This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

बिहार: पैतृक गांव पहुंचा शहीद हवलदार का शव, अंतिम दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

नगालैंड में उल्‍फा उग्रवादियों से मुठभेड़ में शहीद हो गए हवलदार शशिकांत मिश्र का शव बिहार के भोजपुर स्थित पैतृक गांव पहुंचा। उनके अंतिम दर्शन को जन सैलाब उमड़ पड़ा।

Amit AlokMon, 05 Feb 2018 10:36 PM (IST)
बिहार: पैतृक गांव पहुंचा शहीद हवलदार का शव, अंतिम दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

भोजपुर [जेएनएन]। तीन दिन पूर्व नगालैंड के दीमापुर में उग्रवादियों से मुठभेड़ में शहीद असम रायफल की 32वीं बटालियन के सिगनल मैन हवलदार शशिकांत मिश्र का पार्थिव शरीर सोमवार को उनके पैतृक गांव भोजपुर जिले के शाहपुर प्रखंड के भरौली लाया गया तो लोगों की आंखों से अश्रु की धारा निकल पड़ी। पत्नी स्नेहलता देवी और माता सुनैना देवी पार्थिव शरीर से बिलखते हुए लिपट गई। देर शाम उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

तिरंगे में लिपटे पार्थिव शरीर को आरा स्टेशन से लेकर भरौली तक लाने के दौरान जगह-जगह शहीद शशिकांत अमर रहे के नारे लग रहे थे। पैतृक घर पर सेना और प्रशासन के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर के साथ शस्त्रों की सलामी दी। उनका अंतिम संस्कार बक्सर के चरित्रवन स्थित गंगानदी के तट पर किया गया।

पिता को बड़े पुत्र शिवांश मिश्र ने मुखाग्नि दी। बेटों के आंसू थम नहीं रहे थे। शहीद के पिता पूर्व सैनिक इंद्रदेव मिश्र के आंसू भी रुकने का नाम नही ले रहे थे।

Edited By: Amit Alok

पटना में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!