धरना दिया और नारेबाजी किया। भारतीय स्टेट बैंक अधिकारी संघ के आंचलिक कार्यकारिणी सदस्य कौशल किशोर झा ने कहा कि भारतीय बैंक संघ के द्वारा वेतन में दो प्रतिशत की नगण्य वृद्धि के विरोध में उनलोगों को दो दिनों के हड़ताल के लिए बाध्य होगा पड़ा है।

मौके पर क्षेत्रीय सचिव विपुल कुमार सिन्हा, केन्द्रीय प्रतिनिधि मदनेश्वर प्रसाद ¨सह, इकाई सचिव सुमन कुमार सुमन, अमरेन्द्र कुमार, रविराज, अविनाश कुमार, अमित कुमार, कुमार अमित, प्रशांत कुमार गौरव, संतोष कुमार ¨सह, परमेश्वर चौधरी आदि मौजूद रहे। बैंक आफ इंडिया के आगे भी बैंक कर्मियों ने हड़ताल कर नारेबाजी किया। जिसमें अशोक गुप्ता, बलराम गुप्ता, अपूर्व अलंकार, प्रणवश्री, मुकुंद झा, जितेन्द्र कुमार ¨सह, मनोज गुप्ता, यदुनंदन मेहता, मंटू कुमार, सैयद अशरफ, राजू बाल्मिकी, कुमार धर्मवीर, मुकेश कुमार, बीरेन्द्र कुमार, मो. इमाम, सुनील कुमार, कुमार गौरव आदि मौजूद रहे। यूको बैंक में वरीय के कर्मियों ने हड़ताल कर दिनभर बैंक के आगे धरना दिया। मौके पर प्रबंधक बीएच कंठ, सहायक प्रबंधक अन्नु कुमारी, रानी कुमारी, पूजा कुमारी, अमित कुमार, दीपक कुमार दिवाकर, देवेश कुमार राणा, ललन मिश्रा आदि मौजूद रहे। ओरिएंटल बैक में राहुल कुमार झा, प्रवीण कुमार, आंध्रा बैक में राहुल कुमार व दीपक झा, कॉरपोरेशन बैंक में प्रभाकर कुमार, अजय झा, प्रदीप कुमार, इंडियन बैंक में बाबुल कुमार गणेश कुमार, बैंक आफ बड़ौदा में अभिनव कुमार अजीत कुमार, यूनियन बैंक में मृणांक पाल, सेन्ट्रल बैंक में राघव ¨सह, साहिब जी तथा एचडीएफसी बैंक में राजीव कुमार समेत अन्य लोगों ने हड़ताल कर अपने अधिकारियों-कर्मियों के साथ नारेबाजी की।

एटीएम में भी बाधित रहा काम

बैंकों की हड़ताल का असर दूसरे दिन सभी बैंकों के एटीएम पर भी देखा गया। एटीएम खुला था, परंतु एकाध को छोड़कर किसी में राशि ही नहीं थी। गुरूवार को आवश्यक कार्य के लिए लोग दिनभर एटीएम की खाक छानते रहे, परंतु उन्हें राशि नहीं मिल सकी। महीने के अंत में हुए सभी बैंकों की दो दिनों की हड़ताल का जनजीवन पर बुरा असर पड़ा है।

Edited By Jagran

सहरसा में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!