मांझी जी को हमारी पार्टी या सरकार सीरियसली नहीं लेती, जदयू विधायक ने पूर्व सीएम पर साधा निशाना

केंद्रीय कृषि कानूनों (Central Agriculture Laws) की तरह शराबबंदी कानून (Prohibition Law in Bihar) वापसी की मांग कर चुके बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी (Ex CM Jitan Ram Manjhi) को लेकर जदयू विधायक डा. संजीव कुमार (JDU MLA Dr Sanjiv Kumar) ने बड़ा बयान दिया है।

Vyas ChandraPublish: Mon, 17 Jan 2022 04:20 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 07:57 AM (IST)
मांझी जी को हमारी पार्टी या सरकार सीरियसली नहीं लेती, जदयू विधायक ने पूर्व सीएम पर साधा निशाना

पटना, आनलाइन डेस्‍क। केंद्रीय कृषि कानूनों (Central Agriculture Laws) की तरह शराबबंदी कानून (Prohibition Law in Bihar) वापसी की मांग कर चुके बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी (Ex CM Jitan Ram Manjhi) को लेकर जदयू विधायक डा. संजीव कुमार (JDU MLA Dr Sanjiv Kumar) ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि मांझी जी कब, क्‍या बोल देंगे इसका ठिकाना नहीं रहता। उनकी बातों को न तो हमारी पार्टी न हमारी सरकार ही गंभीरता से लेती है। मीडिया में बने रहने के लिए वे ऐसी बयानबाजी करते रहते हैं। 

मांझी जी कब क्‍या बोल दें कुछ ठीक नहीं रहता 

खगड़‍िया के परबत्‍ता से विधायक डा. संजीव कुमार ने कहा है कि वे कब क्‍या कहते हैं, कब बदल जाते हैं, यह बहुत अनिश्‍चि‍त रहता है। कभी ब्राह्मण को गाली दे देते हैं। कभी कुछ बोल देते हैं। कभी शराबबंंदी के खिलाफ बोल देते हैं। उनकी बात को हमलोग सीरियसली नहीं लेते हैं। न हमारी पार्टी न हमारी सरकार उनकी बातों की नोटिस लेती है। शराबबंदी कानून में जो सुधार लाया जा सकता है वह लाया जाएगा। जागरूकता लाने में हमारी सरकार लगी है ताकि जो गरीबों की मौत हो रही है वह नहींं हो। हमारे मुख्‍यमंत्री जो करेंगे, हम उनके साथ हैं। चाहे शराबबंदी कानून में बदलाव लाएं या ऐसे ही रहने दें। हम उनके साथ हैं। लेकिन जीतन राम मांझी के बयानों से हमें कोई मतलब नहीं। 

पूर्व सीएम ने की थी कानून वापस की मांग 

बता दें कि शराबबंदी कानून में समीक्षा की मांग करते आ रहे हम के अध्‍यक्ष और पूर्व सीएम मांझी ने सीएम नीतीश कुमार से शराबबंदी कानून वापस लेने की मांग कर दी थी। उनका कहना था कि विरोध होने पर जब पीएम कानून वापस ले सकते हैं तो फिर नीतीश जी ने इसे क्‍यों प्रतिष्‍ठा का विषय बना लिया है। इस कानून के कारण गरीबों की माैत हाे रही है। जेल गरीब जा रहे हैं। मुकदमा उन्‍हीं पर हो रहा है।   

Edited By Vyas Chandra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept