This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

चलती गाड़ी पर मारा पत्थर, फिर सीने में दाग दी गोली

सोनपुर के जूनियर इंजीनियर वीरमणि की गोली मारकर हत्या मामले में सारण पुलिस को मौके

JagranTue, 12 Dec 2017 01:33 AM (IST)
चलती गाड़ी पर मारा पत्थर, फिर सीने में दाग दी गोली

पटना । सोनपुर के जूनियर इंजीनियर वीरमणि की गोली मारकर हत्या मामले में सारण पुलिस को मौके से कई अहम साक्ष्य मिले हैं। प्रारंभिक अनुसंधान में पुलिस को जानकारी मिली है कि चलती गाड़ी पर बदमाशों ने पत्थर फेंके, ताकि चालक नियंत्रण खो दे। इसके बाद पिस्तौल की बट से शीशा तोड़ दिया। पहली गोली सीने में बाई तरफ मारी गई, लेकिन शर्ट की जेब में मोबाइल होने के कारण गोली शरीर में नहीं लगी। वह मोबाइल में अटक गई। वीरमणि ने सीट बेल्ट लगा रखा था। जब तक वह कुछ समझ पाते बदमाशों ने दूसरी गोली सीने में सटाकर मारी, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। बदमाश किसी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहते थे, इसलिए उन्होंने सीने में ही एक गोली और दाग दी। घटना की जानकारी पाकर हिलसा विधायक शक्ति सिंह यादव और सोनपुर विधायक रामानुज राय मौके पर पहुंचे। पुलिस ने वीरमणि के बहनोई अमरेंद्र कुमार का बयान दर्ज किया है।

पांच दिन से इस्तेमाल कर रहे थे पूर्व मुखिया की कार

पूर्व मुखिया निलेश प्रसाद के मुताबिक तीन दिसंबर को रांची में वीरमणि के चालक ने उनकी कार को दुर्घटनाग्रस्त कर दिया था। वह पांच दिन पहले से निलेश की कार इस्तेमाल कर रहे थे। रोज की तरह वह सोमवार की शाम छह बजकर दस मिनट पर एनएच 19 के रास्ते पटना लौट रहे थे। तभी बाइक सवार बदमाशों ने हमला बोल दिया। घटना शिव बच्चन सिंह चौक और मेहरू नदी पुल के बीच हुई। कार में वह अकेले थे। मौके से पुलिस ने एक खोखा भी बरामद किया है। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के छपरा सदर अस्पताल लिए भेज दिया है।

एक साल पहले हुई थी शादी

कुर्जी गेट नंबर 68 निवासी शकलदेव राय के तीन बेटे हैं, जिनमें वीरमणि सबसे छोटे थे। वीरमणि के बड़े भाई मनोज रेलवे में सेवारत हैं। वर्तमान में वह इलाहाबाद में पदस्थापित हैं। वहीं मंझले भाई धर्मेद्र दिल्ली के मैक्स अस्पताल में काम करते हैं। धर्मेद्र की शादी पिछले साल 22 नवंबर को हुई थी। ठीक दो दिन बाद 24 नवंबर को वीरमणि की शादी दानापुर की रहने वाली नीतू से हुई। वह 2015 से सिंचाई विभाग में कार्यरत थे। इधर, हत्या की खबर सुनकर घर में कोहराम मच गया। आनन-फानन में लोग सोनपुर के लिए कूच कर गए। निलेश भी वहां पहुंचे। उन्होंने बताया कि वीरमणि मिलनसार और सौम्य स्वभाव के व्यक्ति थे।

---------------------

बयान :

हत्या को जमीनी रंजिश और आपसी विवाद से जोड़कर देखा जा रहा है। वीरमणि के साथ काम करने वाले लोगों से पूछताछ की गई है। फिलहाल घटना का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। सभी बिंदुओं पर तफ्तीश जारी है।

- हरकिशोर राय, सारण एसपी।

पटना में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!