वैशाली में दहेज के लिए फिर जलाकर ली जान, दो लाख न मिलने पर किया आग के हवाले

वैशाली जिले के गोरौल में महिला को जलाकर मार डालने की घटना की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि एक और वारदात सामने आ गई। जिले के सराय थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर गांव में एक महिला को दहेज के लिए ससुराल के अन्य सदस्यों ने जलाकर मार डाला।

Akshay PandeyPublish: Tue, 12 Jan 2021 03:21 PM (IST)Updated: Tue, 12 Jan 2021 03:21 PM (IST)
वैशाली में दहेज के लिए फिर जलाकर ली जान, दो लाख न मिलने पर किया आग के हवाले

संवाद सूत्र,सराय: वैशाली जिले के गोरौल में महिला को जलाकर मार डालने की घटना की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि एक और वारदात सामने आ गई। जिले के सराय थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर गांव में एक महिला को दहेज के लिए ससुराल के अन्य सदस्यों ने जलाकर मार डाला। हत्या का यह आरोप के पति एवं ससुराल के सदस्यों पर लगा है। महिला को मौत के घाट उतारने के बाद ससुराल के सभी सदस्य फरार हो गए। इस संबंध में पिता ने सराय थाने में हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई है। दर्ज प्राथमिकी के आलोक में सराय थाने की पुलिस मामले की गहन जांच में जुट गई है।

इस घटना के संबंध में महिला के पिता माणिकपुर पकड़ी गांव निवासी स्व. राम सेवक राय के पुत्र नागेशवर राय ने सराय थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है। दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि उन्होंने अपनी पुत्री की शादी चार साल पूर्व हिन्दू रीति-रिवाज के साथ मुकुंदपुर गांव निवासी गणेश राय के पुत्र अनुज कुमार के साथ धूमधाम से की थी। शादी में उपहार के रूप में सोना-चांदी का गहना, एक बाइक, दो लाख रुपये नगद एवं फर्नीचर इत्यादि सामान दिया था। शादी के बाद उनकी पुत्री अपने ससुराल मुकुंदपुर गांव चली गई। ससुराल में तीन से चार महीने ठीक-ठाक रही।

उसके बाद उनकी पुत्री के पति अनुज कुमार राय, ससुर गणेश राय, सास भगवतीया देवी, भसुर पंकज राय, देवर अमोद कुमार, गोतनी रेखा देवी एवं पूनम देवी ने मिलकर दहेज में दो लाख रुपये व्यवसाय करने के लिए मांग करने लगे और बार-बार पुत्री के साथ मारपीट की जाती रही। उसे प्रताड़ित कर पिता से दहेज में दो लाख रुपये मांगकर लाने का दबाव देते हुए खाना-पीना भी बंद कर दिया। एक कमरे में ले जाकर बंद कर दिया। बीते पांच दिसम्बर को उनकी पुत्री सीमा कुमारी ने फोन कर बताया कि आप मेरे ससुराल आइए नहीं तो मेरे ससुराल वाले जान से मार देंगे।

बताया है कि सूचना के बाद अगले दिन अपने पुत्र विकास कुमार, दामाद संजीत कुमार के साथ अपनी पुत्री के ससुराल पहुंचे तो उसके घर पर कोई नहीं था। दरवाजे पर ताला लगा था। अगल-बगल के लोगों से पूछताछ की लेकिन मेरी पुत्री के बारे में किसी ने कुछ भी नहीं बताया। तब मैंने सराय थाना में पहुंचकर प्राथमिकी दर्ज कराई। मुझे यकीन है कि मेरी पुत्री की ससुरालवालों ने मिलकर साजिश के तहत आग लगाकर जान से मार दिया है और शव को कहीं छिपाकर घर से फरार हो गए हैं। दर्ज प्राथमिकी के आलोक में सराय थाना की पुलिस मामले की गहन जांच में जुट गई है। 

Edited By Akshay Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept