This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

प्रभातफेरी से गुरुनानक देव की सात दिवसीय जयंती शुरू, दूसरे दिन जो बोले सो निहाल से गूंजी सिटी Patna News

गुरु नानक देव जी महाराज की जयंती पर राजधानी के तख्त श्रीहरिमंदिर में सात दिवसीय समारोह बुधवार से शुरू हो गया है।

Akshay PandeyThu, 07 Nov 2019 09:07 AM (IST)
प्रभातफेरी से गुरुनानक देव की सात दिवसीय जयंती शुरू, दूसरे दिन जो बोले सो निहाल से गूंजी सिटी Patna News

पटना, जेएनएन। सिख पंथ के प्रथम गुरु नानक देव जी महाराज की जयंती पर राजधानी के तख्त श्रीहरिमंदिर में सात दिवसीय समारोह शुरू हो गया। आयोजन के तहत पहले दिन बुधवार की सुबह पांच बजे तख्त साहिब परिसर से प्रभातफेरी निकाली गई। यह प्रभातफेरी गोविंद घाट से झाउगंज गली होते अशोक राजपथ, कचौड़ी गली, दीरा रोड होते काली स्थान बाललीला गुरुद्वारा पहुंची। वहीं दूसरे दिन गुरुवार को दानापुर हांडी साहब की ओर से प्रभातफेरी निकली।

बाललीला गुरुद्वारा में बाबा गुरविदर सिंह ने पंज-प्यारे का स्वागत किया। प्रभातफेरी में शामिल सिख श्रद्धालु बाललीला गुरुद्वारा में नतमस्तक होकर कथा-प्रवचन श्रवण किया। कथावाचक ने प्रथम गुरु नानक देव की जीवनी पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वर्तमान में गुरु नानक देव जी के संदेश प्रासंगिक हैं। कथा प्रवचन के बाद प्रभातफेरी बाललीला गुरुद्वारा से हरिमंदिर गली तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब लौटी। प्रभातफेरी में शामिल महिलाएं, बच्चे-बच्चियां एवं पुरुष शबद कीर्तन करते चल रहे थे।

बोले सो निहाल, सत श्री अकाल के नारों से तख्त साहिब के आसपास का इलाका गूंज रहा था। प्रबंधक समिति के महासचिव सरदार महेंद्रपाल सिंह ढिल्लन ने बताया कि गुरुनानक देव के प्रकाश पर्व पर विशेष कीर्तन व कवि दरबार में संगतें निहाल होंगी। महासचिव के अनुसार गुरुनानक देव जयंती का मुख्य समारोह 12 नवंबर को तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब में मनाया जाएगा। नौ नवंबर को गुरुनानक देव की जयंती को लेकर गुरु के बाग में त्रिदिवसीय अखंड पाठ रखा जाएगा। वहीं 11 नवंबर को अखंड पाठ की समाप्ति के बाद दोपहर एक बजे गुरु का बाग से निकलेगा नगर कीर्तन।

इधर तख्त श्री हरिमंदिर में 10 नवंबर को अखंड पाठ रखा जाएगा। इसकी समाप्ति 12 नवंबर को मुख्य समारोह के दिन होगी। जयंती में देश-विदेश के सिख श्रद्धालु शामिल होंगे। इस बार विशेष कीर्तन व कवि दरबार में संगत निहाल होंगे। हर रोज निकलेगी प्रभातफेरी प्रबंधक सरदार दलजीत सिंह ने बताया कि गुरुवार को तख्त साहिब से भोर में निकलने वाली प्रभातफेरी बड़ी संगत गायघाट गुरुद्वारा जाएगी। गायघाट गुरुद्वारा दर्शन के बाद प्रभातफेरी हांडी साहिब गुरुद्वारा दानापुर जाएगी। वहां से दर्शन करने के बाद वापस तख्त साहिब वापस आएगी।

आठ नवंबर को प्रात: तख्त साहिब से निकलने वाली प्रभातफेरी अशोक राजपथ मार्ग होते गुरु का बाग जाएगी और वहां से दर्शन कर वापस तख्त साहिब लौटेगी। नौ नवंबर की भोर तख्त साहिब से निकलने वाली प्रभातफेरी अशोक राजपथ होते सोनार टोली गुरुद्वारा का दर्शन कर तख्त साहिब लौटेगी। 10 नवंबर को तख्त श्री हरिमंदिर साहिब से निकली बड़ी प्रभात फेरी अशोक राजपथ, चमडोरिया, पूरब दरवाजा, मोर्चा रोड, पटना साहिब स्टेशन, चौकशिकारपुर, श्री गुरु गो¨वद ¨सह पथ, चौक होते तख्त श्री हरिमंदिर साहिब पहुंचेगी। बड़ी प्रभातफेरी में बैंड-बाजा, हाथी-घोड़ा के साथ-साथ संगत भी रहेंगे। प्रभातफेरी में शामिल महिला-पुरुष, युवा विभिन्न मोहल्लों में शबद कीर्तन करते चलेंगे।

Edited By: Akshay Pandey

पटना में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!