बिहार से लेकर राजस्थान तक हो रही बारिश, पटना में बिगड़ा मौसम; जानिए कब मिलेगी राहत

Bihar Weather Update बिहार में बिगड़ा मौसम पटना में सुबह से ही बूंदाबांदी पूरे राज्‍य में बारिश और ओलावृष्टि के आसार पश्चिमी विक्षोभ की चपेट में पूरा प्रदेश 7.5 डिग्री सेल्सियस के साथ गया राज्य का सर्वाधिक ठंडा स्थान फारबिसगंज में अधिकतम तापमान 24.2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड

Shubh Narayan PathakPublish: Sun, 23 Jan 2022 06:15 AM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 06:15 AM (IST)
बिहार से लेकर राजस्थान तक हो रही बारिश, पटना में बिगड़ा मौसम; जानिए कब मिलेगी राहत

पटना, जागरण संवाददाता। Bihar Weather Update: बिहार में पश्चिमी विक्षोभ के दस्तक देने से रविवार और सोमवार को बारिश के आसार बन गए हैं। मौसम विज्ञानियों (Mausam Update) का कहना है कि अगले दो दिनों में प्रदेश में बारिश (Rain Alert for Bihar) के साथ-साथ बिजली गिरने (Lightening) और ओलावृष्टि (Snowfall) के भी आसार हैं। बारिश के बाद प्रदेश में कोहरा एवं ठंड का प्रभाव और बढ़ जाएगा। शनिवार को पश्चिमी विक्षोभ के कारण राजस्थान से लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक बारिश होती रही। साथ ही पश्चिम से आने वाली हवा अपने साथ बादल एवं काफी मात्रा में नमी लेकर आ रही हैं।

शनिवार को गया रहा राज्‍य का सबसे ठंडा शहर

शनिवार को गया राज्य का सर्वाधिक ठंडा स्थान रहा, वहां पर न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। फारबिसगंज में अधिकतम तापमान 24.2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। पटना मौसम विज्ञान केन्द्र के विज्ञानी संजय कुमार का कहना है कि वर्तमान में पश्चिमी विक्षोभ की चपेट में पूरा उत्तर भारत है। विक्षोभ के कारण ही वर्तमान में प्रदेश के विभिन्न भागों में बूंदाबांदी हो रही है। रविवार को इसमें और तेजी आने की उम्मीद है।

चार से छह किलोमीटर की गति से चल रही हवा

मौसम विज्ञानी के अनुसार रविवार को प्रदेश के पश्चिमी भाग में अच्छी बारिश हो सकती है। वहीं, सोमवार को प्रदेश के पूर्वी भाग में भी बारिश हो सकती है। मंगलवार एवं बुधवार को प्रदेश में घना कोहरा छा सकता है। बारिश के साथ ही प्रदेश में ठंड में वृद्धि हो जाएगी। वर्तमान में प्रदेश में चार से छह किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवा चल रही है। प्रदेश में फिलहाल अरब सागर एवं बंगाल की खाड़ी दोनों जगहों से भारी मात्रा में नमी आ रही है, जिससे घने बादल छाए हुए हैं।

गेहूं को फायदा, आलू और मसूर को नुकसान

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि जाड़े में पश्चिमी विक्षोभ आना एक सामान्य घटना है। हर वर्ष इस मौसम में पश्चिमी विक्षोभ आने से प्रदेश में बारिश होती है। उधर, कृषि विज्ञानी एवं आत्मा के परियोजना निदेशक श्याम बिहारी सिंह का कहना है कि वर्तमान में होने वाली बारिश से गेहूं सहित रबी की अधिकांश फसलों को इस बारिश से काफी लाभ होगा। वहीं, आलू एवं मसूर को इस बारिश से नुकसान हो सकता है।

Edited By Shubh Narayan Pathak

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept