कोविड की तीसरी लहर में पटना से आई बड़ी राहत की खबर, संक्रमण से राहत मिलने के बढ़े आसार

Omicron Coronavirus Update कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर में सबसे बड़ी राहत देने वाली खबर हम आपके लिए लेकर आए हैं। कोविड संक्रमण के साथ एक खास बात सामने आई है कि पीक पर पहुंचने के बाद मरीजों की तादाद खुद ब खुद कम होने लगती है।

Shubh Narayan PathakPublish: Mon, 17 Jan 2022 06:56 AM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 06:56 AM (IST)
कोविड की तीसरी लहर में पटना से आई बड़ी राहत की खबर, संक्रमण से राहत मिलने के बढ़े आसार

पटना, जागरण टीम। Omicron Coronavirus Update: कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर में सबसे बड़ी राहत देने वाली खबर हम आपके लिए लेकर आए हैं। कोविड संक्रमण के साथ एक खास बात सामने आई है कि पीक पर पहुंचने के बाद मरीजों की तादाद खुद ब खुद कम होने लगती है। विशेषज्ञों ने दावा किया था कि जनवरी के आखिर तक कोविड की तीसरी लहर खत्‍म होने लगेगी। इस बीच बिहार की राजधानी पटना के पिछले कुछ दिनों के आंकड़ों से ऐसा लग रहा है कि यहां संक्रमण शायद अपने पीक से वापस लौटने लगा है। हालांकि इसकी वजह लोगों का सतर्कता बरतना और प्रशासन की सख्‍ती भी हो सकता है। आपको बता दें कि बिहार में कोविड के करीब आधे मरीज पटना जिले के ही हैं। राज्‍य स्‍तर पर भी कोविड के नए केस का आंकड़ा लगभग स्थिर होने लगा है।

संक्रमण दर में करीब छह प्रतिशत गिरावट

पटना में कोविड संक्रमण दर रिकार्ड 23.02 प्रतिशत पर पहुंच गई थी। वह रविवार को घटकर 17.40 प्रतिशत पर आ गई है। यानी हर सौ आशंकितों में से 17.40 लोगों की रिपोर्ट ही पाजिटिव आ रही है। इन दोनों दिनों में हुई जांच में अंतर भी महज 832 है। ऐसे में इसकी भी आशंका नहीं है कि जांच नियमों में हाल के दिनों में जो बदलाव हुए हैं, उसके कारण ऐसा हुआ हो। पिछले तीन दिनों पर ही गौर करें तो संक्रमण दर लगातार घटी है।

28 दिसंबर से पटना में तेज हुआ संक्रमण

बताते चलें कि ओमिक्रोन वैरिएंट 28 दिसंबर के बाद से लगातार राजधानी व प्रदेश में तेजी से लोगों को संक्रमित कर रहा है। 19 दिन में संक्रमितों की संख्या एक दिन में 26 से 2566 तक पहुंच गई थी। बताते चलें कि 12 जनवरी से अबतक राजधानी के 22 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। हालांकि, इनमें से करीब 85 प्रतिशत किसी न किसी अन्य रोग से ग्रसित थे। कई तो दूसरे रोगों को उपचार कराने पहुंचे वहां उन्हें पता चला कि कोरोना संक्रमित हैं।

संक्रमण बढऩे के बाद लोगों की सतर्कता का असर

पांच दिनों में नए संक्रमितों की संख्या 1,015 से 2,566 पहुंचने के बाद राजधानीवासी सतर्क हुए। वहीं सरकार ने सख्ती शुरू की। इसका नतीजा चार दिन में ही दिखने लगा। 13 जनवरी के बाद से संक्रमण दर तेजी से कम होने लगी। 16 जनवरी को यह घटकर 17.40 प्रतिशत यानी 6 जनवरी के स्तर पर आ गई है।    

  • राजधानी में तीन दिनों से लगातार घट रही संक्रमण दर
  • 23.02 प्रतिशत थी 13 जनवरी को संक्रमण दर
  • 17.40 प्रतिशत रही रविवार को जिले में संक्रमण दर
  • 12 जनवरी से अबतक जिले के 22 संक्रमितों की मौत

मास्क ठीक से पहनें और भीड़ नहीं करें तो और कम होगी रफ्तार

एम्स के कोरोना नोडल पदाधिकारी डा. संजीव कुमार के अनुसार कोरोना के गंभीर लक्षणों से बचने के लिए जहां वैक्सीन जरूरी है, उसी प्रकार संक्रमण से बचाव के लिए मास्क जरूरी है। इसके अलावा भीड़भाड़ वाली जगहों में जाने से बचना। शारीरिक दूरी के साथ हाथों की सफाई का ध्यान रखना ये तीन मंत्र हैं जो कोरोना की रफ्तार को तेजी से कम कर सकते हैं। यदि कोरोना वायरस को नया शरीर आसानी से नहीं मिलेगा तो वह तेजी से कम होगा।

तिथि, जांच,  संक्रमित, संक्रमण दर

  • 5 जनवरी--8275--1015-- 12.26
  • 6 जनवरी--7944--1407-- 17.71
  • 7 जनवरी--8337--1314-- 15.76
  • 8 जनवरी--10452--1956-- 18.71
  • 9 जनवरी--9198--2018-- 21.94
  • 10 जनवरी--11931--2566-- 21.51
  • 11 जनवरी--10665--2202-- 20.65
  • 12 जनवरी--10143--2014-- 19.43
  • 13 जनवरी--9882--2275-- 23.02
  • 14 जनवरी--9768--2116-- 21.6
  • 15 जनवरी--11971--2305-- 19.05
  • 16 जनवरी--9050--1575-- 17.40

Edited By Shubh Narayan Pathak

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept